Home समाचार युवा देश होने पर हमें गर्व है, लेकिन देश की सोच युवा...

युवा देश होने पर हमें गर्व है, लेकिन देश की सोच युवा हो, ये हमारा दायित्व होना चाहिए : NCC दिवस पर पीएम मोदी

246
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दिल्ली में एनसीसी (नेशनल कैडेट कॉर्प) दिवस में शामिल हुए और सलामी गारद का निरीक्षण किया। एनसीसी कैडेट्स को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज विश्व में हमारे देश की पहचान युवा देश के रूप में है। देश के 65 फीसदी से ज्यादा लोग 35 वर्ष से कम आयु के हैं। हमारा देश युवा है और इसका हमें गर्व है लेकिन देश की सोच युवा हो, ये हमारा दायित्व होना चाहिए।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज का युवा देश बदलना चाहता है,स्थितियां बदलना चाहता है और इसलिए उसने तय किया है कि समस्याओं को अब टाला नहीं जाएगा, अब टकराया जाएगा, निपटा जाएगा। उन्होंने कहा,”जो लोग काम चलाने वाली प्रवृत्ति के होते हैं उनके लिए कल कभी नहीं आता। इस स्थिति को मेरे आज का युवा भारत, मेरे भारत का युवा, स्वीकारने के लिए तैयार नहीं है। वो छटपटा रहा है कि स्वतंत्रता के इतने साल हो गए, चीजें कब तक ऐसे ही चलती रहेंगी?”

पीएम मोदी ने कहा कि कश्मीर भारत की मुकुटमणि है। 70 साल बाद वहां से आर्टिकल 370 को हटाया गया। हम जानते हैं कि हमारा पड़ोसी देश हमसे तीन-तीन युद्ध हार चुका है। हमारी सेनाओं को उसे धूल चटाने में हफ्ते-दस दिन से ज्यादा समय नहीं लगता। उन्होंने कहा, “जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 अस्थायी था, इसलिए हमने इसे हटाया। कश्मीर में कुछ लोग इस पर राजनीति करते रहे, तिरंगे का अपमान होता रहा और वे अपना वोट बैंक देखते रहे। 70 साल बाद कश्मीर से 370 हटाया जा चुका है, ये हमारा दायित्व था। पाकिस्तान हमसे किसी भी जंग में नहीं जीता, इसलिए उसने बम धमाके और आतंकी हमले किए। भारत मां का खून बहता रहा, लेकिन जब सेना एक्शन के लिए कहती थी तो उन्हें मना कर दिया जाता था। आज युवा सोच है। भारत आगे बढ़ रहा है। आतंकियों को उनके घर में घुसकर जवाब दिया जा रहा है। हम जम्मू-कश्मीर में अलगाववाद और आतंकवाद को खत्म करने की ओर बढ़ रहे हैं और उखाड़ फेंकने का दम भी रखते हैं।’’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पहले चारों ओर आतंकवादी हमले, हिंसा, अलगाववादियों के प्रदर्शन, तिरंगे का अपमान और घोटाले की खबरें आती थीं। अब हम इसके लिए तैयार नहीं है। कोई बीमारी ठीक न हो तो वह गंभीर रूप धारण कर लेती है। हम समस्याओं को ऐसे नहीं ले सकते। कश्मीर में समस्याएं थीं लेकिन वहां के दो-चार परिवारों ने इन्हें बनाए रखा और राजनीति करते रहे। आतंकियों की हिम्मत बढ़ती गई। लाखों लोगों को अपने घरों से निकाल दिया गया और सरकार कुछ नहीं कर पाई। इसी से आतंकियों की हिम्मत बढ़ी।

पीएम मोदी ने कहा कि देश को कौन ऐसा नागरिक नहीं होगा जो ये नहीं चाहेगा कि सेना आधुनिक हथियारों से सुजज्जति हो। पिछले तीस सालों के दौरान भारतीय वायुसेना में एक भी नेक्स्ट जेनरेशन फाइटर प्लेन नहीं जोड़ा गया है। पुराने फाइटर प्लेन पर हमारे पॉयलट शहीद होते रहे लेकिन किसी ने इसकी चिंता नहीं की। क्या हम ऐसे ही वायु सेना को कमजोर होने देते हुए। मुझे खुशी है कि तीन दशकों के इंतजार के बाद राफेल जल्द ही आसमां में उड़ेगा। 

पीएम मोदी ने कहा कि  वन रैंक-वन पेंशन की 40 साल पुरानी मांग को पिछली सरकारें अनदेखी करती रही है। हमारी सरकार ने इसे लागू कर सैनिकों को सम्मान बढ़ाया है उन्होंने कहा कि कोई कल्पना कर सकता है कि देश के वीर जवानों को नेशनल वॉर मेमोरियल और नेशनल पुलिस मेमोरियल के लिए 50-60 साल तक इंतजार करना पड़ा। भारत की शहीदों को भूला देने का पाप करने की कोशिश की गई है। हमारी सरकार ने नेशनल वॉर मेमोरियल और नेशनल पुलिस मेमोरियल का निर्माण कराया। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद से स्वतंत्र भारत ने पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के हिंदुओं, सिखों और अन्य अल्पसंख्यकों से ये वादा किया था कि अगर उनको जरूरत होगी तो वो भारत आ सकते हैं। यही इच्छा गांधी जी की थी और यही 1950 में नेहरू-लियाकत समझौते की भी थी। ऐसे लोगों के साथ हुए ऐतिहासिक अन्याय को रोकने के लिए भारत के पुराने वादे को पूरा करने के लिए आज जब हमारी सरकार CAA लेकर आयी है तो  कुछ राजनीतिक दल अपने वोटबैंक पर कब्जा करने की स्पर्धा में लगे हैं, आखिर किसके हितों के लिए काम कर रहें ये लोग?

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद पूर्वोतर की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया, उन्हें उनके हालत पर छोड़ दिया गया है जिसके कारण वहां उग्रवाद पनपा, लेकिन अब उनकी सरकार नॉर्थ ईस्ट के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में जुटी है। उन्होंने कहा कि नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ बोडोलैंड (NDFB) के सभी गुटों के साथ एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किया गया। ब्रू-समझौता हुआ। इन समझौतों से दशकों पुरानी समस्याओं को हल किया गया है। सबका विश्वास हासिल कर देश आगे बढ़ रहा है।

 

 

पीएम मोदी ने कहा कि सिर्फ और सिर्फ अपने फायदे और वोट बैंक के लिए  भारत और बांग्लादेश की सीमा विवाद तक दशकों तक लटका कर रखा गया लेकिन हमारी सरकार ने इस समस्या को हल किया और आज दोनों देशों के रिश्ते ऐतिहासिक ऊंचाई पर है। 

पीएम मोदी ने रैली को संबधित करते हुए कहा कि एनसीसी युवाओं में अनुशासन, दृढ़ संकल्प और निष्ठा की भावना को करने का बहुत सशक्त मंच है. यह देश के विकास के साथ सीधे-सीधे जुड़ा है। एनसीसी कैडेट्स ने प्रधानमंत्री के सामने सांस्‍कृतिक कार्यक्रम प्रस्‍तुत करने के अलावा कला,संगीत और साहसिक खेलों के क्षेत्र में भी अपने हुनर का प्रदर्शन किया। प्रधानमंत्री ने इस मौके पर प्रतिभाशाली एनसीसी कैडटों को पुरस्कृत किया।

 

Leave a Reply