Home नरेंद्र मोदी विशेष थाईलैंड दौरा: प्रधानमंत्री मोदी ने उद्योगपतियों को भारत में निवेश के लिए...

थाईलैंड दौरा: प्रधानमंत्री मोदी ने उद्योगपतियों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित किया

149
SHARE

तीन दिन के थाईलैंड दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आदित्य बिड़ला ग्रुप के स्वर्ण जयंती समारोह में शिरकत की। इस अवसर पर उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने उन्हें भारत आकर निवेश और व्यापार करने का न्योता दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत आने का सबसे अच्छा समय है। भारत में कई चीजें बढ़ रही हैं जबकि कई अन्य चीजों में कमी आ रही है। व्यापार करने में आसानी, जीवनयापन में आसानी, विदेशी निवेश (एफडीआई), वन क्षेत्र, पेटेंट, उत्पादकता, बुनियादी ढांचा बढ़ रहा है। जबकि कर, कर की दरें, लालफीताशाही, भ्रष्टाचार में कमी आ रही है।

पीएम मोदी ने यह भी कहा कि भारत अब पांच ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने का सपना देख रहा है। जब 2014 में सरकार ने कार्यभार संभाला था, तब भारत की इकोनॉमी दो ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की थी। उन्होंने यह भी कहा कि पांच साल में, हमने इसे लगभग तीन ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर तक बढ़ा दिया है। यह मुझे विश्वास दिलाता है कि पांच ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था का सपना जल्द ही एक वास्तविकता होगी।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि हम यहां थाईलैंड की सुवर्णा भूमि पर आदित्य बिड़ला समूह की स्वर्ण जयंती मनाने के लिए एकत्र हुए हैं। यह वास्तव में एक विशेष अवसर है। उन्होंने कहा कि भारत ने पिछले पांच वर्षों में विभिन्न क्षेत्रों में सफलता की कई कहानियां देखी हैं। इसका कारण केवल वहां की सरकारें ही नहीं हैं। भारत ने सामान्य नौकरशाही के तरीके से काम करना बंद कर दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि सालों तक गरीबों पर जो पैसा खर्च किया गया वो वास्तव में उन तक पहुंचा ही नहीं। पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार ने प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के जरिए इस संस्कृति को समाप्त किया है। डीबीटी लाभ को सीधे जरूरतमंद तक पहुंचाने के लिए है। इसने बिचौलियों और अक्षमता की संस्कृति को समाप्त कर दिया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पिछले पांच वर्षों में भारत को 286 बिलियन अमेरिकी डॉलर का एफडीआई प्राप्त हुआ। यह पिछले बीस वर्षों में भारत में आए कुल एफडीआई का लगभग आधा है। कई एजेंसियों की रेटिंग में भारत की वृद्धि दर दिखाई देती है। भारत एफडीआई हासिल करने वाले शीर्ष दस देशों में से एक हैं। उन्होंने कहा कि भारत ने पिछले पांच वर्षों में विश्व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में 79 स्थानों की छलांग लगाई है। यदि किसी एक विशेष चीज की बात करूं जिस पर मुझे गर्व है, तो वह भारत की प्रतिभाशाली और कौशल वाला मानव संसाधन है। कोई आश्चर्य नहीं कि भारत दुनिया के सबसे बड़े स्टार्ट-अप इको-सिस्टम में से एक है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब भारत आगे बढ़ता है, तो दुनिया आगे बढ़ती है। भारत के विकास के लिए हमारी सोच इस धरती को एक बेहतर गृह बनाने जैसी है। इसी जज्बे के साथ हम अपनी नीतियों के जरिए आपसी संपर्क बढ़ाने पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। थाईलैंड के पश्चिमी तट पर बंदरगाहों और भारत के पूर्वी तट पर बंदरगाहों के बीच सीधे संपर्क से हमारी आर्थिक भागीदारी बढ़ेगी।

उन्होंने कहा कि सुगम निवेश और व्यवसाय के लिए भारत आएं। नया करने और शुरूआत करने के लिए भारत आएं। कुछ बेहतरीन पर्यटक स्थलों और लोगों के गर्मजोशी से भरे आतिथ्य का अनुभव करने के लिए भारत आएं। भारत आपका खुली बांहों से स्वागत करता है।

Leave a Reply