Home समाचार राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी को मोदी सरकार ने दी मंजूरी, अब सरकारी नौकरी...

राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी को मोदी सरकार ने दी मंजूरी, अब सरकारी नौकरी के लिए देनी होगी सिर्फ एक परीक्षा

727
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ऐतिहासिक कदम उठाते हुए केंद्र सरकार की नौकरियों के लिए राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) के गठन को मंजूरी दे दी है। अभी उम्मीदवारों को सरकारी नौकरी के लिए अलग-अलग भर्ती एजेंसियों द्वारा संचालित परीक्षाओं में शामिल होना पड़ता है। उम्‍मीदवारों को इसके लिए अलग-अलग शुल्‍क का भुगतान करना पड़ता है और इन परीक्षाओं में भाग लेने के लिए लंबी दूरियां तय करनी पड़ती है। इन परीक्षाओं में औसतन 2.5 करोड़ से 3 करोड़ उम्मीदवार शामिल होते हैं।

अब रेलवे, बैंकिंग और स्टॉफ सेलेक्शन के लिए अलग-अलग नहीं बल्कि सिर्फ एक ही परीक्षा देनी होगी। ये उम्मीदवार एक सामान्य योग्यता परीक्षा (Common Eligibility Test) में केवल एक बार शामिल होंगे और उच्च स्तर की परीक्षा के लिए किसी या इन सभी भर्ती एजेंसियों में आवेदन कर पाएंगे। राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (National Recruitment Agency) ग्रुप बी और सी (गैर-तकनीकी) पदों के लिए उम्‍मीदवारों की सामान्य योग्यता परीक्षा (सीईटी) लेगी। एनआरए एक बहु-एजेंसी निकाय होगी जिसमें रेलवे मंत्रालय, वित्त मंत्रालय/वित्तीय सेवा विभाग, एसएससी, आरआरबी और आईबीपीएस के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

इसके लिए देश के प्रत्येक जिले में कम से कम एक परीक्षा केन्द्र बनाया जाएगा, इससे दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले उम्मीदवारों को काफी आसानी होगी। 117 आकांक्षी जिलों में परीक्षा केंद्र बनाने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा जिससे आगे चलकर उम्मीदवारों को अपने घर से पास परीक्षा केन्द्रों तक पहुंचने में आसानी हो। इससे दूर-दराज के क्षेत्र में रहने वाले उम्मीदवार भी परीक्षा में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित होंगे और इस प्रकार भविष्य में केन्द्र सरकार की नौकरियों में उनके प्रतिनिधित्व को बढ़ावा मिलेगा।

अभी उम्मीदवारों को विभिन्न परीक्षाओं में भाग लेने के कारण परीक्षा शुल्क के अतिरिक्त यात्रा, रहने-ठहरने और अन्य चीजों पर काफी खर्च करना पड़ता है। सीईटी जैसी एकल परीक्षा से काफी हद तक खर्च में कमी आएगी। इससे महिला उम्मीदवारों को भी फायदा होगा। अभी ग्रामीण क्षेत्र से आने वाली महिला उम्मीदवारों को भिन्न-भिन्न परीक्षाओं में शामिल होने के लिए कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है क्योंकि उन्हें बहुत दूर वाले स्थानों में परिवहन और ठहरने की व्यवस्था करनी होती है। कभी-कभी उन्हें इन दूरस्थ स्थानों पर स्थित इन केन्द्रों तक पहुंचने के लिए उपयुक्त व्यक्ति को ढूंढना पड़ता है। प्रत्येक जिले में परीक्षा केन्द्रों की अवस्थिति से सामान्य तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों के उम्मीदवारों तथा विशेष रूप से महिला उम्मीदवारों को अधिक लाभ होगा।

वित्तीय और अन्य कठिनाइयों को देखते हुए, ग्रामीण पृष्ठभूमि के उम्मीदवार कई बार परीक्षा नहीं दे पाते हैं। अब राष्ट्रीय भर्ती एजेंसी (एनआरए) के तहत, एक परीक्षा में शामिल होने से उम्मीदवारों को कई पदों के लिए प्रतिस्पर्धा करने का अवसर मिलेगा। इस सामान्य योग्यता परीक्षा (सीईटी) में प्राप्‍त स्कोर परिणाम घोषित होने की तिथि से 3 वर्षों की अवधि के लिए वैध होंगे। वैध उपलब्ध अंकों में से सबसे उच्चतम स्कोर को उम्‍मीदवार का वर्तमान अंक माना जाएगा। इसके साथ ही उम्र सीमा तक सामान्य योग्यता परीक्षा (सीईटी) में भाग लेने के लिए अवसरों की संख्‍या पर कोई सीमा नहीं होगी।

उम्मीदवारों के पास एक ही पोर्टल पर पंजीकृत होने की और परीक्षा केन्द्रों के लिए अपनी पसंद चुनने की सुविधा होगी। उपलब्धता के आधार पर उन्हें परीक्षा केन्द्र आवंटित किए जाएंगे। अभी परीक्षा सिर्फ हिंदी और अंग्रेजी में दे सकते हैं लेकिन अब सीईटी अनेक भाषाओं में उपलब्ध होगा।

Leave a Reply