Home नरेंद्र मोदी विशेष MODI@72 : जानिए मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने...

MODI@72 : जानिए मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने कैसे मनाया अपना जन्मदिन

440
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी आज अपना 72वां जन्मदिन मना रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी जैसे प्रधानसेवक के लिए ये दिन भी आम दिनों के समान होता है। प्रधानमंत्री मोदी हर साल अपने जन्मदिन के अवसर पर देशवासियों के बीच होते हैं। जनसेवा का कार्य करते रहते हैं। 7 अक्टूबर, 2001 को नरेन्द्र मोदी ने पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। वे 13 वर्ष गुजरात के मुख्यमंत्री रहे और विगत आठ वर्षों से देश के प्रधानमंत्री हैं। 21 साल से मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक पद पर रहते हुए नरेन्द्र मोदी ने हर साल अनोखे तरीके से अपना जन्मदिन मनाया है।

आइए आपको बताते हैं कि प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेन्द्र मोदी ने हर वर्ष अपने जन्मदिन पर क्या किया और इस खास मौके को किस तरह मनाया-

2021 : पीएम आवास पर सादगी से मनाया जन्मदिन
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने 71वें जन्मदिन के अवसर पर 17 सितंबर, 2021 को प्रधानमंत्री निवास में रहे और अपना जन्मदिन बड़ी सादगी से मनाया। 2020 की तरह उन्होंने दूसरे लोगोंं की शुभकामनाएं स्वीकार की। प्रधानमंत्री मोदी ने भगवान विश्वकर्मा जयंती पर देशवासियों को शुभकामनाएं दी। इसके अलावा जन्मदिन पर रिकॉर्ड टीकाकरण के लिए बधाई देते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा, ‘हर भारतीय आज रिकार्ड संख्या में किये गये टीकाकरण को लेकर गौरवान्वित होगा। मैं टीकाकरण अभियान को सफल बनाने के लिए हमारे चिकित्सकों, नवोन्मेषकों , प्रशासकों, नर्सों, स्वास्थ्य सेवा और अग्रिम मोर्चे के सभी कर्मियों की सराहना करता हूं। कोविड-19 को हराने के लिए टीकाकरण को बढ़ावा देते रहें।’

2020 : पीएम आवास पर सादगी से मनाया जन्मदिन
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने 70वें जन्मदिन के अवसर पर 17 सितंबर, 2020 को किसी कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए। कोरोना संकट की वजह से प्रधानमंत्री निवास में ही बड़ी सादगी से अपना जन्मदिन मनाया। इस दौरान उन्होंने दूसरे लोगोंं की शुभकामनाएं स्वीकार कीं। लोगों ने उनसे पूछा कि उन्हें अपने जन्मदिन पर क्या चाहिए ? प्रधानमंत्री मोदी ने रात 12.38 मिनट पर ट्वीट कर लोगों से मास्क पहनते रहने की अपील की। इसके साथ ही सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करने, दो गज की दूरी रखने की सलाह दी। महालया और विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं दीं।

2019: जन्मदिन पर सरदार सरोवर बांध का दौरा
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने 69वें जन्मदिन के अवसर पर 17 सितंबर 2019 को गुजरात में सरदार सरोवर बांध के किनारे नर्मदा नदी की पूजा की। साथ ही पीएम मोदी ने सरदार सरोवर बांध के पास कैक्टस गार्डन व सफारी पार्क का दौरा किया। इस बाद पीएम मोदी ने केवडिया में एक जनसभा को भी संबोधित किया। अपने जन्मदिन पर प्रधानमंत्री मोदी ने गांधीनगर में अपनी मां हीराबेन का आशीर्वाद लिया। उन्होंने अपनी मां के साथ ही बैठकर दोपहर का खाना भी खाया।

2018: संसदीय क्षेत्र वाराणसी में बच्चों के बीच मनाया जन्मदिन
प्रधानमंत्री मोदी 17 सितंबर, 2018 को अपने 68वें जन्मदिन के अवसर पर संसदीय क्षेत्र वाराणसी में थे। यहां सबसे पहले पीएम मोदी ने बाबा काशी विश्वानाथ की पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद लिया। प्रधानमंत्री मोदी ने स्कूली बच्चों के बीच अपना जन्मदिन मनाया और उनके साथ ‘चलो जीते हैं’ फिल्म भी देखी। इस अवसर पर उन्होंने पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए करोड़ों रुपयों की कई योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया।

2017: सरदार सरोवर डैम का लोकार्पण किया
वर्ष 2017 में प्रधानमंत्री मोदी ने अपने 67वें जन्मदिन के अवसर पर गुजरातवासियों को बड़ा तोहफा दिया। उन्होंने केवडिया जिले में नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन किया। शिलान्यास के 56 साल बाद इस बांध को राष्ट्र के लिए समर्पित किया गया। लोकार्पण समारोह के बाद प्रधानमंत्री ने सौराष्ट्र के अमरेली में एक जनसभा को भी संबोधित किया।

2016: सामाजिक अधिकारिता शिविर को संबोधित किया
वर्ष 2016 में अपने 66वें जन्मदिन के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी गुजरात में थे। इस अवसर पर उन्होंने सबसे पहले गांधीनगर में अपनी मां का आशीर्वाद लिया। इस दिन भी और दिनों की भांति प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्र के प्रति अपने दायित्वों को निर्वहन करते रहे। उन्होंने अपने जन्मदिन के दिन नवसारी में सामाजिक अधिकारित शिविर एवं सहायक उपकरण वितरण समारोह को संबोधित किया।

2015: इंडो-पाक युद्ध की याद में लगी प्रदर्शनी का दौरा किया
प्रधानमंत्री मोदी ने 2015 में अपना 65वां जन्मदिन भी देश सेवा करते हुए ही मनाया। उन्होंने अपने जन्मदिन की शुरुआत 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के 50 वर्ष की याद में आयोजित प्रदर्शिनी का अवलोकन करके किया। इस मौके पर उन्होंने कहा था कि युद्ध के दौरान सशस्त्र बलों की बहादुरी और बलिदान हर भारतीय की स्मृति में रहेगा। उन्होंने ट्वीट किया था, “भारत-पाकिस्तान के युद्ध के स्वर्णिम जयंती पर एक स्मारक प्रदर्शनी शौर्यांजली में समय बिताया। इस युद्ध के दौरान हमारे जवानों की बहादुरी और बलिदान हर भारतीय की याद में है। हमें उन पर बहुत गर्व है।“

2014 : जन्मदिन पर पीएम मोदी ने अपनी मां का आशीर्वाद लिया
2014 में देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी जी अपने 64वें जन्मदिन पर गांधीनगर अपनी मां का आशीर्वाद लेने गए थे। वे अहमदाबाद से 23 किलोमीटर दूर गांधीनगर में अपनी मां हीराबेन से मिलने बगैर किसी सुरक्षा के गए थे। अपने बेटे के जन्मदिन पर मां हीराबेन ने जम्मू-कश्मीर के बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए राहत और बचाव कार्य के लिए 5001 रुपये प्रधानमंत्री राहत कोष में दान दिए थे।

नरेन्द्र मोदी हमेशा अपने जन्मदिन को यादगार बनाने की कोशिश करते रहते हैं। आइए जानते हैं गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने कई मौकों पर अपने जन्मदिन को यादगार और खास बनाने की कोशिश की…

2013 : जन्मदिन पर मां और केशुभाई पटेल का लिया आशीर्वाद

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने 63वें जन्मदिन पर गांधीनगर में मां हीरा बा के आशीर्वाद से दिन शुरू किया। प्रधानमंत्री पद के लिए उम्मीदवार के ऐलान के बाद वह पहली बार मां से मिले थे। इसके बाद वो सीधे अपने पुराने सहयोगी गुजरात परिवर्तन पार्टी के अध्यक्ष केशुभाई पटेल का आशीर्वाद लेने उनके घर पहुंचे।

2012 : 62वें जन्म दिन पर विवेकानन्‍द यात्रा

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 17 सितंबर, 2012 को अपना 62वां जन्मदिन मनाया। जन्‍मदिन के मौके पर विवेकानन्‍द यात्रा पर राजकोट जाने से पहले उन्‍होंने अपनी मां से मुलाकात करके उनका आशीर्वाद लिया। इसके बाद उन्होंने अपने ब्लॉग पर देश की दो बड़ी हस्तियों की तीन चिट्ठियां पोस्ट कीं। उधर पटना में मोदी समर्थकों ने उनके जन्‍मदिन पर केक काटा। 

2011 : जन्मदिन पर 3 दिवसीय सद्भावना उपवास

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी ने अपने 61वें जन्मदिन पर अपनी मां से आशीर्वाद लिया। इस दौरान उनकी मां ने उन्हें आशीर्वाद के रूप में रामचरित मानस भेंट की। इसके बाद गुजरात विश्वविद्यालय के सभागार में 3 दिवसीय सद्भावना उपवास शुरू किया। उन्होंने जो अनशन किया, उसका उद्देश्य सद्भाव और भाईचारा बनाना था, जिसकी व्यापक रूप से चर्चा हुई।

Leave a Reply