Home विशेष हिंदुओं के खिलाफ लगातार हिंसक घटनाओं से बढ़ा आक्रोश, नुपूर मामले के...

हिंदुओं के खिलाफ लगातार हिंसक घटनाओं से बढ़ा आक्रोश, नुपूर मामले के बाद उदयपुर से कर्नाटक तक निशाने पर निर्दोष हिंदू, मुस्लिम धर्म-गुरु और ‘विद्वान’ बंद आंख से देख रहे तमाशा…ये चुप्पी देश को बांटने वाली!

545
SHARE

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ में भारतीय जनता युवा मोर्चा नेता प्रवीण नेत्तारू की बर्बर हत्या के बाद हिंदुओं में आक्रोश का संचार होना लाजिमी है। बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नुपूर शर्मा मामले के बाद देश में एक के बाद एक जो हिंसक घटनाएं सुनियोजित तरीके से घटित हो रही हैं, उनमें सभी के पीछे एक ही समुदाय के लोगों दोषी निकल रहे हैं। ऐसी घटनाओं के बाद भी मुस्लिम धर्म गुरु, मौलाना, काजी और तथाकथित धार्मिक ‘विद्वानों’ की चुप्पी न सिर्फ हिंसक घटनाओं को बढ़ावा दे रही है, बल्कि यह भी बताती है कि एक अनपढ़ मुस्लिम से लेकर पूर्व उप राष्ट्रपति तक की सोच धर्म के मामले में एक-सी और लड़ाने वाली ही है। हिंदू जनमानस में यह सवाल तेजी से उठ रहा है कि ऐसा आखिरकार कब तक चलेगा? कब तक निर्दोष हिंदू धार्मिक उन्मादियों, उग्रपंथियों और कट्टरतावादी सोच से शिकार होकर खून से लथ-पथ होते रहेंगे ??उदयपुर के गरीब दर्जी कन्हैया की बात लिखी तो कर्नाटक में प्रवीण का बर्बर मर्डर
कर्नाटक पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की जघन्य हत्या के विरोध में प्रवीण ने फेसबुक पर किया पोस्ट था, जिसके कारण उन्हें निशाना बनाया गया। कर्नाटक के प्रवीण नेत्तारू ने 29 जून को एक फेसबुक पोस्ट में लिखा था, ‘एक गरीब दर्जी का गला काटकर वीडियो बना दिया गया, सिर्फ इसलिए क्योंकि उसने एक राष्ट्रीय सोच का समर्थन किया था। अब वे कह रहे हैं कि हमारा अगला टारगेट प्रधानमंत्री मोदी हैं। आप सब अब कहां हैं?’ क्या ऐसा उस राज्य में नहीं हो रहा, जहां आपकी अपनी कृपा पर बनी कांग्रेस सरकार है…अब जीभ नहीं हिलाओगे..? क्या तुम जैसे पाखंडी हमदर्द को उस गरीब की जिंदगी पर रहम नहीं आया ? जवाब दो!

घोर सेकुलरवादियों, कांग्रेसियों और कट्टरपंथियों से प्रवीण ने मांगा था जवाब
भाजयुमो नेता प्रवीण ने अपनी पोस्ट में जिन सबको संबोधित किया वे हैं-कर्नाटक में कांग्रेस आईटी सेल की सचिव वी. शैलजा अमरनाथ, सीएए और एनआरसी की विरोधी नजमा नजीर चिकंनरेले, मेंगलूरु की कांग्रेस नेता और पूर्व पार्षद प्रतिभा कुलई, कांग्रेस की पूर्व सांसद दिव्या स्पंदना और वो सब घोर सेकुलरवादी, जो हमेशा अहिंसा का नाटक करते रहते हैं। लेकिन हिंसा को रोकने के लिए कोई जतन नहीं करते। प्रवीण की बर्बर हत्या नुपूर शर्मा के मामले के बाद कोई पहला-दूसरा केस नहीं है। उदयपुर के जघन्यतम लाइव हत्याकांड के बाद कई राज्यों में इसके खिलाफ कई घटनाएं हो चुकी हैं।हिंदुओं के खिलाफ हिंसा पर धार्मिक नेताओं से लेकर पूर्व उप राष्ट्रपति अंसारी तक की बोलती बंद
इसके बावजूद कांग्रेस ही नहीं मुस्लिम समुदाय, धार्मिक नेताओं, विद्वानों की ओर से ऐसी हिंसा को रोकने के लिए कोई अपील जारी नहीं की गई। यहां तक तक की पूर्व उप राष्ट्रपति मोहम्मद हामिद अंसारी, जिन्हें बीजेपी ने कितना सम्मान दिया, उनकी भी बोलती बंद है। ऐसे में उनमें और एक आम अनपढ़ कट्टर मुस्लिम में क्या फर्क रह जाएगा। अंसारी ने तो कुछ समय पहले ही ‘इंडियन अमेरिकन मुस्लिम काउंसिल’ द्वारा आनलाइन आयोजित पैनल चर्चा के दौरान अमेरिका के चार सांसदों की मौजूदगी में यहां तक कह दिया था कि भारत में मानवाधिकारों की मौजूदा स्थिति चिंताजनक है। नाशुक्रे अंसारी ने कहा कि देश में असुरक्षा का माहौल बढ़ रहा है। लेकिन हिंदुओं के खिलाफ हो रही हिंसा पर उनकी बोलती बंद रही।राजस्थान में हुई हिंसक वारदातों की तरह कर्नाटक मर्डर में भी PFI कनेक्शन
गौरतलब है कि प्रवीण की हत्या के पीछे PFI और SDPI का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी ने आरोप लगाया है कि केरल सरकार पीएफआई और एसडीपीआई जैसे संगठनों को बढ़ावा दे रही है। वहीं, कर्नाटक में कांग्रेस इन्हें प्रोत्साहित कर रही है। जोशी ने कहा कि आरंभिक रिपोर्ट व कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि हत्या के पीछे पीएफआई व एसडीपीआई का हाथ है। राजस्थान में उदयपुर समेत अन्य स्थानों पर हुई हिंसा में भी पीएफआई का कनेक्शन मिला है। हिंदू संगठनों ने भी हत्या में पीएफआई और एसडीपीआई का हाथ होने का शक जताया है। हत्या के मामले में अब तक 8 लोगों को हिरासत में लिए जाने की सूचना है।

केरल से मिल रहा PFI को बढ़ावा, हत्यारे केरल रजिस्ट्रेशन की बाइक से आए
दक्षिण कन्नड़ जिले में भाजपा युवा मोर्चा के जिला सचिव प्रवीण नेत्तारू की हत्या का मामला तूल पकड़ रहा है। हत्या के विरोध में बेल्लारे, पुत्तूर, सुल्या, कड़ाबा में बंद रखा गया है। हत्या के बाद सुलिया तालुक के बेल्लारे और दूसरे इलाकों में तनाव और हिंदुओं में बेहद आक्रोश है। हिंदू संगठनों ने थाने के अलावा उस अस्पताल के सामने भी प्रदर्शन किया, जहां नेत्तारू का शव रखा गया है। राज्य के गृहमंत्री आरागा ज्ञानेंद्र ने बताया कि जिस इलाके में ये वारदात हुई है, वो जगह केरल की सीमा से सटी हुई है, ऐसे में केरल के सीनियर अधिकारियों से संपर्क कर आरोपितों को गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है। इससे पहले एक रिपोर्ट में बताया गया था कि जिन लोगों ने प्रवीण पर हमला किया वह केरल के रजिस्ट्रेशन नंबर वाली बाइक से आए थे। सीएम बसवराज बोम्मई ने सरकार के एक साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम रद्द किए
इस बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने गुरुवार (28 जुलाई, 2022) को अपनी सरकार के एक साल पूरे होने के उपलक्ष्य में आयोजित कई कार्यक्रमों को रद्द कर दिया। बोम्मई का फैसला दक्षिण कन्नड़ में भाजपा युवा मोर्चा के सदस्य प्रवीण नेत्तारू की हत्या के बाद आया है। मुख्यमंत्री ने प्रवीण की हत्या को अमानवीय बताते हुए कहा, “घटना की जानकारी मिलने के बाद मैंने तत्काल कार्रवाई के आदेश दिए थे। मेरा मन शांत नहीं था। बजरंग दल कार्यकर्ता की हत्या के कुछ समय बाद ही यह घटना हुई है। किसी भी आरोपित को छोड़ा नहीं जाएगा।”

पहले हुई हत्याओं की तर्ज पर वारदात, हत्यारों की तलाश के लिए 5 टीमें बनाईं 
कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने कहा है कि हत्या की घटना केरल सीमा के समीप हुई है। हमारी पुलिस केरल पुलिस के संपर्क में है। डीजीपी केरल के डीजीपी से बात करेंगे, वहीं मेंगलुरु के एसपी ने कासरगोद के एसपी से बात की है। यह सुनियोजित घटना प्रतीत हो रही है, क्योंकि पूर्व में हुई हत्याओं की तरह ही यह वारदात की गई है। कर्नाटक पुलिस ने भाजपा नेता नेत्तारू की हत्या के मामले की जांच के लिए पांच स्पेशल टीमें गठित की हैं। तीन टीमों को केरल, मदिकेरी और हसन भेजा गया है।

नेत्तारू की कुल्हाड़ी व तलवार से की हत्या, अंतिम यात्रा में जनसैलाब उमड़ा
भाजपा युवा मोर्चा के जिला सचिव नेता प्रवीण नेत्तारू हमलावरों ने देर रात हत्या कर दी थी। वे रात को अपनी दुकान बंद कर रहे थे, तभी बाइक पर आए हमलावरों ने उन पर कुल्हाड़ी और तलवार से हमला किया। अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई। नेत्तारू का शव बुधवार सुबह कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले के सुलिया तालुक में स्थित उनके पैतृक गांव बेल्लारे लाया गया। अंतिम यात्रा के दौरान जनसैलाब उमड़ पड़ा। हत्या को लेकर हिंदूवादी संगठनों में गहरा आक्रोश है। मुख्यमंत्री बोम्मई ने ट्वीट कर कहा कि दक्षिण कन्नड़ जिले से हमारी पार्टी के कार्यकर्ता प्रवीण नेट्टारू की बर्बर हत्या निंदनीय है। इस तरह के जघन्य कृत्य के अपराधियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा और कानून के तहत दंडित किया जाएगा।

बीजेपी की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा के समर्थकों पर हमले जारी हैं। उदयपुर के कन्हैयालाल के अलावा उमेश कोल्हे, निशंक राठौड़ की मौत के बाद अब कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में बीजेपी युवा मोर्चा के जिला सचिव प्रवीण नेत्तारू की बेरहमी से हत्या कर दी गई। इस्लामिक आतंकवाद फैलाने वाले जिहादियों की यह करतूत कब थमेगी  यह बड़ा है। आइए देश में हुई घटनाओं पर एक नजर डालते हैं….

उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल का सिर तन से जुदा कर बनाया लाइव वीडियो

राजस्थान में कट्टरता की हदों को पार करते हुए उदयपुर में एक दर्जी कन्हैयालाल का ‘सर तन से जुदा’ कर दिया। उसका कुसूर सिर्फ इतना ही था कि उसने बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नुपूर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली थी। दो हत्यारों ने न सिर्फ उसकी गला रेतकर दिनदहाड़े हत्या कर डाली, बल्कि नृशंसता से की इस हत्या का वीडियो भी बनाया है। इतना ही नहीं एक धर्म से संबंधित हत्यारों ने कत्ल के बाद सोशल मीडिया पर पोस्ट डालकर हत्या की जिम्मेदारी ली है। आरोपी 28 जून को कन्हैयालाल की दुकान में कपड़े सिलवाने गए थे। यहां नाप लेते वक्त आरोपियों ने कन्हैया पर हमला कर दिया और बेरहमी से हत्या कर दी। जांच में पता चल रहा है कि कन्हैया लाल का हत्यारा रियाज राजस्थान में दावत-ए इस्लामी का स्लीपर सेल खड़ा कर रहा था।

निशांक के पिता को फोन पर मैसेज मिला- सर तन से जुदा…

मध्य प्रदेश में भोपाल-नर्मदापुरम रेलखंड पर मिडघाट और बरखेड़ा के बीच पटरी पर 24 जुलाई की रात करीब सात बजे ओरिएंटल कालेज के बीटेक के छात्र निशांक का शव मिला। सड़क किनारे से उसका स्कूटर और मोबाइल भी पुलिस ने बरामद किया। शव मिलने से दो घंटे पहले छात्र के ही मोबाइल से उसके पिता को एक वाट्सएप संदेश भेजा गया था, जिसमें लिखा गया कि ‘राठौर साहब, बहुत बहादुर था आपका बेटा, गुस्ताख ए…की एक सजा, सर तन से जुदा’। हालांकि इस मामले में अभी ये पता नहीं चल पाया है कि निशांत ने नुपुर का समर्थन किया था या नहीं। लेकिन उसके पिता को फोन पर मिला मैसेज इस ओर इशारा करते हैं कि उसको मारने में जिहादियों का हाथ है। 20 साल का निशांक मूलत: सिवनी मालवा का रहने वाला था। उसके पिता उमाशंकर राठौर सहकारिता विभाग में आडिटर हैं।महाराष्ट्र के अमरावती में उमेश कोल्हे की गला रेतकर की निर्मम हत्या

महाराष्ट्र के अमरावती में रहने वाले केमिस्ट उमेश कोल्हे की बीती 21 जून को गला रेतकर हत्या कर दी गई। हत्या तब हुई जब रात के समय उमेश कोल्हे अपने मेडिकल स्टोर से घर लौट रहे थे। यह हत्याकांड कन्हैयालाल की हत्या से एक सप्ताह पहले का बताया जा रहा है। नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट की वजह से कोल्हे की निर्मम हत्या की गई है। उमेश कोल्हे महाराष्ट्र के अमरावती जिले में अमित मेडिकल नाम से एक मेडिकल स्टोर चलाते थे। 54 वर्षीय कोल्हे 21 जून की रात को जब बेटे संकेत और बहू वैष्णवी के साथ अलग-अलग बाइक पर अपने घर जा रहे थे। तभी घात लगाकर बैठे हमलावरों ने उनकी गर्दन पर पीछे से चाकू से हमला कर दिया। अचानक हुए इस हमले में वो बुरी तरह से जख्मी हो गए थे। घटना के बाद उनके बेटे और बहू ने उन्हें लहूलुहान हालत में अस्पताल पहुंचाया। हालांकि उनकी जान नहीं बचाई जा सकी, डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गए थे। उमेश कोल्हे ने व्हाट्सएप पर नूपुर शर्मा के समर्थन में एक पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किया था। जो गलती से एक मुस्लिम सदस्यों के ग्रुप में चला गया। जिनमें कुछ उनके ग्राहक भी थे। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में से एक ने पुलिस को बताया कि उनके मुताबिक यह पैगंबर का अपमान था। इसलिए उनकी हत्या की गई।

नुपूर का समर्थन किया तो मध्यप्रदेश के रीवा में मुकेश तिवारी पर हमला

मध्य प्रदेश के रीवा में नुपुर शर्मा के समर्थक पर जानलेवा हमला किया गया। बैकुंठपुर थाना क्षेत्र में रहने वाले मुकेश तिवारी के ऊपर हमला करने वाला मुस्लिम कट्टरपंथी उनके दोस्त का ही भाई है। मुकेश की गलती इतनी थी कि वो सोशल मीडिया पर हिंदूवादी पोस्ट करते थे और नुपूर के समर्थन वाले पोस्ट पर कमेंट करते थे। उनके भाई आरएसएस से जुड़े हैं। मुकेश एक निजी फाइनेंस कंपनी में काम करते हैं। उन्होंने बताया वह हर रोज की तरह 23 जुलाई को घर से ऑफिस जाने के लिए निकले, लेकिन तभी उनके दोस्त के भाई मोहम्मद सुलेमान ने उन्हें कॉल करके कहा कि उसे कोई जरूरी बात करनी है। मुकेश जब बताई हुई जगह पर पहुंचे तो वहां सुलेमान ने उन्हें लाठी-डंडे से पीटना शुरू कर दिया। मुकेश का कहना है कि वह सुलेमान को जानते थे इसलिए उसके बुलाने पर उसके घर गए। उनके अनुसार- सुलेमान ने पहले कुर्सी पर बैठाया और बाद में डंडे से मारना शुरू कर दिया। जिहादी बार-बार एक ही प्रश्न पूछ रहे थे, क्या वो दोबारा ऐसे पोस्ट करेंगे?

बजरंग दल के प्रखंड संयोजक और नुपूर समर्थक मालवा के आयुष पर हमला

20 जुलाई की दोपहर उज्जैन रोड में रॉयल ढाबे के पास आगर मालवा के फलमारीपुरा के रहने वाले 26 वर्षीय आयुष अपनी बाइक से कहीं जा रहे थे तभी मुस्लिम हमलावर अमल, अरबाज, आसिफ, सरफराज, चिकी, अम्मू मेवाती, अमन, सोहेल, मुन्ना मेवाती, सलमान, फिरदौस, समीर और साजिद ने उनका रास्ता रोक लिया। आयुष को चारों तरफ से घेरने के बाद टायर खोलने वाले औजार और चाकू से उनपर हमला करने लगे। पीड़ित लहूलुहान हो गया। कट्टरपंथी आयुष को जान से मार देते लेकिन किसी तरह आयुष अपनी जान बचाकर भाग निकला और लोगों से मदद मांगी। आयुष बुरी तरह जख्मी हो गया था और उसके शरीर से खून बह रहा था। आसपास के लोगों ने उसकी जान बचा ली और हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया। जिसके बाद आयुष को उज्जैन रेफेर कर दिया गया। आयुष बजरंग दल का प्रखंड संयोजक है। उसने नूपुर शर्मा को मिल रहीं जान से मारने और रेप की धमकियों के खिलाफ उनका समर्थन करते हुए 16 जून को ज्ञापन दिया था। इसी से इलाके के कट्टरपंथी नाराज हो गए थे और आयुष को जान से मारने के लिए पहुंचे थे।

मुस्लिम युवकों ने अल्लाह-हू-अकबर का नारा, फिर अंकित पर चाकुओं से हमला

बिहार के सीतामढ़ी का युवक अंकित झा 19 जुलाई को अपने मोबाइल पर नूपुर शर्मा का वीडियो देख रहा था। इसी दौरान चार मुस्लिम युवकों ने उसके शरीर में चाकू से छह बार गोद कर गंभीर रूप से घायल कर दिया। अंकित ने बताया कि वो अपने दोस्त के साथ एक दुकान पर बैठकर मोबाइल में स्टेटस देख रहा था। उसमें नूपुर शर्मा का वीडियो था। पीछे से कुछ लोग आए और पूछा कि नूपुर शर्मा के समर्थक हो। मैंने जैसे ही हां कहा, चाकू मारने लगे। बाजार में दौड़ा-दौड़ाकर अंकित पर 6 बार चाकू से हमला किया गया। चाकू मारने के बाद मुस्लिम युवकों ने अल्लाह-हू-अकबर का नारा लगाया और वहां से फरार हो गए।

बिहार के आरा में नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने पर की पिटाई

करीब दो हफ्ते पहले नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट डालने पर बिहार के भोजपुर जिले के आरा में एक युवक को जमकर पीटा गया था। एक चाय की दुकान पर 20-30 युवकों ने उसे घेरकर लात-घूंसों से पीटा था। चाय की दुकान में भी तोड़फोड़ की और दुकानदार को भी मारा। बिहार के आरा के दीपक ने कुछ दिन पहले फेसबुक पर नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट किया था। इसके बाद रईस नाम के लड़के ने उसके पोस्ट पर अभद्र टिप्पणी कर दी। इस पर विवाद बढ़ गया। रईस अपने साथ करीब 20 से 30 लोगों को ले आया। सभी ने युवक की पिटाई शुरू कर दी। लात-घूंसों से जमकर दीपक को पीटा गया। चाय की दुकान में तोड़फोड़ के साथ दुकानदार से भी मारपीट की गई।

सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली तो सीहोर में रोहित को जान से मारने की धमकी

सीहोर के रोहित सालवी ने 11 जून को नूपुर शर्मा का समर्थन करते हुए सोशल मीडिया में पोस्ट डाली थी। कुछ लोग गणेश मंदिर के पास उसके घर पर मारपीट करने भी पहुंच गए थे। ये लोग पड़ोसी को रोहित समझकर जान से मारने की धमकी देकर भाग निकले। रोहित घर आया, तब उसके पड़ोसी ने बताया कि कुछ लोग उसे मारने आए थे। इसके बाद एक बार फिर वही लोग आए और रोहित को डराने-धमकाने लगे। रोहित ने इसकी शिकायत थाना कोतवाली में की थी। पुलिस ने आरोपियों की पहचान कर कस्बा निवासी साहिल और चार अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

Leave a Reply