Home विपक्ष विशेष प्रशांत भूषण मामले में लिबरल लेफ्टिस्टों को करारा जवाब, 100 से अधिक...

प्रशांत भूषण मामले में लिबरल लेफ्टिस्टों को करारा जवाब, 100 से अधिक पूर्व जजों और ब्यूरोक्रेट्स ने जारी किया बयान

1023
SHARE

विवादित वकील प्रशांत भूषण मामले सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाने वालों के खिलाफ सौ से अधिक पूर्व न्यायाधीशों, ब्यूरोक्रेट्स, पूर्व सैन्य अफसरों और वरिष्ठ थिंकर्स ने पत्र लिखकर बयान जारी किया है। बयान में खुद को सिविल सोसाइटी का ठेकेदार होने का दावा करने वाले एक समूह के लोगों की निंदा की गई है। पूर्व न्यायाधीशों और अफसरों के बयान के मुताबिक कुछ लोगों का एक ग्रुप हमेशा भारत की लोकतांत्रिक संस्थाओं जैसे संसद, चुनाव आयोग और सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ हमला करने का मौका तलाशता रहता है।

लिबरल लेफ्टिस्टों के खिलाफ बयान जारी करने वालों में 15 पूर्व जज, 46 ब्यूरोक्रेट्स और 20 वेटरंस और 22 थिंकर शामिल है। इनका कहना है कि इन लोगों ने 30 जुलाई को “छिपे हुए राजनीतिक एजेंडा वाले भटके हुए समूहों” के खिलाफ राष्ट्रपति को एक याचिका प्रस्तुत की थी, जिसमें कहा गया था कि इन लोगों को “लोकतांत्रिक संस्थानों को बदनाम करने की अनुमति नहीं दी जा सकती”। जाहिर है कि वकील प्रशांत भूषण को पिछले हफ्ते कोर्ट की अवमानना में दोषी करार दिया गया है।

बयान जारी करने वालों में प्रशांत भूषण को भी आड़े हाथ लिया है। इनका कहना है, “ वकील प्रशांत भूषण ने बिना किसी आधार या सबूत के अदालतों की आलोचना की है। यह भी कोई पहला अवसर नहीं है जब उन्होंने ऐसे बयान दिए हैं जो स्वभाव से भड़काऊ थे”।  

Leave a Reply