Home समाचार नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण- प्रधानमंत्री मोदी

नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण- प्रधानमंत्री मोदी

354
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून पर लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून पर हिंसात्मक विरोध प्रदर्शन दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद है। बहस, चर्चा और असहमति लोकतंत्र के आवश्यक अंग हैं, लेकिन सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाना और सामान्य जनजीवन को बाधित करना हमारी प्रकृति का हिस्सा कभी नहीं रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून, 2019 संसद के दोनों सदनों द्वारा भारी समर्थन के साथ पारित किया गया। बड़ी संख्या में राजनीतिक दलों और सांसदों ने इसके पारित होने का समर्थन किया। यह कानून भारत की सदियों पुरानी संस्कृति की स्वीकृति, सद्भाव, करुणा और भाईचारे को दर्शाता है।

उन्होंने कहा कि मैं सभी भारतीयों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि सीएए किसी भी धर्म के नागरिक को प्रभावित नहीं करता है। किसी भारतीय को इस कानून के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है। यह केवल उन लोगों के लिए है, जिन्होंने वर्षों से उत्पीड़न का सामना किया है और भारत के अलावा उनके पास जाने के लिए कोई अन्य जगह नहीं है।

एक अन्य ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि समय की जरूरत है कि हम भारत के विकास के लिए और सभी भारतीय विशेषकर गरीब, दलित और हाशिए पर मौजूद लोगों के सशक्तीकरण के लिए साथ मिलकर काम करें। हम निहित स्वार्थ समूहों को हमें विभाजित करने और देश में अशांति पैदा करने की इजाजत नहीं दे सकते।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह शांति, एकता और भाईचारा बनाए रखने का समय है। सभी से अपील है कि किसी भी तरह की अफवाह और झूठ से दूर रहें।

Leave a Reply