Home समाचार देखिए नफरत के ‘बाजार’ में प्यार की दुकान खोलने वाले राहुल गांधी...

देखिए नफरत के ‘बाजार’ में प्यार की दुकान खोलने वाले राहुल गांधी के सिपहसालार की गुंडागर्दी, मीडिया की आजादी को कुचला, रिपोर्टर को धक्का मारकर हटाया

254
SHARE

कांग्रेस नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा कई राज्यों से होते हुए अब जम्मू-कश्मीर पहुंच चुकी है। इससे पहले जब यात्रा दिल्ली से गुजर रही थी, तब राहुल ने कहा था कि हम यहां नफरत के ‘बाजार’ में प्यार की दुकान खोलने आए हैं। लेकिन राहुल गांधी और कांग्रेस के नेता खुद इस बात पर अमल करते हुए नजर नहीं आ रहे हैं। वो नफरत बांटने और गुंडागर्दी का कोई मौका नहीं चूक रहे हैं। इसकी झलक जम्मू-कश्मीर में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान देखने को मिली, जब जयराम रमेश ने दिग्विजय सिंह से बात कर रहे आजतक के रिपोर्टर को रोकने की कोशिश की। जयराम रमेश ने दिग्गविजय सिंह के सामने से माइक को जबरन हटा दिया। इस तरह जयराम रमेश और कांग्रेस मीडिया का मुंह बंद करने की कोशिश कर रहे हैं।

दरअसल सोमवार (23 जनवरी, 2023) को भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और बयानवीर दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाया। उन्होंने जम्मू में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक का कोई सबूत नहीं दिया है। जब आजतक का रिपोर्टर दिग्विजय सिंह से उनके इस बयान को लेकर सवाल कर रहा था, इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश बीच में आ गए और Don’t Divert कहकर दिग्विजय और आजतक की बातचीत को रोक दिया। उन्होंने जिस तरह रिपोर्टर की माइक को हटाया और उसे धक्का दिया, वह कांग्रेस के अंदर भरी नफरत को दर्शाता है। 

बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने जयराम रमेश के इस बर्ताव को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि आजतक ने भी जयराम रमेश के इस बर्ताव को लेकर फटकार लगाई। दिग्विजय सिंह को चुप करा दिया गया। जयराम रमेश एक नए दमनकारी के रूप में सामने आए हैं। वे मीडिया की आजादी को बेधड़क कुचल रहे हैं और कांग्रेस पार्टी में थोड़ा-बहुत जो भी लोकतंत्र बचा है, उसकी हत्या कर रहे हैं। राहुल गांधी के दरबारी फिर से आपातकाल के काले दिनों की याद दिला रहे हैं।

इस बर्ताव को लेकर सोशल मीडिया में जयराम रमेश की जमकर किरकिरी हो रही है। देश में नफरत की दुकान खोलकर नफरत बांट रहे कांग्रेसियों का चेहरा एक के बाद एक सामने आ रहा है। लोगों का कहना है कि नफरत खत्म करने की बात करने वाले खूद नफरत बांटते फिर रहे हैं। राहुल गांधी और उनके नेता देश में नफरत की बात कर पूरी दुनिया में भारत को बदनाम कर रहे हैं। कांग्रेस का एक नेता सेना का अपमान करता है, और दूसरा उस नेता का बचाव करने सामने आ जाता है। लोगों का कहना है कि जयराम रमेश ने गुंडों की तरह बर्ताव किया और दिग्विजय सिंह को बोलने की आजादी नहीं दी।

गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने जम्मू में आयोजित एक जन सभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने ने कहा है कि सरकार सर्जिकल स्ट्राइक की बात करती है। वे दावा करते हैं कि हमने इतने लोग मार गिराए लेकिन सबूत नहीं दिए। केवल झूठ के पुलिंदा से ये राज कर रहे हैं। 

Leave a Reply