Home समाचार पीएम मोदी को जब-जब दी गई गाली, और मजबूत होकर उभरे, चुनाव...

पीएम मोदी को जब-जब दी गई गाली, और मजबूत होकर उभरे, चुनाव में मिली बंपर जीत

407
SHARE

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार अब अंतिम चरण में है। लेकिन कांग्रेस ने एक ऐसी गलती कर दी है जो पहले भी कई कर चुकी है। चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रावण कहकर गाली दी है। पीएम मोदी को जब-जब चुनाव से पहले गाली दी गई है बीजेपी को चुनाव में बंपर जीत मिली है। कांग्रेस ने इससे पहले 2019 लोकसभा चुनाव में पीएम मोदी को गाली दी थी। उस वक्त राहुल गांधी ने कहा था- ‘चौकीदार चोर है’ और भाजपा ने रिकार्ड 303 सीटें जीती थी। गुजरात चुनाव 2017 में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी को ‘नीच किस्म का आदमी’ कहा था। उस वक्त बीजेपी ने 99 सीटों के साथ बहुमत हासिल किया था। 2017 के उत्तर प्रदेश चुनाव में राहुल गांधी ने पीएम मोदी के लिए ‘जवानों के खून की दलाली’ वाला बयान दिया था और भाजपा ने 403 में से 324 सीटों पर कब्जा जमाया था। लोकसभा चुनाव 2014 में कांग्रेस की तरफ से पीएम को सत्ता के लिए ‘जहर की खेती’ करने वाला और ‘चायवाला क्या प्रधानमंत्री बनेगा!’ जैसे बयान दिए गए और भाजपा ने 30 सालों का रिकॉर्ड तोड़ते हुए 283 सीटों पर जीत दर्ज की थी। 2007 के गुजरात चुनाव में सोनिया गांधी ने पीएम मोदी को ‘मौत का सौदागर’ कहा था और भाजपा 117 सीटें जीत कर फिर से सत्ता में आई थी। महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने ठीक ही कहा है कि इस देश के लोग पीएम मोदी को मसीहा मानते हैं। जब भी उन्होंने पीएम मोदी को गाली देने की कोशिश की है, चुनावों में हार का सामना किया है। वे जितना गाली देंगे, उतना ही नीचे गिरेंगे। पीएम मोदी ने एक बार कहा था कि जब अंधेरा बढ़ता है, कमल खिलना शुरू हो जाता है।

गुजरात चुनाव 2022
मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- क्या आपके रावण की तरह सौ मुख हैं

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी के करीबी नेताओं द्वारा देश के सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गाली देने का सिलसिला थम नहीं रहा है। अब कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने प्रधानमंत्री मोदी के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खड़गे ने गुजरात में विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की तुलना रावण से की। खड़गे ने चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि हर बार आपके चेहरे पर ही वोट क्यों दें? क्या आपके रावण की तरह सौ मुख हैं।

लोकसभा चुनाव 2019
राहुल गांधी ने कहा- ‘चौकीदार चोर है’
भाजपा ने रिकार्ड 303 सीटें जीती

पीएम मोदी के ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान पर निशाना साधते हुए, राहुल गांधी ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर पीएम मोदी पर हमला किया और पूछा कि सभी ‘चोरों’ का उपनाम मोदी (नीरव मोदी के संदर्भ में) क्यों है? कांग्रेस नेता ने राफेल लड़ाकू जेट सौदे में कथित भ्रष्टाचार के मामले को भी पीएम मोदी से जोड़ा और कहा, ‘चौकीदार चोर है’। मामला सुप्रीम कोर्ट में जाने के बाद राहुल गांधी को अपने बयान के लिए माफी भी मांगनी पड़ी थी। शीर्ष अदालत ने बाद में राहुल गांधी के खिलाफ दायर अवमानना ​​​​मामले को बंद कर दिया, क्योंकि उन्होंने गलत तरीके से राफेल मामले के आदेश को पीएम मोदी के खिलाफ अपने ‘चौकीदार चोर है’ से जोड़ दिया था। इस बयान का असर ये हुआ कि भारतीय जनता पार्टी को लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचंड जीत हासिल हुई। भाजपा को अकेले दम पर 303 सीटें मिलीं। वहीं एनडीए की बात करें तो ये आकंड़ा 350 से भी ऊपर है। अब तक के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब बीजेपी ने 300 सीटों का आंकड़ा छुआ है। इससे पहले साल 2014 में पार्टी ने 282 सीटों पर कब्जा किया था। जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद मोदी देश के तीसरे और पहले गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने लोकसभा में लगातार दूसरी बार पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाया है।

गुजरात चुनाव 2017
मणिशंकर अय्यर ने कहा- नीच किस्म का आदमी
बीजेपी ने 99 सीटों के साथ बहुमत हासिल किया

2017 के गुजरात विधानसभा चुनावों के दौरान मणिशंकर अय्यर ने नरेंद्र मोदी को ‘नीच किस्म का आदमी’ कहा था। इस पर जमकर बवाल हुआ। 2017 में कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पिछले चुनावों की पराजयों से कोई सीख नहीं ली और पीएम मोदी पर ‘नीच’ का तंज कसा। पीएम मोदी पर यह बयान बाद में कांग्रेस के लिए एक बड़ी गलती साबित हुआ, क्योंकि इसने कांग्रेस को गरीब विरोधी और पिछड़ी जाति विरोधी करार देने में पीएम मोदी की मदद की। पीएम मोदी ने इसे उनकी जाति का अपमान बताते हुए भुनाया। इसका असर यह हुआ कि गुजरात में सत्ता परिवर्तन की तैयारी कर रही कांग्रेस को चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। बीजेपी ने 99 सीटों के साथ बहुमत के आंकड़े को पार कर लिया था, वहीं कांग्रेस को 80 सीटें मिली थी।

उत्तर प्रदेश चुनाव 2017
राहुल गांधी ने कहा- जवानों के खून की दलाली
भाजपा ने 403 में से 324 सीटों पर कब्जा जमाया

उत्तर प्रदेश में 2017 के विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर विवादित बयान दिया था। राहुल ने ‘जवानों के खून की दलाली’ जैसे शब्दों का प्रयोग किया था। राहुल गांधी ने साल 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक पर पीएम नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेते हुए कहा कि हमारे जिन जवानों ने जम्मू कश्मीर में अपनी जान दी, सर्जिकल स्ट्राइक की। आप उनके खून की दलाली कर रहे हो। राहुल ने पीएम मोदी को नसीहत देते हुए ये भी कहा कि सेना ने अपना काम किया है आप अपना काम कीजिए। इसका असर यह हुआ कि भाजपा और सहयोगियों ने विधानसभा चुनाव में 403 में से 324 सीटों पर कब्जा जमा लिया। यहां भाजपा ने 28 साल बाद सत्ता में वापसी की।

लोकसभा चुनाव 2014
सत्ता के लिए ‘जहर की खेती’ और चायवाला क्या प्रधानमंत्री बनेगा!
भाजपा ने 30 सालों का रिकॉर्ड तोड़ 283 सीटों पर जीत दर्ज की

2 फरवरी 2014 को भाजपा के पीएम पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कर्नाटक में आरोप लगाया कि वे सत्ता की ‘भूख’ के लिए हिंसा भड़काने व ‘जहर की खेती’ जैसी विभाजनकारी राजनीति में लिप्त हैं। इसी तरह कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर के बयान भाजपा को बड़ा फायदा पहुंचा चुके हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले अय्यर ने नरेंद्र मोदी के लिए ‘चायवाला’ शब्द का इस्तेमाल किया था। मोदी और भाजपा ने उनके इस बयान को जमकर भुनाया। मणिशंकर अय्यर ने कहा था – मोदी कांग्रेस दफ्तर के बाहर चाय बेचें। वह चायवाला क्या प्रधानमंत्री बनेगा!’…इसका असर यह हुआ कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस इतिहास में सबसे कम 44 सीटों पर सिमट गई। पिछली बार से 162 सीट कम। वहीं भाजपा ने 30 सालों का रिकॉर्ड तोड़ 283 सीटों पर जीत दर्ज की थी। इस चुनाव में भाजपा गठबंधन ने कुल 336 सीटें जीती थीं। 1984 में कांग्रेस के बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा पहली ऐसी पार्टी बनी थी जिसने अपने दम पर सरकार बनाने लायक सीटें जीती थीं।

गुजरात चुनाव 2007
सोनिया गांधी ने कहा- ‘मौत का सौदागर’
भाजपा 117 सीटें जीत कर फिर सत्ता में आई

2007 में जब गुजरात में चुनाव होने वाले थे और राष्ट्रीय मीडिया ने भविष्यवाणी की थी कि कांग्रेस राज्य के चुनाव जीत सकती है। मोदी को पहली बार हरा सकती है, तब कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी ने एक बड़ी गलती कर दी। सोनिया गांधी ने 1 दिसंबर 2007 को गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को “मौत का सौदागर’ कहा था लेकिन यह बयान कांग्रेस के लिए घातक सिद्ध हुआ। कांग्रेस प्रमुख को उम्मीद थी कि 2002 के दंगा पीड़ितों का भारी समर्थन मिलेगा। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। मोदी ने इस बयान को चुनाव प्रचार में मुद्दा बनाया और कांग्रेस को फायदे की जगह नुकसान हुआ। अपने वाक कौशल का उपयोग करते हुए तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोनिया गांधी के बयान को कांग्रेस के खिलाफ एक हथियार के रूप में इस्तेमाल किया। ‘मौत का सौदागर’ वाले बयान का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि पार्टी संसद पर हमला करने वालों को बचाने की कोशिश कर रही है। इसके बाद, कांग्रेस को राज्य में भारी नुकसान हुआ और गुजरात में भाजपा फिर से सत्ता में आई। भाजपा 117 सीटों के साथ एक बार फिर सत्ता में आ गई जबकि कांग्रेस को 59 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा।

मैं रोज 2-3 किलो गालियां खाता हूंः पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 12 नवंबर 2022 को तेलंगाना दौरे पर थे। इस दौरान जनता को संबोधित करते हुए उन्होंने तेलंगाना की सरकार को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा- ‘लोग मुझसे पूछते हैं कि कड़ी मेहनत करने के बाद भी वह क्यों नहीं थकते। मैं इसलिए नहीं थकता क्योंकि मैं रोज 2-3 किलो गालियां खाता हूं। भगवान के आशीर्वाद से मुझे दी गई गालियां न्यूट्रीशन में बदल जाती हैं।’ उनका कहना था कि कुछ लोग निराशा के चलते उनके साथ ऐसा व्यवहार करते हैं। लेकिन इन चीजों को गंभीरता से लेने की कोई खास जरूरत नहीं। प्रधानमंत्री ने कहा कि विकास हमारे लिए 24 घंटे, सातों दिन, 12 महीने, पूरे देश में चलने वाला मिशन है। हम एक प्रोजेक्ट का लोकार्पण करते हैं तो अनेक नए प्रोजेक्ट पर काम शुरू कर देते हैं।

Leave a Reply