Home समाचार FIR दर्ज होने के बाद फंसता देख मुनव्वर राना के तेवर पड़े...

FIR दर्ज होने के बाद फंसता देख मुनव्वर राना के तेवर पड़े ढीले, तालिबान प्रेम छोड़ पीएम मोदी से करने लगे मोहब्बत

1380
SHARE

मशहूर शायर मुनव्वर राना को महर्षि बालमीकि से तालिबान की तुलना करना भारी पड़ता दिख रहा है। शुक्रवार (20 अगस्त, 2021) को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में उनके खिलाफ महर्षि बालमीकि का अपमान करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया। इसके बाद खुद को फंसता हुआ देख मुनव्वर राना का तालिबान प्रेम अचानक गायब हो गया और सुर भी बदल गए। उन्होंने कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुहब्बत करते हैं। तालिबान से ज्यादा हथियार भारत के माफियाओं के पास होने वाले उनके बयान को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए।

‘आजतक’ की अंजना ओम कश्यप से एक्सक्लूसिव बात करते हुए मुनव्वर राना ने कहा कि मैं मोदी जी को पसंद करता हूं। मेरी कमजोरी है कि मैं मोदी जी से मुहब्बात करता हूं। जब मैंने अवॉर्ड वापस किया था, तब वे मुझसे काफी नाराज थे, लेकिन मेरी मां के निधन पर उन्होंने मुझे पत्र लिखा था और मैं काफी शर्मिंदा हुआ। जब मैं मोदी जी से मिलने गया तो मैंने कहा कि सर, मैं इसलिए मिलने आया हूं कि आपने जब मेरी मां के निधन पर जब पत्र लिखा तो मैं शर्मिंदा हुआ। मैं नहीं आ पाया था। 

गौरतलब है कि वाल्मीकि समाज के नेता पीएल भारती की तहरीर पर लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में राना के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने और अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। पीएल भारती ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि मुनव्‍वर राना ने महर्षि वाल्मीकि की तुलना तालिबान से करके देश के करोड़ों दलितों का अपमान किया है और हिंदू आस्था को चोट पहुंचाई है।

भारती के अलावा आंबेडकर महासभा के महामंत्री अमरनाथ प्रजापति ने भी राना के खिलाफ तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। शुक्रवार को डॉक्टर आंबेडकर महासभा ट्रस्ट के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष डॉक्टर लालजी प्रसाद निर्मल ने एक बयान में कहा कि मुनव्वर राना की टिप्पणी से दलित खुद को अपमानित महसूस कर रहे हैं।

Leave a Reply