Home समाचार 2G की हताशा से निकल कर देश 3G से 4G और 5G...

2G की हताशा से निकल कर देश 3G से 4G और 5G एवं 6G की तरफ तेजी से कदम बढ़ा रहा है: पीएम मोदी

222
SHARE

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत डिजिटल क्रांति की ओर तेजी से कदम बढ़ा रहा है, जहां एक ओर 5G नेटवर्क को लेकर देश में हाईटेक सुविधाओं की स्थापना हो रही है, युवाओं को इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है, वहीं सरकार ने 6G की तैयारी भी शुरू कर दी है।

3G से 4G और अब 5G एवं 6G की तरफ तेजी से कदम बढ़ाए

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण की रजत जयंती समारोह में कहा कि भारत दशक के अंत तक 6G दूरसंचार नेटवर्क शुरू करने का लक्ष्य लेकर चल रहा है, जो अल्ट्रा हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी मुहैया कराएगा। पीएम मोदी ने कहा, ‘2G काल की निराशा, हताशा, करप्शन और पॉलिसी पैरालिसिस से बाहर निकलकर देश ने 3G से 4G और अब 5G एवं 6G की तरफ तेजी से कदम बढ़ाए हैं। ये Transition बहुत Smoothly और Transparency के साथ हो रहा है।‘

5G से हर सेक्टर में ग्रोथ को बल मिलेगा

वहीं देश में 5G तकनीक के विस्तार पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि 5G टेक्नोलॉजी देश के गवर्नेंस के साथ ही Ease of Living और Ease of Doing Business में बड़ा बदलाव लाने वाली है। इससे हर सेक्टर में ग्रोथ को बल मिलेगा और रोजगार के भी अनेक अवसर बनेंगे।

5G से भारत की अर्थव्यवस्था में 450 बिलियन डॉलर का योगदान

जानकारों का कहना है कि आने वाले डेढ़ दशक में 5G, देश की अर्थव्यवस्था को नई ताकत देने वाला है, 5G भारत की अर्थव्यवस्था में 450 बिलियन डॉलर का योगदान करने वाला है। इससे न सिर्फ इंटरनेट के क्षेत्र में बड़े बदलाव होंगे बल्कि प्रगति और Employment Generation की गति भी बढ़ेगी। इसलिए, 5G तकनीक के देश में तेज विकास के लिए सरकार और इंडस्ट्री, दोनों का सहयोग बेहद अहम है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘इस दशक के अंत तक हम 6G सर्विस भी लॉन्च कर पाएं, इसके लिए भी हमारी टास्क फोर्स  काम करना शुरु कर चुकी है।

सरकार के प्रयासों से टेलिकॉम सेक्टर में नई ऊर्जा का संचार

बीते 8 सालों में टेलीकॉम सेक्टर में किए गए सरकार के प्रयासों का जिक्र करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा कि इसने टेलिकॉम सेक्टर में नई ऊर्जा का संचार किया है। ऐसे ही प्रयासों ने इस सेक्टर में एक नया विश्वास पैदा हुआ है। और इसी का नतीजा है कि 2014 से पहले एक दशक से ज्यादा समय में जितना FDI टेलिकॉम सेक्टर में आया है, उससे डेढ़ गुणा से अधिक सिर्फ इन 8 सालों में आया है। उन्होंने कहा, ‘बीते वर्षों में सरकार जिस तरह नई सोच और अप्रोच के साथ काम कर रही है, उससे आप सभी भली-भांति परिचित हैं। अब देश Silos वाली सोच से आगे निकलकर Whole of the Government Approach के साथ आगे बढ़ रहा है।‘

भारत दुनिया के सबसे सस्ता डेटा प्रोवाइडर्स में से एक हैं

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मोबाइल कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए जरूरी था कि कॉल और डेटा महंगा ना हो। इसलिए टेलिकॉम मार्केट में healthy competition को हमने प्रोत्साहित किया। इसी का परिणाम है कि आज हम दुनिया के सबसे सस्ता डेटा प्रोवाइडर्स में से एक हैं।

गावों को तेजी से ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी से जोड़ा जा रहा

पीएम ने जोर देकर कहा कि आज सरकार की कोशिश हर गांव तक ऑप्टिकल फाइबर से जोड़ने की है। साल 2014 से पहले भारत में सौ ग्राम पंचायतें भी ऑप्टिकल फाइबर कनेक्टिविटी से नहीं जुड़ी थीं।आज करीब-करीब पौने दो लाख ग्राम पंचायतों तक ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी पहुंचा चुके हैं।

Leave a Reply