Home समाचार यूएई का पैसा, इजरायली तकनीक, भारत में बदलेगी किसानों की तस्‍वीर

यूएई का पैसा, इजरायली तकनीक, भारत में बदलेगी किसानों की तस्‍वीर

339
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार (14 जुलाई, 2022) को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए I2U2 शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इस सम्मेलन में इजरायल के प्रधानमंत्री यायर लापिड, UAE के राष्ट्रपति मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन भी शामिल हुए। I2U2 के इस शिखर सम्मेलन में 6 क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर सहमति बनी। लेकिन यह सम्मेलन भारत के लिए काफी खास रहा। क्योंकि मोदी सरकार I2U2 के अन्य सदस्यों इजरायल, संयुक्‍त अरब अमीरात और अमेरिका के साथ मिलकर देश में खेती की दशा बदलने जा रही है। इसके तहत यूएई भारत में 2 अरब डॉलर का निवेश करेगा जिससे एग्रीकल्‍चर फूड पार्क बनाए जाएंगे। इन फूड पार्क में इजरायली तकनीक का इस्‍तेमाल होगा।

दरअसल भारत, इजरायल, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका के नए समूह I2U2 के शिखर सम्मेलन का आयोजन वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए हुआ। यह बैठक ऐसे समय पर हो रही है जब अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन पश्चिम एशिया के दौरे पर हैं। इस सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम सभी अच्छे दोस्त हैं और मुझे पूरा विश्वास है कि I2U2 से हम वैश्विक स्तर पर ऊर्जा सुरक्षा, खाद्य सुरक्षा और आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण योगदान करेंगे।

इससे पहले अमेरिका के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैक सुल्लिवान ने बुधवार को कहा कि भारत का पश्चिम एशिया में खाड़ी देशों और इजरायल के साथ बहुत लंबे समय से और बढ़‍िया संबंध रहा है। जैसे अमेरिका इजरायल को इस क्षेत्र में अपने र‍िश्‍ते मजबूत करने में मदद कर सकता है, ठीक उसी तरह से भारत भी अपनी भूमिका निभा सकता है। भारत, इजरायल, यूएई और अमेरिका को साथ लाकर ज्‍यादा खाद्यान पैदा किया जा सकता है। इससे खाद्यान सुरक्षा की चुनौती से निपटने में मदद मिलेगी। उन्‍होंने कहा क‍ि भारत और इजरायल तकनीक और उद्यमिता के हब के रूप में काम करेंगे। 

गौरतलब है कि India, Israel, USA, UAE के समूह को संक्षेप में I2U2 नाम दिया गया है। इसे पश्चिमी एशिया के लिए एक क्वाड के रूप में देखा जा रहा है। I2U2 का उद्देश्य जल, ऊर्जा, परिवहन, अंतरिक्ष, स्वास्थ्य और खाद्य सुरक्षा जैसे छह पारस्परिक रूप से पहचाने गए क्षेत्रों में संयुक्त निवेश को बढ़ावा और प्रोत्साहित करना है।

 

Leave a Reply