Home समाचार SFJ का फर्जी समर्थन पत्र पाकर खुशी से झूमे केजरीवाल के समर्थक,...

SFJ का फर्जी समर्थन पत्र पाकर खुशी से झूमे केजरीवाल के समर्थक, धन्यवाद देकर खालिस्तान के हिमायती होने का फिर दिया सबूत

587
SHARE

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पंजाब में सरकार बनाने के दावे कर रहे हैं। लेकिन जिस आत्मविश्वास के साथ ये दावा किया जा रहा है। उससे हैरानी के साथ कई सवाल उठ रहे थे कि आखिर इस आत्मविश्वास का आधार क्या है? अब इस सवाल का जवाब मिल गया है। दरअसल इस आत्मविश्वास के पीछे खालिस्तानियों का मिल रहा समर्थन है। पंजाब विधानसभा चुनाव से ठीक पहले 17 फरवरी, 2022 को प्रतिबंधित खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस के नाम से सोशल मीडिया पर एक लेटर वायरल हुआ। इसमें आम आदमी पार्टी के पंजाब में मुख्यमंत्री चेहरे भगवंत मान को समर्थन देने की बात कही गई थी।

सिख फॉर जस्टिस का भगवंत मान को समर्थन 

गुरपतवंत सिंह पन्नू के नाम से पंजाबी में जारी इस पत्र में लिखा था, “हम सिख फॉर जस्टिस के सभी सदस्य पंजाब विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी के भगवंत मान को अपने समर्थन की घोषणा करते हैं। यह चुनाव बेहद अहम हैं। अगर आम आदमी पार्टी की सरकार पंजाब में बनती है तो हमें हमारे खालिस्तान के लक्ष्य को पाने में आसानी होगी। हमने 2017 के चुनावों में भी आम आदमी पार्टी का समर्थन किया था। सिर्फ आम आदमी पार्टी है जो हमारे टारगेट को पूरा करवा सकती है। उन्हें वोट दे कर हमें मजबूत करें।”

एसएफजे और आम आदमी पार्टी में मिलीभगत

हालांकि यह लेटर वायरल होने के बाद एसएफजे प्रमुख गुरपतवंत सिंह पन्नू ने वीडियो जारी कर इसे फर्जी करार दिया है। लेकिन फर्जी समर्थन पाकर कई आप समर्थक खुशी से झूम रहे हैं। वे इतने उत्साहित है कि पत्र में खालिस्तान का जिक्र होने के बावजूद उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ा और एसएफजे को धन्यवाद कहा। समर्थकों को पता है कि पन्नू ने लेटर को फर्जी बताकर केजरीवाल के संभावित नुकसान को कम कर दिया और पंजाब में मौजूद खालिस्तान समर्थकों तक अपना संदेश पहुंचा दिया है। भगवंत मान तो सिर्फ मोहरा हैं। अगर पंजाब में सरकार बनी तो उसमें खालिस्तानियों का वर्चस्व होगा।

खालिस्तान के पहले पीएम बनेंगे केजरीवाल ?

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता कुमार विश्वास ने 16 फरवरी, 2022 को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर बड़ा सनसनीखेज आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि केजरीवाल पंजाब में खालिस्तानियों के समर्थक है। केजरीवाल ने एक बार उनसे कहा था कि वे या तो पंजाब के मुख्यमंत्री बनेंगे या स्वतंत्र राष्ट्र खालिस्तान के पहले प्रधानमंत्री बनेंगे। जब कुमार विश्वास ने एसएफजे के रेफरेंडम को आईएसआई से लेकर दुनियाभर के अलगाववादी तत्वों द्वारा फंडिंग की बात बतायी तो केजरीवाल ने चिंता नहीं करने की बात कही। कुमार विश्वास ने दावा किया कि केजरीवाल को खालिस्तानियों की मदद लेने में भी कोई परहेज नहीं है।

केजरीवाल का खालिस्तान कनेक्शन

  • पूर्व डीजीपी केपीएस गिल ने दावा किया था कि आम आदमी पार्टी और खालिस्तानी संगठनों के बीच बेहद करीबी रिश्ते हैं।
  • 2017 में इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन (ISYF) के गुरदयाल सिंह ने केजरीवाल का समर्थन और आप का प्रचार किया था।
  • 2018 में रिपब्लिक टीवी ने खुलासा किया था कि पंजाब चुनाव के दौरान आप को खालिस्तानियों से फंडिंग मिली थी।
  • पंजाब चुनाव प्रचार के वक्त भी केजरीवाल मोगा में हथियार डाल चुके एक आतंकवादी के घर पर रुके थे।
  • AAP की नेता रहीं गुल पनाग ने केजरीवाल के ‘के’ गैंग यानि खालिस्तानियों के बीच रिश्ते का संकेत दिया था।

Leave a Reply