Home चुनावी हलचल एमसीडी चुनाव: वोट शेयर बरकरार रखने ही नहीं बढ़ाने में भी कामयाब...

एमसीडी चुनाव: वोट शेयर बरकरार रखने ही नहीं बढ़ाने में भी कामयाब रही बीजेपी, जबकि AAP से होने लगा मोहभंग

412
SHARE

दिल्ली एमसीडी चुनाव में बीजेपी ने 15 साल सत्ता में रहने के बाद भी आम आदमी पार्टी को कड़ी टक्कर दी है। एमसीडी के 250 वार्ड के नतीजे के अनुसार आम आदमी पार्टी को 134, बीजेपी को 104, कांग्रेस को 9 और निर्दलीय को 3 सीटें मिली हैं। अगर इस चुनाव को वोट शेयर के हिसाब से देखा जाए तो बीजेपी ना सिर्फ वोट शेयर बरकरार रखने में बल्कि बढ़ाने में भी कामयाब रही है।

एमसीडी चुनाव 2022 में आम आदमी पार्टी को 42.05 प्रतिशत वोट मिले हैं। वहीं बीजेपी को 39.09 प्रतिशत वोट मिले है, जो पिछली बार 2017 के एमसीडी मुकाबले 3 प्रतिशत ज्यादा है। जबकि कांग्रेस 11.68 प्रतिशत वोट मिले हैं, जो पिछले चुनाव से करीब 10 प्रतिशत कम है। 2017 में हुए नगर निगम के चुनावों में बीजेपी को 36.08 प्रतिशत वोट मिले थे।

तमाम एग्जिट पोल के अनुमानों के उलट बीजेपी 104 सीटें जीतने में कामयाब रही है। जहां तक सत्ता में आने की बात है तो बीजेपी वोट शेयर के मामले में 39.09 के साथ आम आदमी पार्टी के 42 प्रतिशत से सिर्फ 3 प्रतिशत वोट से पीछे रह गई है।

एमसीडी चुनाव ही नहीं, अगर 2020 के दिल्ली विधानसभा चुनाव को भी देखा जाए तो बीजेपी का वोट प्रतिशत बढ़ा है। जबकि विधानसभा चुनाव के हिसाब से आम आदमी पार्टी का वोट प्रतिशत कम हुआ है। 2020 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 53.57 प्रतिशत वोट मिले थे, जबकि इस बार एमसीडी चुनाव में उसे सिर्फ 42.05 प्रतिशत वोट मिले हैं। यानी पिछले दो साल में आम आदमी पार्टी के वोट शेयर में करीब 11 प्रतिशत की गिरावट आई है।

दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में बीजेपी को 38.51 प्रतिशत वोट मिले थे, जबकि इस बार 39.09 प्रतिशत वोट मिला है। साफ है बीजेपी जहां वोट शेयर बरकरार ही नहीं बढ़ाने में भी कामयाब रही है, वहीं आम आदमी पार्टी से लोगों का मोहभंग होना शुरू हो गया है।

Leave a Reply