Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी 1 अगस्त को करेंगे दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन हैकाथन...

प्रधानमंत्री मोदी 1 अगस्त को करेंगे दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन हैकाथन ग्रांड फिनाले को संबोधित

278
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 1 अगस्त को दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन हैकाथन ग्रांड फिनाले को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से शाम 7 बजे संबोधित करेंगे। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बताया कि स्‍मार्ट इंडिया हैकेथौन-2020 का समापन समारोह कार्यक्रम तीन अगस्‍त को होगा। इस हैकाथन को मानव संसाधन विकास मंत्रालय, अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई), पर्सिस्टेंट सिस्टम्स और आई4सी द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि देश के सामने मौजूद चुनौतियों के समाधान के लिए नए डिजिटल तकनीकी नवाचारों की पहचान के लिए स्मार्ट इंडिया हैकाथन (एसआईएच) एक खास पहल है। यह डिजिटल उत्पादन विकास की लगातार जारी रहने वाली प्रतिस्पर्धा है, जहां नवाचार समाधान सुझाने के लिए तकनीक क्षेत्र के विद्यार्थियों के सामने समस्याएं रखी जाती हैं। इससे विद्यार्थियों को सरकारी विभाग और निजी क्षेत्र के संस्थानों के सामने आने वाली चुनौतियों पर काम करने का अवसर मिलता है, जिसके लिए वे आउट ऑफ द बॉक्स और विश्व स्तरीय समाधान की पेशकश कर सकते हैं।

एसआईएच 2020 के लिए, कॉलेज स्तर की हैकाथन के माध्यम से जनवरी में विद्यार्थियों के विचारों की पहले स्तर की जांच की जा चुकी है और कॉलेज स्तर पर विजेता दलों को ही एसआईएच के राष्ट्रीय चरण के लिए पात्र माना गया था। राष्ट्रीय स्तर पर विशेषज्ञों और मूल्यांकनकर्ताओं द्वारा विचारों की जांच की गई थी। अब चुने गए दल ही सिर्फ ग्रांड फिनाले में भाग ले सकेंगे।

पोखरियाल ने कहा कि कोरोना के कारण एसआईएच के लिए ग्रांड फिनाले का आयोजन एक विशेष रूप से विकसित प्लेटफॉर्म पर देश भर के सभी भागीदारों को ऑनलाइन जोड़कर किया जाएगा। इस साल, केन्द्र सरकार के 37 विभागों, 17 राज्य सरकारों और 20 उद्योगों की 243 समस्याओं के समाधान के लिए 10,000 से ज्यादा छात्र हिस्सा लेंगे। हर समस्या के लिए 1,00,000 रुपये का पुरस्कार तय किया गया है, जबकि विद्यार्थी नवाचार विषयवस्तु के लिए पहले, दूसरे और तीसरे विजेताओं के लिए 1,00,000 रुपये, 75,000 रुपये और 50,000 रुपये का पुरस्कार है।

एसआईएच के तीन संस्करण हो चुके हैं सम्पन्न
एसआईएच 2017 के पहले संस्करण में 42 हजार विद्यार्थियों ने भाग लिया था, जो संख्या एसआईएच 2018 में बढ़कर 1 लाख और एसआईएच 2019 में बढ़कर 2 लाख हो गई। स्मार्ट इंडिया हैकाथन पहल दुनिया के सबसे बड़े मुक्त नवाचार मॉडल के रूप में सामने आई है।

स्मार्ट इंडिया हैकाथन के परिणाम स्वरूप अभी तक लगभग 331 प्रोटोटाइप विकसित किए गए हैं, 71 स्टार्टअप बनने की प्रक्रिया में हैं, 19 स्टार्टअप्स सफलतापूर्वक पंजीकृत हो चुके हैं। इसके अलावा, विभिन्न विभागों में 39 समाधान लागू कर दिए गए हैं और 64 संभावित समाधानों को आगे विकास के लिए फंड किया गया है।

निशंक ने कहा कि चुने गए आइडियाज को अमल में लाने के लिए एमएचआरडी सचिव सभी सचिवों के साथ समन्वय कायम करेंगे। एसआईएच में मिले आइडियाज का कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए एमएचआरडी समन्वय मंत्रालय के रूप में काम करेगा। 90 प्रतिशत ऐसे आइडिया को लागू करने के लिए विभाग को सौंपा जाएगा, जो स्टार्टअप्स की तरफ से नहीं आते हैं। आवश्यक प्रावधान विकसित करना जरूरी होगी। केन्द्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि वह कैबिनेट सचिव से एसआईएच में विकसित आइडियाज को सचिवों की समिति के भाग के रूप में शामिल किए जाने का अनुरोध करेंगे।

Leave a Reply