Home समाचार कांग्रेस और उसके सरपरस्तों ने काबुल एयरपोर्ट से 150 भारतीयों के अपहरण...

कांग्रेस और उसके सरपरस्तों ने काबुल एयरपोर्ट से 150 भारतीयों के अपहरण की फैलाई झूठी खबर, मोदी सरकार को घेरने का था मकसद

906
SHARE

कांग्रेस और उसके सरपरस्त मोदी सरकार को बदनाम करने और घेरने के लिए हमेशा मौके की तलाश में रहते हैं। जैसे ही मौका मिलता है झूठी कहानियां गढ़ कर मोदी सरकार पर हमला शुरू कर देते हैं। इस बार वे अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे और उससे उत्पन्न अफरा-तफरी को सियासी फायदे के लिए इस्तेमाल करने की कोशिश में लग गए हैं। विदेश मंत्रालय के खंडन के बावजूद उन्होंने काबुल एयरपोर्ट से 150 भारतीयों के तालिबान द्वारा अपहरण करने की झूठी खबरें फैला दीं। इसके बाद सोशल मीडिया पर कांग्रेस, लिबरल और सेक्युलर गैंग प्रोपेगेंडा फैलाने में लग गया।

कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने अपहरण की झूठी खबरों को आधार बनाकर मोदी सरकार पर हमला शुरू कर दिया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि तालिबान द्वारा 150 भारतीयों के अपहरण के बारे में परेशान करने वाली खबर आ रही है। बीजेपी सरकार ने अमेरिकी वापसी और इसके संभावित परिणामों के बारे में पहले से तैयारी नहीं की। क्या बीजेपी सरकार तालिबान के हृदय परिवर्तन का इंतजार कर रही थी?

वहीं दिल्ली प्रदेश कांग्रेस सेवा दल भी प्रोपेगेंडा फैलाने में पीछे नहीं रहा। उसने ट्वीट किया अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता पर कब्ज़ा करने के बाद तालिबान ने काबुल के पास से 150 लोगों का अपहरण कर लिया है,जिनमें ज़्यादातर भारतीय हैं! हमारे प्रखर रूप से बोलने वाले प्रधानमंत्री जी क्या कुछ अभी तक बोले हैं इस पर? सरकार भारतीयों को छुड़ाने के क्या इंतज़ाम कर रही है?

देश में खौफ का माहौल उत्पन्न करने के लिए सोशल मीडिया पर मोदी सरकार विरोधी गैंग सक्रिय हो गया। उनमें अपहरण की फेक न्यूज फैलाने की होड़ लग गई। मुस्लिम शिरजाद नाम के एक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया कि काबुल के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से करीब 150 भारतीयों का अपहरण कर लिया गया। उन्हें इसकी पुष्टि भारतीय दूतावास में काम करने वाले एक अफगानी कर्मचारी ने की है।

इन झूठी खबरों का पर्दाफाश करने के लिए विदेश मंत्रालय को बयान जारी करना पड़ा। विदेश मंत्रालय ने कहा कि अफगानिस्‍तान की राजधानी काबुल में करीब 150 भारतीयों के अपहरण की खबर गलत है। सभी भारतीय पूरी तरह सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि हम भारतीयों की सुरक्षा के वादे और इसमें सहयोग के लिए स्थानीय अधिकारियों का धन्यवाद करते हैं।

वहीं तालिबान ने भी CNN News18 से बातचीत में इन आरोपों का खंडन किया है। स्थानीय मीडिया के मुताबिक, तालिबान से जुड़े सूत्रों ने बताया कि हमने काबुल एयरपोर्ट के पास किसी भारतीय को अगवा नहीं किया, बल्कि उन्हें दूसरे सुरक्षित रास्ते से एयरपोर्ट ले गए हैं। तालिबान के प्रवक्ता अहमदुल्ला वसीक ने कहा कि अपहरण करने जैसी खबर पूरी तरह से गलत और निराधार है। उन्होंने बताया कि सुरक्षित तरीके से दूसरे गेट से लोगों को एयरपोर्ट के अंदर पहुंचाया गया है।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में बिगड़ते हालात के बीच मोदी सरकार भारतीयों को वहां से निकालने के लिए हरसंभव कोशिश कर रही है। खबर है कि शनिवार को भारतीय वायुसेना का सी-130जे विमान 85 भारतीयों को लेकर काबुल से उड़ान भरा। भारतीय नागरिकों को निकालने में काबुल में मौजूद भारतीय सरकारी अधिकारी मदद कर रहे हैं। बीते मंगलवार को ही करीब 120 भारतीय नागरिकों को लेकर वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर भारत पहुंचा था।

 

Leave a Reply