Home समाचार ‘पत्रकार’ सामिया लतीफ ने पीएम मोदी को कोरोना होने की दुआ मांगी,वायरल...

‘पत्रकार’ सामिया लतीफ ने पीएम मोदी को कोरोना होने की दुआ मांगी,वायरल होने पर डिलीट किया ट्विटर अकाउंट

1751
SHARE

कोरोना संकट के इस दौर में जहां पूरे विश्व के लोग भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों की प्रशंसा कर रहे हैं और एक-दूसरे के अच्छे स्वास्थ्य की कामना कर रहे हैं, वहीं तथाकथित कुछ सेक्लुयर बुद्धिजीवी पीएम मोदी को कोरोना होने की दुआ मांग रहे हैं। मीडिया की खबरों के मुताबिक कश्मीर स्थित ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की पत्रकार सामिया लतीफ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को कोरोना वायरस से संक्रमित होने की दुआ मांगी।  

दरअसल, गुजरात के कांग्रेस विधायक इमरान खेड़वाला कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इससे पहले ही उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपानी के साथ एक बैठक में हिस्सा लिया था। ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की असिस्टेंट एडिटर लतीफ़ ने इस ख़बर को ट्विटर पर शेयर किया और लिखा कि विधायक इमरान पीएम मोदी या अमित शाह से क्यों नहीं मिले? इस तथाकथित पत्रकार का आशय ये था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह भी कोरोना से संक्रमित हो जाएं। इस ट्वीट के वायरल होने के बाद लतीफ ने अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट कर दिया। 

इससे पहले भी तथाकथित सेक्युलर गैंग के लोग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की मरने की दुआ मांग चुके हैं। 

पूर्व CEC कुरैशी ने की PM मोदी को कोरोना होने की कामना 

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एसवाई कुरैशी ने रिट्वीट के जरिए अप्रत्यक्ष रूप से प्रधानमंत्री मोदी के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की कामना की। जब इसके लिए आलोचना शुरू हुई तो उन्होंने ट्वीट डिलीट कर माफी मांग ली। 

दरअसल, कुरैशी ने एक कट्टरपंथी के ट्वीट को रिट्वीट किया। इस ट्वीट में यूजर ने ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलोनसरो के कोरोना से संक्रमित होने की खबर को शेयर किया था। साथ ही उनकी दूसरी फोटो प्रधानमंत्री मोदी के साथ लगाई थी, जिसमें वे ब्राजील के राष्ट्रपति से हाथ मिलाते नजर आ रहे थे। दोनों नेताओं की यह तस्वीर गणतंत्र दिवस समारोह के आसपास की है। मगर, कोरोना वायरस की खबर के साथ इस तस्वीर को लगाना यूजर की मंशा को साफ दर्शाता है। यह मंशा और भी स्पष्ट उसके कैप्शन से होती है। इसमें वो लिखता है, “दुआ की दरख्वास्त है।”

कुरैशी के रिट्वीट करते ही उन्हें ट्वीटर पर ट्रोल किया जाने लगा। जब उन्हें शेफाली वैद्य जैसी वरिष्ठ पत्रकारों की लताड़ लगी, तो तुरंत उन्होंने इस रिट्वीट को डिलीट कर दिया और सफाई देते हुए लिखा, “मैं इसके लिए माफी मांगता हूं। मैं केवल इस ट्वीट की रिपोर्ट करने की कोशिश कर रहा था। लेकिन मुझसे गलत बटन दब गया।”

जब विवाद बढ़ा तो जिस व्यक्ति ने ट्वीट किया था, उसने भी अपनी सफाई में फिर ट्वीट किया। उसने लिखा कि वह प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा के लिए दुआ मांग रहा था।  

इसके अलावा एनडीटीवी की पत्रकार रहीं सुनेत्रा चौधरी ने 2009 में कहा था कि पीएम मोदी को स्वाइन फ्लू हो जाए तो ये ख़बर उन्हें काफ़ी ख़ुशी देगी। ‘द क्विंट’ के सुप्रतीक चटर्जी ने भी पीएम मोदी के मौत की भविष्यवाणी की थी।

गौरतलब है कि कोरोना के कारण दुनिया में 20 लाख से भी अधिक लोग पीड़ित हैं और 1.3 लाख लोगों की मौत हो चुकी है।  

 

Leave a Reply