Home समाचार योगी राज में धर्मांतरण रैकेट पर हंटर-खुला एक्ट्रेस सना का निकाह कराने...

योगी राज में धर्मांतरण रैकेट पर हंटर-खुला एक्ट्रेस सना का निकाह कराने वाले मौलाना का राज

1583
SHARE

मौलाना कलीम सिद्दकी को उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण का खेल महंगा पड़ा। जिस मौलाना के सामने अंगुली उठाने में सेक्युलर सरकारें कांपती थी, उसी मौलाना कलीम सिद्दकी को योगीजी की पुलिस ने दबोच लिया। मौलाना को देश में धर्मांतरण गैंग का सबसे बड़ा मास्टरमाइंड बताया जा रहा है।इस मौलाना के तार विदेशों से जुड़े थे।

सामने आएगी मौलाना कलीम की सारी कुंडली

देश में धर्मांतरण गैंग के इस सबसे बड़े खिलाड़ी के मंसूबों की जांच के लिए सुरक्षा एजेंसियों ने पश्चिमी यूपी में डेरा डाल लिया है। जो मौलाना का साथ मिल कर धर्मांतरण गैंग चलाने वालों की कुंडली खंगाल रही हैं। एजेंसियां पता लगाने में जुटी हैं कि मौलाना के गिरोह में कौन-कौन शामिल हैं? और धर्मांतरण और विदेश से होने वाली फंडिंग का पैसा किस-किसके पास पहुंचा।

अभिनेत्री सना खान के निकाह को लेकर चर्चा में आया

मौलाना कलीम सिद्दीकी बॉलीवुड अभिनेत्री सना खान के निकाह को लेकर चर्चा में आया था। निकाह के बाद सना खान ने फिल्मी करियर छोड़ कर इस्लामिक परंपरा से जीवन बिताने का फैसला किया था। लेकिन धर्मांतरण गैंग के खुलासे के बाद मौलाना का असली चेहरा सामने आ रहा है। कलीम सिद्दकी ने इस्लामिक स्कॉलर का चोला पहन रखा था। लेकिन इसके इरादे बेहद ही खतरनाक थे। खबरों के मुताबिक मौलाना सिद्दकी से पूछताछ में कई चौकानें वाले राज सामने आए हैं।

जन्नत का लालच-जहन्नुम का खौफ दिखा धर्म परिवर्तन

यूपी धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस ने खुलासा करते हुए बताया है कि सिद्दीकी ने भारत में एक हजार से ज्यादा लोगों का धर्मांतरण कराया है। मौलाना जन्नत का लालच और जहन्नुम का खौफ दिखाकर लोगों का धर्म परिवर्तन कराता था। सिद्दीकी कई मदरसों में फंडिंग करता था, इसके लिए उसे हवाला के जरिए विदेशों से करोड़ों की फंडिंग मिलती थी। बताया जा रहा है कि सिद्दीकी को बहरीन से 1.5 करोड़ की फंडिंग मिली थी।

मौलाना मदरसों की आड़ में इंसानियत के संदेश देने के बहाने लोगों को जन्नत और जहन्नुम जैसी बातों के जाल में फंसाता था। जन्नत का लालच और जहन्नुम का डर दिखाकर इस्लाम कबूलने के लिए मजबूर करता था। इसके बाद धर्म बदलने वालों को दूसरे लोगों का धर्म बदलने की ट्रेनिंग दी जाती थी। मौलाना सिद्दीकी गैर-मुस्लिमों को गुमराह करने के मिशन में लंबे वक्त से जुटा था।

पढ़ा लिखा मौलाना बना धर्मांतरण गैंग का मास्टरमाइंड

मौलाना कलीम ने मुजफ्फरनगर के इंटर कॉलेज खतौली से विज्ञान में इंटरमीडिएट किया। इसके बाद उसने मेरठ कॉलेज मेरठ से बीएससी की पढ़ाई की, मौलाना ने पहले मेडिकल सेक्टर में भविष्य बनाने की कोशिश की। लेकिन इसके बाद इसने दारुल उलूम नदवतुल उलमा, लखनऊ में दाखिला लिया और इस्लामिक शिक्षा के रास्ते चल पड़ा।

वर्ष 2006 में दिल्ली के शाहीन बाग में डाला डेरा

मौलाना कलीम सिद्दीकी ने वर्ष 2006 में परिवार के साथ दिल्ली के शाहीन बाग में डेरा डाला। इसके बाद अचानक उसके मदरसे का विस्तार शुरू हुआ। मदरसे में देश-विदेश से भी लोग आने शुरू हुए। कलीम सिद्दीकी का मदरसा जामिया इमाम वलीउल्लाह इस्लामिया समय के साथ बड़ा होता गया। मौलाना के मदरसों में अरबी, उर्दू, कुरान और हिब्ज की पढ़ाई करने के लिए उत्तर प्रदेश के अलावा कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तराखंड, राजस्थान, बिहार और झारखंड से सैंकड़ों छात्र आने लगे ।

मौलाना कलीम का विवादों से है पुराना नाता

मौलाना कलीम का मदरसा पहले भी कई बार विवादों में रहा है। यहां पुलिस और खूफिया विभाग की एजेंसी बांग्लादेशी और कश्मीरी छात्रों के संबंध में छानबीन कर चुकी हैं। मौलाना कलीम सिद्दीकी का मदरसा जामिया इमाम वलीउल्लाह इस्लामिया सात वर्ष पहले भी धर्मांतरण के मामले में सुर्खियो में आया था। इसके बाद मेरठ और मुजफ्फरनगर पुलिस ने मदरसे में सर्च अभियान चलाया था। बाद में लापता युवती के अचानक घर पहुंचने पर मामला शांत हो गया । उत्तराखंड के नैनीताल के रहने वाले नितिन पंत ने भी धर्मांतरण के तार मौलाना के फुलत के मदरसे से जुड़े होने की बात कही थी।

मौलाना कलीम के गुनाहों का होगा पूरा हिसाब 

उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण गैंग चलाने वाले मौलाना कलीम सिद्दीकी पर इस बार शिकंजा कस चुका है। यूपी एटीएस ने इस मामले में जांच के लिए छह टीमों का गठन किया है। यह टीमें धर्मांतरण मामले की पूरी तरह से जांच करेंगी। तब मौलाना के गुनाहों का पूरा हिसाब होगा।

उत्तर प्रदेश में धर्म परिवर्तन गैंग पर योगी सरकार का शिकंजा

यूपी में धर्मांतरण गैंग पर योगी सरकार के कड़े एक्शन का ये पहला मामला नहीं है। इसके पहले भी यूपी एटीएस ने धर्मांतरण गैंग का पर्दाफाश किया था। इस गैंग पर करीब 1000 लोगों के जबरन धर्मांतरण का आरोप है। इस गैंग के दो प्रमुख आरोपी उमर और जहांगीर गिरफ्तार किए जा चुके हैं। इस्लामिक दावाह सेंटर नाम की संस्था की आड़ में महिलाओं और मूक बधिर बच्चों के धर्मांतरण में जुटे थे।

योगी राज में बच नहीं पाएंगे धर्म परिवर्तन के आरोपी 

पुलिस की जांच में पता चला की धर्मांतरण रैकेट चलाने के आरोप में गिरफ्तार उमर और जहांगीर के दावाह सेंटर में देश विदेश से 1 करोड़ से ज्यादा की रकम हवाला के जरिए आई थी। इस मामले में यूपी एटीएस ने नागपुर से 3 और आरोपियों की गिरफ्तारी की। अब मौलाना कलीम सिद्दीकी पर शिकंजे से साफ है कि उत्तर प्रदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ की सरकार, अवैध धर्म परिवर्तन के खेल पर नकेल कसने के लिए कमर कस चुकी है।

Leave a Reply