Home कोरोना वायरस पीएम मोदी की प्रेरणा से मेक इन इंडिया पोर्टेबल वेंटिलेटर का फैक्ट्री...

पीएम मोदी की प्रेरणा से मेक इन इंडिया पोर्टेबल वेंटिलेटर का फैक्ट्री प्रोडक्शन होगा शुरू

493
SHARE

अगर सही व्यक्ति से प्रेरणा मिले और समय पर सरकार से सहयोग मिले तो देश की युवाशक्ति अपने देशवासी के लिए क्या नहीं कर सकती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मेक इन इंडिया के आइडिया से मिली प्रेरणा से ही आईआईटी कानपुर के एक पूर्व छात्र ने अपनी कौशल से पोर्टेबल वेंटिलेटर बनाने में सफलता अर्जित की है। उनकी स्टार्टअप कंपनी नोका रोबोटिक्स ने पोर्टेबल वेंटिलेटर बनाया है। इस मेक इन इंडिया वेंटिलेटर का फैक्‍ट्री में निर्माण बीडीएल कंपनी करेगी। भारत डायनामिक्स लिमिटेड (BDL) को यह वेंटिलेटर मॉडल काफी पसंद आया और अब कंपनी ने नोका रोबोटिक्स के साथ एक एमओयू साइन किया है। जिसके तहत अब बीडीएल बड़े पैमाने पर वेंटिलेटर का निर्माण करेगी। बता दें कि वायरस से गंभीर रुप से संक्रमित मरीजों को कई बार सांस लेने में परेशानी होती है तो वेंटिलेटर की जरूरत पड़ती है। अगर मरीजों की संख्‍या बहुत ज्यादा हो गई तो देश में भारी संख्‍या में वेंटिलेटर की जरूरत पड़ सकती है।

देसी कौशल से बढ़ेगा पोर्टेबल वेंटिलेटर का उत्पादन

इस बारे में जानकारी देते हुए आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीक ने कहा कि एक कम कीमत वाला वेंटिलेटर विकसित करने की हमारी परियोजना मजबूती से आगे बढ़ रही है और अब, भारत डायनेमिक्स लिमिटेड ने इसमें सहयोग करने का निर्णय लिया है। हम इसका उत्पादन बढ़ाने के साथ ही ‘मेक इन इंडिया’ उत्पाद के रूप में व्यापक रूप से उपलब्ध कर पाएंगे। प्रो अभय करंदीक ने इस पहल के लिए बीडीएल सीएमडी कमोडोर सिद्धार्थ मिश्रा, का आभार व्यक्त किया और कहा, “स्वदेशी डिजाइन और विकास को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इस तरह के और अधिक उद्यमों को आमंत्रित करना चाहता हूं।”

आईआईटी कानपुर के युवा इंजीनियरों ने दिखाया कौशल

बीडीएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कमोडोर सिद्धार्थ मिश्रा ने कहा, “आईआईटी कानपुर के युवा इंजीनियरों ने इतने कम समय में जो हासिल किया है, उससे मैं वास्तव में प्रभावित हूं और मुझे उम्मीद है कि इस तरह के और अधिक इनोवेटिव सॉल्यूशन भारतीय टेक्नोप्रिन्योर से आएंगे। मुझे खुशी है कि बीडीएल ने वेंटिलेटर के निर्माण में आईआईटी कानपुर के साथ भागीदारी की है। इस महत्वपूर्ण समय में राष्ट्र की सेवा करने के लिए पूरी कोशिश करेंगे।”

पीएम मोदी की प्रेरणा से किया टिलेटर को इनोवेट

वेंटिलेटर का निर्माण करने वाले युवा इंजीनियर निखिल कुरेल, हर्षित राठौर और तुषार अग्रवाल ने कहा कि पीएम मोदी के आह्वान के बाद नोका रोबॉटिकसाइड ने आईआईटी कानपुर के प्रो. अमिताभ बंद्योपाध्याय की टीम के सुवरविजन में गंभीर रूप से बीमार COVID-19 रोगियों की जिंदगी बचाने के लिए आवश्यक, सस्ती, स्वदेशी वेंटिलेटर विकसित किया है। गंभीर रोगियों को सहायता प्रदान करने के अलावा, वेंटिलेटर के डिजाइन में फ्रंट लाइन हेल्थकेयर कार्यकर्ताओं को वायरस के संपर्क से बचाने के लिए भी खास विशेषताएं हैं। इस महत्वाकांक्षी परियोजना में डीआरडीओ, डीजीएमएस के अलावा चिकित्सा उपकरण उद्योग के विशेषज्ञों, भारत और विदेश के अनुभवी चिकित्सकों के एक समूह का मार्गदर्शन और इनपुट भी शामिल किए गए हैं।

पूरी कर दी जाएगी सरकार की वेंटिलेटर की मांग

कोविड के खिलाफ बनाए गए एम्‍पावर्ड ग्रुप-3 के चेयरमैन पीडी वाघेला के अनुसार सरकार ने जून तक 75 हजार वेंटिलेटर्स की डिमांड की है, जबकि वर्तमान में भारत के पास 19,398 वेंटिलेटर हैं। सरकार ने 60,884 वेंटीलेटर्स का ऑर्डर दिया है। इसमें से भी केवल 1000 वेंटिलेटर ही विदेश से निर्यात किए जाएंगे। बाकी के सभी मेक इन इंडिया वेंटिलेटर होंगे। भारत में वेंटिलेटर बनाने वाली कंपनियों में बीईएल और सकैनरे को 30 हजार वेंटिलेटर का ऑर्डर दिया गया है। वहीं मारुति सुजुकी एवं एगवा को 10 हजार और एएमटीजेड कंपनी को 13,500 वेंटिलेटर बनाने का ऑर्डर दिया है। इसी शृंखला में अब बीडीएल भी जुड़ गई है।

Leave a Reply