Home नरेंद्र मोदी विशेष PM नरेंद्र मोदी के ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ से राजस्थान को मिलेगी बुलेट स्पीड,...

PM नरेंद्र मोदी के ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ से राजस्थान को मिलेगी बुलेट स्पीड, प्रदेश के सात जिलों में बुलेट ट्रेन के लिए बनेंगे 9 स्टेशन

352
SHARE

दिल्ली से अहमदबाद केवल तीन घंटे पहुंचेगी ट्रेन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बुलेट ट्रेन का ड्रीम प्रोजेक्ट जल्द ही आकार लेने लगेगा। इसके लिए नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अधिकारी डीपीआर को अंतिम रूप दे रहे हैं। दिल्ली-अहमदबाद बुलेट ट्रेन का ट्रैक पांच नदियों के ऊपर से गुजरेगा. हाई स्पीड ट्रेन के इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के कुल 875 किलोमीटर लंबे ट्रैक का 75 प्रतिशत हिस्सा अर्थात 657 किलोमीटर ट्रैक राजस्थान में होगा। बुलेट ट्रेन दिल्ली से अहमदबाद 350 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से केवल तीन घंटे पहुंचेगी।
बुलेट ट्रेन का सर्वाधिक फायदा राजस्थान को होगा
राजस्थान में हाई स्पीड ट्रेन का 75 फीसदी एलिवेटेड ट्रैक होगा। बुलेट ट्रेन का सर्वाधिक फायदा राजस्थान को होगा। राजस्थान में ट्रैक पर कुल 9 स्टेशन बनाएं जाएंगे। यह नौ स्टेशन प्रदेश के सात जिलों में होंगे। इनमें अलवर, जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और डूंगरपुर शामिल हैं। राजस्थान में अब जल्द ही बुलेट ट्रेन की शुरुआत होने वाली है। इस प्रोजेक्ट को शुरू करने की कवायद तेज हो गई है। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर जल्द ही इसकी डीपीआर तैयार की जाएगी।

हेलीकाप्टर से सर्वे, पांच नदियों से निकलेगा ट्रेक
अधिकारियों ने मुताबिक इस पूरे प्रोजेक्ट के लिए हेलिकॉप्टर से पूरे ट्रैक का सर्वे किया जाएगा। इस सर्वे के आधार पर रिपोर्ट तैयार की जाएगी। यह प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद दिल्ली से अहमदाबाद का सफर 3 घंटे में ही तय हो सकेगा। इसी तरह यह ट्रैक 5 नदियों के ऊपर से भी गुजरेगा। अधिकारियों ने बताया कि उदयपुर जिले में 1 किलोमीटर से कम दूरी की 8 टनल भी बनाई जाएंगी।

हाई स्पीड ट्रैक भारत में पहली बार तैयार होगा
प्रोजेक्ट के मुताबिक इस हाई स्पीड टैक पर दिल्ली से अहमदाबाद के बीच चलने वाली इस बुलेट ट्रेन की रफ्तार 350 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। सबकुछ ठीकठाक रहा तो पीएम मोदी का यह ड्रीम प्रोजेक्ट राजस्थान में रेल सेवा की दशा और दिशा बदलने वाला साबित होगा। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के अधिकारियों के अनुसार ट्रेन के संचालन में सुरक्षा संबंधित तकनीकी कारणों से पूरा ट्रैक एलिवेटेड बनाया जाएगा। इस तरह हाई स्पीड ट्रैक भारत में पहली बार तैयार होगा. इसलिए अतिरिक्त सावधानी बरती जा रही है।

Leave a Reply