Home विशेष इस न्यूज को पढ़ने के लिए जिंदगी गुजर गई, मोदी है तो...

इस न्यूज को पढ़ने के लिए जिंदगी गुजर गई, मोदी है तो मुमकिन है

1748
SHARE

जिस जगह को जवाहर लाल नेहरू से लेकर मनमोहन सिंह तक हारते रहे उस जगह पर मोदी काल में भारतीय सेना ने कब्जा कर लिया है। इस न्यूज को पढ़ने के लिए जिंदगी गुजर गई। इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश का सिर गर्व से और ऊंचा कर दिया है। चीन ने 29-30 अगस्त की रात एलएसी पर अतिक्रमण की कोशिश की। भारतीय सैनिकों ने बेहद फुर्ती से कार्रवाई करते हुए पेंगांग झील के दूसरे किनारे पर फिंगर एरिया की तरफ घुसपैठ करने की कोशिश को नाकाम करने के साथ चुशूल इलाके में भी चीनी सैनिकों को पीछे धकेल दिया। भारत ने इन सभी जगहों पर अपनी स्थिति मजबूत कर ली। साल 1962 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि चीन को कहना पड़ा है कि भारत ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है। पीएलए के पश्चिमी कमान के प्रवक्त झांग शुइली ने कहा कि भारत ने चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता वाले हुनान तट और रेकिन ला पर एलएसी पार करके नियंत्रण कर लिया है। 

भारत ने ढाई महीने में चीन पर दूसरा जबरदस्त प्रहार किया है। इससे पहले, गलवान में भारत ने चीन का गुरूर चकनाचूर किया था। 15-16 जून की रात भारत-चीन के सैनिकों बीच झड़प हुई थी। चीन के सैनिकों ने अतिक्रमण की कोशिश की थी। भारत के विरोध करने पर धोखे से हमला किया। भारतीय सेना ने चीन के सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब दिया था। भारतीय सेना के जवाब में चीन के 45-50 सैनिक मारे गए थे।

बताया जा रहा है कि भारत ने चीन के साथ नेहरूकालीन सीमाओं वाले नियमों में कुछ बदलाव करने का मन बना लिया है। भारतीय सेना ने लद्दाख में चीन के कब्जे वाला करीब 3.5 किलोमीटर इलाका वापस ले लिया है। इस बार सेना ने चीनी सैनिकों को जिस तरह सबक सिखाया है, उसे लेकर चीनी सैनिक हैरान हैं।

अक्साई चिन और पीओके गंवाने वाली कांग्रेस को समझना होगा कि यह राजनीति का मोदी युग है, नेहरू युग नहीं-

नेहरू राज में अक्साई चिन, पीओके भारत के हाथ से निकला
हर देशवासी के जेहन में यह सवाल उठता है कि 1962 में भारत-चीन युद्ध के दौरान कांग्रेस पार्टी का देश में एकछत्र राज था, उस समय केंद्र में जवाहर लाल नेहरू के नेतृत्व में कांग्रेस की मजबूत सरकार थी, फिर भी आखिर कौन-सी कमियां रहीं कि चीन ने भारतीय सीमा में अक्साई चिन क्षेत्र के करीब 40,000 वर्ग किलोमीटर को हड़प लिया। इन पर अब भी चीन का ही अधिकार है। इसके साथ ही, 1947 में पाकिस्तान ने कश्मीर के एक बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया। पीओके का यह इलाका 13,300 वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला है। पाकिस्तान इसे आजाद कश्मीर कहता है। दरअसल, 1962 में चीन से भारत की हार भी तत्कालीन कांग्रेस सरकार की गलत नीतियों को ही नतीजा थी।

भारत की जगह चीन को बनाया यूएनओ का सदस्य
यह सच है कि चीन ने भारत के साथ छल किया और ‘हिन्दी-चीनी भाई-भाई’ के गुमान में भूले भारत के साथ विश्वासघात किया। लेकिन, इस युद्ध में हार की बड़ी वजह नेहरू सरकार की गलत नीतियां थीं, जो अपने देश के हित से आगे चीन का हित रखती थी, जो चीन के मंसूबे को भांप नहीं सकी। 1947 में भारत को आजादी मिली और उसके ठीक दो साल बाद यानि 1949 में माओत्से तुंग के नेतृत्व में साम्यवादी दल ने अक्टूबर, 1949 को चीनी लोक गणराज्य (पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना) की स्थापना की। उस दौर में भारत सरकार शुरू से ही चीन से दोस्ती बढ़ाने की पक्षधर थी। जब चीन दुनिया में अलग-थलग पड़ गया था, उस समय भी भारत चीन के साथ खड़ा था। जापान के साथ एक वार्ता में भारत सिर्फ इस वजह से शामिल नहीं हुआ, क्योंकि चीन आमंत्रित नहीं था। कई दावे ऐसे भी हैं कि जवाहर लाल नेहरू की गलती की वजह से भारत ने संयुक्त राष्ट्र के सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता ठुकरा दी और अपनी जगह यह स्थान चीन को दे दिया।

चीन की सदस्यता के लिए नेहरू ने की लॉबिंग, पटेल की भी नहीं सुनी
उस दौर में काल्पनिक आदर्शवाद और नैतिकता का बोझ जवाहर लाल नेहरू पर इतना था कि वे चीन को सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता दिलवाने के लिए पूरी दुनिया में लाबिंग करने लगे। लेकिन, सरदार पटेल ने चीन की चाल को भांप लिया था। वर्ष 1950 में ही सरदार पटेल ने नेहरू को चीन से सावधान रहने के लिए कहा था। अपनी मृत्यु के एक महीने पहले ही 7 नवंबर 1950 को देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल ने चीन के खतरे को लेकर नेहरू को आगाह करते हुए एक चिट्ठी में लिखी थी कि भले ही हम चीन को मित्र के तौर पर देखते हैं, लेकिन कम्युनिस्ट चीन की अपनी महत्वकांक्षाएं और उद्देश्य हैं। हमें ध्यान रखना चाहिए कि तिब्बत के गायब होने के बाद अब चीन हमारे दरवाजे तक पहुंच गया है। लेकिन, अपने अंतरराष्ट्रीय आभामंडल और कूटनीतिक समझ के सामने पंडित नेहरू ने किसी की भी सलाह को अहमियत नहीं दी।

एंडरसन-भगत की सीक्रेट रिपोर्ट- नेहरू की नीतियां जिम्मेदार
क्या तय थी 1962 में चीन के हाथों भारत की हार? क्या बिना तैयारी के भेजे गए थे भारतीय सैनिक? क्या मोर्चे पर चीन की तैयारियों के बारे में भारत के पास कोई सूचना नहीं थी? दरअसल, इन्हीं सवालों का जवाब लेफ्टिनेंट जनरल नील एंडरसन और ब्रिगेडियर पीएस भगत ने अपनी रिपोर्ट में ढूंढने की कोशिश की थी। इस रिपोर्ट को गोपनीय घोषित कर दिया गया था। इसकी दोनों कॉपियों को रक्षा मंत्रालय में सुरक्षित रख दिया गया था। लेकिन 1962 के दौर में ‘टाइम’ के संवाददाता के तौर पर दिल्ली में काम कर रहे मैक्स नेविल ने इस रिपोर्ट के मौजूद होने का दावा किया था। मैक्स नेविल का दावा था कि रिपोर्ट में हार के लिए नेहरू की नीतियों को जिम्मेदार ठहराया गया था। नेहरू की फारवर्ड पॉलिसी पूरी तरह नाकाम साबित हुई। साथ ही, दिल्ली और सेना के फील्ड कमांडरों के बीच तालमेल की बेहद कमी, सैनिकों की खराब तैयारियां और संसाधनों की कमी को भी जिम्मेदार माना गया। ऑस्ट्रेलिया के पत्रकार मैक्स नेविल ने एक किताब इंडियाज चाइना वार लिखी, जिसमें इस सीक्रेट रिपोर्ट के हवाले से कई दावे किए गए।

सेना की हथियारों की मांग पर ध्यान नहीं दिया गया
1961 के मध्य तक चीन के सुरक्षा बल सिक्यिांग-तिब्बत सडक पर वर्ष 1957 की अपनी स्थिति से 70 मील आगे बढ़ चुके थे। भारत की 14 हजार वर्ग मील जमीन पर कब्जा किया जा चुका था। देश में तीखी प्रतिक्रिया हुई। सरकार आलोचना के घेरे में आ गई। आलोचनाओं से तंग आकर नेहरू ने तत्कालीन सेना प्रमुख पीएन थापर को चीनी सैनिकों को भारतीय इलाके से खदेड़ने का आदेश दिया। थापर बहुत पहले से सेना की बदहाली से अवगत करा रहे थे, बार-बार वह हथियार और संसाधनों की मांग कर रहे थे। नेहरू ने कभी उनकी बात पर ध्यान नहीं दिया।

नेहरू के अपरिपक्व बयान पर चीन ने कर दिया आक्रमण
13 अक्टूबर 1962 श्रीलंका जाते हुए नेहरू ने चेन्नई में मीडिया को बयान दिया कि उन्होंने सेना को आदेश दिया है कि वह चीनियों को भारतीय सीमा से निकाल फेकें। नेहरू के इस बयान से सैनिक हेडक्वार्टर हक्का-बक्का रह गया। जब सेना प्रमुख थापर ने रक्षा मंत्री से इस बारे में पूछा, तब उनका जवाब था कि प्रधानमंत्री का बयान राजनीतिक स्टेटमेंट है। इसका अर्थ है कि कार्रवाई दस दिन में भी की जा सकती है और सौ दिन में या हजार दिन में भी। लेकिन नेहरू के इस बयान के आठ दिन बाद चीनियों ने आक्रमण कर दिया।

बहरहाल, अब चीन को समझना लेना होगा कि यह 62 का नहीं बल्कि 2020 का हिंदुस्तान है। भारत ने हाल में चीन की हर कारस्तानी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। चीन को यह अच्छी तरह अंदाजा हो गया है कि भारत सामरिक ही नहीं कूटनीतिक मामले में भी चीन पर भारी है, यानि चीन से निपटने के लिए भारत हर मोर्चे पर तैयार है। 2017 में डोकलाम की याद चीन भूला नहीं होगा, जब उसे करीब ढाई महीने के गतिरोध के बाद अपनी सीमा में वापस लौटना पड़ा था। चीन को भी मालूम है कि भारत में यह राजनीति का मोदी युग है, कांग्रेस युग नहीं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत की बढ़ती कूटनीतिक ताकत के कारण पाकिस्तान के साथ-साथ अब चीन भी विश्व बिरादरी में अलग-थलग पड़ता जा रहा है।

Leave a Reply