Home समाचार वाराणसी में पीएम मोदी की बड़ी सौगात, पहली बार आसमान में रोप-वे...

वाराणसी में पीएम मोदी की बड़ी सौगात, पहली बार आसमान में रोप-वे से सफर करेंगे काशीवासी, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

692
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लीक से हटकर काम करने और नई लकीर खींचने के लिए जाने जाते हैं। प्रधानमंत्री मोदी फिर एक नई पहल करते हुए अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी को रोप-वे की बड़ी सौगात देने जा रहे हैं। अब वाराणसी के लोग आसमान में रोप-वे से सफर करेंगे। अभी तक पहाड़ी इलाकों और पर्यटन क्षेत्रों में इसकी सुविधा है, लेकिन सामान्य यातायात में इसका प्रयोग पहली बार वाराणसी में हो रहा है। कैंट स्टेशन से गिरिजाघर तिराहे तक करीब 5 किमी का ये सफर होगा। जिसमें यात्रियों को हर डेढ़ मिनट में ट्रॉली मिलेगी।

केंद्र सरकार की सहयोगी कंपनी वैपकॉस ने सर्वे से जुड़ी फाइनल रिपोर्ट वाराणसी विकास प्राधिकरण को सौंप दी है। इसे यूपी के शहरी आवास विभाग को भेजा जाएगा। वहां से स्वीकृति के बाद रिपोर्ट केंद्र सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ इकोनॉमी में भेजी जाएगी। वहां से मंजूरी मिलते ही योजना पर काम शुरू हो जाएगा। माना जा रहा है कि अक्टूबर के दूसरे हफ्ते तक फाइनल मुहर लगने के बाद टेंडर प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। इस पूरी परियोजना पर करीब 424 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसका पूरा खाका वैपकॉस ने तैयार किया है।

प्रतिदिन 15 से 20 हजार लोग करेंगे सफर

कुल चार स्टेशनों वाले रोप-वे में 221 ट्रालियां होंगी। प्रत्येक ट्रॉली में 10 व्यक्ति बैठकर यात्रा करेंगे। हर स्टेशन पर डेढ़ मिनट में यात्रियों को ट्रॉली मिल सकेगी। यानि हर समय 2210 यात्री हवा में रहेंगे और प्रत्येक डेढ़ मिनट पर एक ट्रॉली यात्रियों से खाली हो जाया करेगी। प्रतिदिन 15 से 20 हजार लोगों को रोप-वे का लाभ मिल सकेगा। कैंट से गोदौलिया की दूरी 14 मिनट में पूरी की जा सकेगी। फिलहाल जाम और अन्य कारणों से इस दूरी को सड़क मार्ग से तय करने में 25 से 30 मिनट का समय लगता है।

यातायात के साथ ही पर्यटन के लिए रोप-वे वरदान

वाराणसी में आज भी तमाम प्रयासों के बावजूद यातायात व्यवस्था लोगों को परेशान करती है। अति सघन आबादी व ट्रैफिक के लिहाज से बेहद ही कठिन मानी जाने वाले वारणासी के लिए रोप-वे संजीवनी साबित होगी। काशी आने वाले पर्यटक यहां के जाम से कहीं न कहीं परेशान दिखाई देते थे लेकिन अब कैंट स्टेशन के बाहर उन्हें सामान के साथ मन्दिर तक पहुंचने की सुविधा मिलेगी। रोप-वे के जरिए पर्यटक बाबा विश्वनाथ धाम और घाट के सुगम दर्शन के साथ ही आसमान से ही काशी का दीदार कर सकें। नए दौर में काशी को नया रूप देने वाला रोप-वे को लेकर लोगों में काफी उत्साह है।

Leave a Reply