Home नरेंद्र मोदी विशेष प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आचरण से पेश की स्वच्छता की मिसाल

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आचरण से पेश की स्वच्छता की मिसाल

1992
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वच्छता को सबसे बड़ी सेवा कहते हैं और इसे संस्कार के रूप में विकसित करने पर बल देते हैं। प्रधानमंत्री स्वयं भी साफ-सफाई को लेकर कितने सजग रहते हैं इसकी बानगी दिल्ली में विजयादशमी के दिन दिखी। सुभाष पार्क में आयोजित रावण दहन कार्यक्रम में पूजा करने के बाद प्रधानमंत्री ने स्वच्छता की अलग मिसाल कायम की।

संस्कार में शामिल हो स्वच्छता
दरअसल हुआ यूं कि सुभाष पार्क में रावण दहन के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू की मौजूदगी में पीएम मोदी और अन्य अतिथियों ने पूजा की और उसके बाद रावण दहन का कार्यक्रम आयोजित किया। भगवान राम के रुप धारण कर बैठे युवाओं की तिलक लगाकर पूजा की। उसके बाद मोदी को हाथ पोंछने के लिए एक टिश्यू पेपर दिया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने उससे अपने हाथ पोंछे और उसके बाद उस टिश्यू पेपर को फेंका नहीं। उन्होंने इस टिश्यू पेपर को किसी को दिया भी नहीं और इसे अपनी जेब में रख लिया।

प्रधानमंत्री की ओर से किए गए इस काम की सोशल मीडिया पर काफी तारीफ की जा रही है। लोग इसे स्वच्छ भारत अभियान से जोड़ रहे हैं। सोशल मीडिया ट्विटर पर मोदी का यह वीडियो काफी वायरल हो रहा है और इस पर अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं।

आचरण में हो स्वच्छता
प्रधानमंत्री अक्सर कहते हैं कि हमें सफाई की सोच को व्यवहार में शामिल करना होगा। पीएम मोदी केवल कहते नहीं बल्कि उसे अपने आचरण में उतारते हैं। 04 अगस्त को एनडीए के उपराष्ट्रपति पद के उम्मीदवार वेंकैया नायडू के भाषणों लेखों के संकलन ”Tireless Voice Relentless journey:Key speeches & articles of Venkaiah Naidu” के विमोचन के अवसर पर पीएम मोदी ने एक बार फिर नजीर पेश की। एनडीए सांसदों की उपस्थिति में उन्होंने अपने आचरण से न सिर्फ स्वच्छ भारत के संकल्प को दोहराया बल्कि देश-दुनिया को स्वच्छता का संदेश भी दिया।

पीएम मोदी ने उठाए रैपर
दरअसल जिस समय पीएम मोदी किताब का विमोचन कर रहे थे उस वक्त मंच पर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, अरुण जेटली और वेंकैया नायडू स्वयं उपस्थित थे। सभी ने किताब का विमोचन किया लेकिन रैपर वहीं पीछे टेबल पर फेंक दिया। पीएम मोदी से रहा न गया और उन्होंने स्वयं ही रैपर उठाना शुरू कर दिया, तब वेंकैया नायडू ने भी उनका साथ दिया।

जमीन पर पड़ा रैपर भी उठाया
पीएम मोदी जब वहां से मुड़कर जाने लगे तो आगे और भी रैपर फेंका हुआ था, लेकिन उन्होंने इसे इग्नोर नहीं किया और स्वयं झुककर इसकी सफाई की। बाद में वहां मौजूद कर्मचारियों ने पीएम का अनुकरण करते हुए मंच की सफाई की। पीएम मोदी की इस पहल को देखकर हॉल में मौजूद लोगों ने तालियां बजाईं।

किताब विमोचन के बाद रैपर जेब में रखा
11 अप्रैल, 2017 को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की किताब मातोश्री का विमोचन था, तभी पीएम मोदी ने कुछ ऐसा किया कि लोग देर तक तालियां बजाते रह गए। संसद की लाइब्रेरी बिल्डिंग के आडिटोरियम में किताब विमोचन के बाद भी पैकिंग पेपर हाथ में ही पकड़े रहे। कुछ ही देर में उन्होंने पैकिंग पेपर को दोनों हाथों से मोड़ा और फिर तुरंत ही अपनी हाफ जैकेट की बाईं जेब में उसे रख लिया। महज 10 सेकंड में ये सब हुआ, लेकिन जैसे ही पीएम ने उस वेस्ट पैकिंग पेपर को खुद अपनी जेब में रखा दर्शक दीर्घा में मौजूद लोग अपनी सीट से खड़े हो गए और करीब बीस सेकंड तक जोरदार तरीके से तालियां बजाईं। दरअसल पीएम मोदी ने यह आदतन किया। लेकिन पीएम मोदी का आदतन किया गया यह आचरण एक नजीर बन गया।

Leave a Reply