Home समाचार संविधान की दुहाई देने वाले ही कर रहे इसका विरोध

संविधान की दुहाई देने वाले ही कर रहे इसका विरोध

826
SHARE

पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को ईटी ग्लोबल बिजनेस समिट को संबोधित किया, जहां उन्होंने सरकार के नए नागरिकता कानून (CAA) और जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने जैसे फैसलों की आलोचना करने वालों पर तंज किया। उन्होंने कहा कि सही बात करने वाले आज उन लोगों से चिढ़ते हैं जो ‘सही चीजें करने की राह’ पर आगे बढ़ रहे हैं।

संविधान की दुहाई देने वाले ही इसका विरोध भी कर रहे

ईटी ग्लोबल बिजनेस समिट को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि दुनियाभर के शरणार्थियों के लिए अधिकारों की बात करने वाला गैंग आज पड़ोसी देशों के प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने के भारत के कदम का विरोध कर रहा है

पीएम ने कहा कि जो लोग संविधान की बात करते हैं वही लोग जम्मू-कश्मीर में धारा 370 के अस्थायी प्रावधान को समाप्त करने और भारतीय संविधान को पूरी तरह से अमल में लाने का विरोध करता है। उन्होंने कहा कि सही चीजों को लेकर बात करना गलत नहीं है, लेकिन इन लोगों के मन में उनके लिए खास चिढ़ है जो सही चीजें कर रहे हैं। ऐसे में जब यथास्थिति को समाप्त कर उसमें बदलाव लाया जाता है तो उन्हें इसमें गड़बड़ी दिखती है।

सरकार का काम संचालन सुविधा का विषय नहीं, यह दृढ़ निश्चय की बात है

पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि उनकी सरकार का विकास और कामकाज का संचालन सुविधा का विषय नहीं है, यह दृढ़ निश्चय की बात है। हमें सही चीज करने को लेकर दृढ़ विश्वास है।

हम यथा स्थिति को दूर करने को लेकर दृढ़ प्रतिज्ञ हैं, उन्होंने आगे कहा कि सरकारी सब्सिडी के लाभार्थियों के खातों में सीधे ट्रांसफर से हजारों करोड़ रुपए की बचत हुई है। इसी तरह रेरा कानून से रीयल एस्टेट क्षेत्र को कालेधन से बचाने में मदद हो पाई।

सीडीएस बनाकर हमने यथास्थिति को बदला

पीएम मोदी ने कहा कि हमने चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) बनाकर यथास्थिति को बदला है जिससे हमारे सैन्य बलों का तालमेल बेहतर होगा। भारत सतत वृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है।

सरकार की उपलब्धियां बताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि राजमार्गों के निर्माण की रफ्तार को 12 किलोमीटर प्रतिदिन से बढ़ाकर प्रतिदिन 30 किलोमीटर किया गया है।

ट्रेन लेट होने पर रिफंड करने वाला पहला देश भारत

भारत दुनिया में एकमात्र देश है, जहां ट्रेन के लेट होने पर यात्रियों को पैसे रिफंड किए जाते हैं। 2014 से पहले यहां ट्रेनों का लेट होना आम बात थी। अखबार में खबर भी नहीं छपती थी, क्योंकि लोगों को आदत हो चुकी थी। 2014 के बाद भाजपा सरकार ने इसके लिए खूब काम किया है। छह साल में बड़ा बदलाव आया है।’

हर युग में नए-नए चैलेंज आते हैं

पीएम मोदी ने भारत समेत दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि हर युग में नए-नए चैलेंज आते हैं। इस वक्त कोरोना वायरस आर्थिक जगत के लिए भी चुनौती बना हुआ है। इससे भी हम एकजुटता के विजन से विजय होंगे। पीएम ने कहा कि जब हम सब मिलकर लड़ेंगे तो इस वायरस को हरा देंगे।

 

Leave a Reply