Home केजरीवाल विशेष केजरीवाल के कई ‘लाल’, भ्रष्टाचार, अपराध व हवाला के ‘दलाल’

केजरीवाल के कई ‘लाल’, भ्रष्टाचार, अपराध व हवाला के ‘दलाल’

903
SHARE

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल नोटबंदी का विरोध क्यों कर रहे थे, राज अब जाकर खुल रहा है। दरअसल केजरीवाल के करीबी, नेता व मंत्री हवाला के जरिए करोड़ों रुपए का हेर-फेर कर रहे थे। दुनिया के सामने नया मामला स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का है। आयकर विभाग ने महीनों पहले इस मामले में सत्येंद्र जैन और उनकी पत्नी को नोटिस भेजा था। आयकर विभाग की जांच में चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। ईमानदारी का सर्टिफिकेट बांटने वाले केजरीवाल के मजबूत स्तंभ सत्येंद्र जैन पर 16.39 करोड़ रुपए हवाला के जरिए विभिन्न कंपनियों को मंगाई है। ये वो जानकारी है जिसे आयकर विभाग ने ट्रैस किया है। आयकर विभाग की जांच अभी जारी है। आने वाले दिनों में और भी आंकड़ें आएंगे।

सूत्र बताते हैं कि सत्येंद्र जैन के करीबी कोड वर्ड के साथ नकद में रुपए ट्रेन के माध्यम से कोलकाता भेजते थे और कोलकाता के हवाला कारोबारी छद्म कंपनियों के नाम से जैन की कंपनी में शेयर खरीदने के बहाने पैसे चेक या आरटीजीएस के माध्यम से लौटाते थे। दिल्ली-कोलकाता, ममता-केजरी और नोटबंदी के फैसले के बाद एक सुर, लय और ताल के साथ मोदी का विरोध करना महज संयोग नहीं है। यह एक बहुत बड़ा जाल है, जिसे नोटबंदी के फैसले ने कुतर दिया है। अब एक के बाद एक धागा परत दर परत खुलने लगा है।

हालांकि केजरीवाल के सिपहसलार का नाम हवाला से लेकर अपराधिक मामला कोई नया नहीं है। केजरीवाल, उनकी पार्टी और उनसे जुड़ा हर शख्स जो कहता है, करता उसका उल्टा है। आपके लिए एक रिसर्च वर्क लेकर आए हैं।

खुद की लिस्ट छिपाकर मांग रहे सबसे दानदाताओं की सूची
ईमानदारी का झंडा उठाए केजरीवाल, अपनी ही पार्टी के दानदाताओं की लिस्ट सार्वजनिक नहीं कर रहे हैं। वह अन्य पार्टियों से दानदाताओं की लिस्ट मांग रहे हैं। दानदाताओं की सूची देखने वाला प्राधिकार चुनाव आयोग को भी अरविंद केजरीवाल सही जानकारी नहीं दे रहे। खुद को ईमानदार कहने वाले केजरीवाल क्यों छिपा रहे हैं दानदाताओं की लिस्ट। कहीं नाम छिपाकर हवाला कारोबारियों को केजरीवाल बचा तो नहीं रहे।

आईआरएस रहे केजरीवाल आयकर नियमों को नहीं मानते
आईआरएस अधिकारी रहे हैं केजरीवाल। फिर भी आयकर विभाग के नियमों का पालन नहीं करते हैं। आयकर विभाग ने उन्हें एक के बाद एक चार नोटिस भेजा। एक का भी जवाब नहीं दिया। अब जाकर विभाग ने पांचवा नोटिस भेजा। बहुत सख्त नोटिस है। इसमें आम आदमी पार्टी से पूछा है कि क्यों न एक मान्यता प्राप्त राजनीतिक दल के रूप में आयकर से मिल रही छूट को खत्म कर दिया जाए। ऐसे में, आम आदमी पार्टी की मान्यता स्वघोषित ईमानदार नेता के कारण खतरे में है।

पत्नी का पैर छूने वाले संदीप कुमार सीडी में राशनकार्ड बनाते दिखे
अरविंद केजरीवाल के सच्चे सिपाही संदीप कुमार नें महिला बाल कल्याण मंत्री बनने पर कहा था कि वह रोज सुबह पत्नी का पैर छूते हैं। यह महिलाओं के प्रति उनका सम्मान था, लेकिन संदीप कुमार की एक सीडी मीडिया में आई। उसमें वह महिला के साथ ‘कुछ और ही’ करते नजर आए। केजरीवाल मामले को करीब महीनेभर दबाए रखा। मीडिया में सीडी लीक हुई। उसके बाद बवाल मचा। बर्खास्तगी की देरी में क्या समझा जाए कि केजरीवाल के सह पर दिल्ली की महिला के कल्याण का यह रास्ता संदीप कुमार ने अपनाया था।

भ्रष्टाचार के झंडाबदार केजरी के मंत्री असीम अहमद भ्रष्ट निकले
भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन करने वाले केजरीवाल सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बनते ही बदल गए। भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए जीने-मरने की कसमें खाने वाले केजरीवाल के मंत्री भ्रष्टाचार में संलिप्त दिखे। एक बिल्डर ने केजरीवाल के खाद्य आपूर्ति मंत्री असीम अहमद पर छह लाख रुपए मांगने का आरोप लगाया। केजरीवाल चुप रहे। मीडिया में इसको लेकर खबरें चली। विरोधी पार्टी मंत्री की बर्खास्तगी की मांग को लेकर सड़क पर उतरीं। उसके बाद केजरीवाल की नींद टूटी।

डिग्री पर हायतौबा मचाने वाले केजरीवाल के कानून मंत्री की डिग्री फर्जी
ईमानदारी की सर्टिफिकेट बांटने वाले केजरीवाल के कानून मंत्री जितेंद्र तोमर को फर्जी डिग्री रखने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया। तोमर पर धोखाधड़ी और आपराधिक षडयंत्र रचने समेत कई मामलों में केस दर्ज किया। तब केजरीवाल ने बड़ी ही निर्लज्जता के साथ तोमर का साथ दिया था। तोमर की डिग्री का मामला दिल्ली हाईकोर्ट में चल रहा है। विवि ने डिग्री को गलत बता दिया है।

अपराध से मुक्त राजनीति में केजरी के 21 विधायकों पर क्रिमिनल केस
आम आदमी पार्टी के 21 विधायकों के खिलाफ आपराधिक केस दर्ज है। पार्टी प्रमुख व सीएम अरविंद केजरीवाल, डिप्‍टी सीएम मनीष सिसोदिया के अलावा स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, जरनैल सिंह, अखिलेश त्रिपाठी, गुलाब सिंह, रघुवीर शौकीन, संजीव झा, राकेश गुप्‍ता, राखी बिड़लान, रितुराज, वेद प्रकाश, मनोज कुमार, रामनिवास गोयल, सहीराम पहलवान, प्रकाश जरवाल, अमानतुल्‍ला खान, सोमनाथ भारती, जितेंद्र तोमर, नरेश बाल्‍यान और सोमदत्त के खिलाफ आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं। इसके अलावा करोल बाग के विधायक विशेष रवि के खिलाफ मामले की जांच चल रही है। दर्ज मामलों में विधायकों को आजीवन करावास तक की सजा हो सकती है।

केजरीवाल के पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती की गुंडागर्दी
आम आदमी पार्टी विवादों की पार्टी बन चुकी है। इसके नेता सोमनाथ भारती अकसर विवाद के कारण मीडिया में रहते हैं। सोमनाथ भारती पर अपनी पत्नी के साथ मारपीट करने, कुत्ते से कटवाने के आरोप लगे। उनकी पत्नी ने खुद उनके खिलाफ शिकायत की। सोमनाथ भारती ने विवादों की फेहरिस्त में एक किस्सा और जोड़ लिया। उन्होनें एम्स अस्पताल में घुसकर तोड़फोड़ की। इस मामले में एम्स के डॉक्टरों ने पुलिस को लिखित शिकायत दी है।

विधायक जबरन शारीरिक रिश्ते बनाने का आरोप
केजरीवाल की सेना के एक और सिपाही ओखला विधानसभा सीट से विधायक अमानतुल्ला के खिलाफ भी केस दर्ज हुआ है। उसके खिलाफ दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के जामिया नगर थाने में रिश्तेदार ने शिकायत दी है। शिकायतकर्ता ने अपने पति के खिलाफ दहेज उत्पीड़न और आप विधायक के साथ शारीरिक रिश्ते कायम करने का दबाव बनाने का आरोप लगाया है।

घोटाले के दलदल में केजरी की बस सेवा
दिल्ली में प्रीमियम बस सर्विस आनी थी लेकिन ये योजना घोटालों की भेंट चढ़ गई। घोटाले का आरोप लगा आम आदमी पार्टी के एक अहम मंत्री गोपाल राय पर। नोटबंदी के दौरान भी दिल्ली परिवहन बस सेवा में खूब घोटाले हुए। नोटबंदी के दौरान यात्रियों से मिले छोटे-छोटे नोट लेकिन बैंकों में जमा हुए 500 और 1000 के नोट। आखिर इन नोटों को बीच बिना मंत्री और केजरीवाल की सेना के मिलीभगत के बगैर संभव भी नहीं रहा।

LEAVE A REPLY