Home समाचार अमेरिकियों के लिए सबसे सुरक्षित जगह बना भारत, स्वदेश जाने से लग...

अमेरिकियों के लिए सबसे सुरक्षित जगह बना भारत, स्वदेश जाने से लग रहा है डर

1786
SHARE

संकट के समय सभी देश अपने नागरिकों की सुरक्षा को लेकर हर संभव कदम उठाते हैं। विदेशों में फंसे अपने नागरिकों को निकालने की कोशिश करते हैं। कोरोना संकट के समय अमेरिका भी विदेशों में फंसे अपने नागरिकों को निकाल रहा है। उसने भारत से अब तक 1300 अमेरिकियों को निकालने में कामयाबी पा ली है। लेकिन अब भी बड़ी संख्या में अमेरिकी नागरिक भारत में रह रहे हैं। ये अमरिकी नागरिक अब भारत से वापस जाना नहीं चाहते। आज इन्हें अमेरिका की तुलना में भारत सबसे सुरक्षित लग रहा है।

कोरोना का संकट यहां भी है और अमेरिका में भी है। लेकिन ये ज़रूर सच है कि भारत के मुकाबले कोरोना का कहर अमेरिका में ज्यादा है। फिर भी घर तो घर है लेकिन इंडिया में रह रहे इन अमेरिकियों का मानना है कि होम इज़ व्हेअर दी हार्ट इज़ और इनका हार्ट अब इण्डिया में है क्योंकि इंडिया में कोरोना तो है लेकिन इण्डिया ज्यादा सेफ है। 

अमेरिका की दक्षिण और मध्य एशिया मामलों की कार्यवाहक उप सचिव एलिस जी वेल्स ने बताया कि अब तक करीब 1300 अमेरिकी नागरिकों को अमेरिका वापस लाया गया है। अभी इस हफ्ते अमेरिका के लिए भारत से पांच अतिरिक्त उड़ानें निर्धारित की गई हैं। किन्तु फिलहाल सही संख्या बता पाना मुश्किल है कि कितने अमेरिकी भारत से स्वदेश लौटने के लिए सहायता चाहते हैं। वैसे पंजीकृत अमरिकियों की संख्या की बात करें तो अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास में सात हजार से ज्यादा लोगों ने पंजीकरण कराया है।

हालांकि वेल्स ने यह स्पष्ट तौर पर नहीं बताया कि अमेरिकी क्यों स्वदेश लौटना नहीं चाहते हैं। माना जा रहा है कि जिस तरह से अमेरिका में कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं और लोगों की मौत हो रही है, उससे अमेरिका कोरोना वायरस के हॉट स्पॉट के रूप में उभर कर सामने आया है।  

11 अप्रैल तक अमेरिका में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 4 लाख 75 हजार से ज्यादा थी, जो दुनिया के किसी देश की तुलना में सबसे ज्यादा है। हालांकि कोरोना वायरस से मरने वालों की सबसे ज्यादा संख्या इटली में हैं। कोरोना से मौत के मामले में अमेरिका दूसरे नंबर पर है। इटली में कोरोना से 18 हजार 848 से अधिक लोगों की मौत हुई है, जबकि अमेरिका में अब तक 18 हजार से ज्यादा लोगों की जान गई है। इसके बाद मौत के मामले में तीसरे नंबर पर स्पेन है, जहां 15 हजार 970 से ज्यादा लोगों की कोरोना वायरस जान ले चुका है।

अमेरिका में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से 1920 लोगों की मौत हुई है। वहीं भारत में पिछले 24 घंटों में 34 लोगों की मौत हुई है और 909 नए मामले सामने आए हैं। शनिवार को भारत में मृतकों की संख्या बढ़कर 239 पर पहुंच गयी और कुल संक्रमितों की संख्या 7,477 हो गई।
आंकड़े बताते हैं कि भारत के मुकाबले अमेरिका में किस तरह कोरोना ने कहर बरपाया है। ऐसे में स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में अमेरिका भारत से कहीं आगे हैं। फिर भी अमेरिकियों के भारत में रहने का फैसला बताता है कि उन्हें ट्रंप सरकार की तुलना में मोदी सरकार पर ज्यादा भरोसा है, जो 130 करोड़ से अधिक की आबादी के बावजूद अपने सीमित संसाधनों और कुशल रणनीति के जरिए कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ रही है। इसी बीच अमेरिका द्वारा भारत से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वाइन दवा की मांग ने उनके विश्वास को और मजबूत किया है। 
 

Leave a Reply