Home नरेंद्र मोदी विशेष हमारे लिए विकास सिर्फ चमक-दमक नहीं, बल्कि इसका अर्थ है- गरीब, दलित,...

हमारे लिए विकास सिर्फ चमक-दमक नहीं, बल्कि इसका अर्थ है- गरीब, दलित, वंचित, पिछड़े, आदिवासी, माताएं-बहनें, सबका सशक्तिकरण: प्रधानमंत्री मोदी

266
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी के सिगरा में कहा कि हमारे लिए विकास का अर्थ सिर्फ चमक-दमक नहीं है। हमारे लिए विकास का अर्थ गरीब, दलित, वंचित, पिछड़े, आदिवासी, माताएं-बहनें, सबका सशक्तिकरण है। हर गरीब परिवार को पक्का घर देना और हर ग्रामीण परिवार को नल के जल से जोड़ना, इन संकल्पों पर हम तेज़ी से काम कर रहे हैं। जल जीवन मिशन के तहत दर्जनों पानी की परियोजनाओं पर काम शुरू हो चुका है। पीएम मोदी ने कहा कि मेरी काशी सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास का बेहतरीन उदाहरण बन रही है। आज यहां जो लोकार्पण और शिलान्यास हुए हैं, उनमें गतिशीलता, प्रगतिशीलता और संवेदनशीलता, तीनों की झलक है।काशी की आत्मा अविनाशी, इसकी काया में नवीनता लाने के लिए कर रहे ईमानदार प्रयास
प्रधानमंत्री मोदी ने 1800 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास करने के मौके पर कहा कि काशी की आत्मा अविनाशी है, लेकिन काया में हम निरंतर विकास कार्यों से नवीनता लाने के लिए ईमानदारी से प्रयास कर रहे हैं। हमारा विकास काशी को और ज्यादा गतिशील, प्रगतिशील और संवेदनशील बनाने का है। काशी का आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर गतिशीलता को बढ़ा रहा है। शिक्षा, कौशल, पर्यावरण, स्वच्छता, व्यापार के लिए जब प्रोत्साहन मिलता है, नए संस्थान बनते हैं। आस्था और आध्यात्म से जुड़े पवित्र स्थानों की दिव्यता को आधुनिक भव्यता से जोड़ा जाता है, तब विकास प्रगतिशील होता है।काशी के विकास में गतिशीलता, प्रगतिशीलता और संवेदनशीलता, तीनों की झलक
उन्होंने कहा कि जब गरीबों को घर, बिजली-पानी-गैस-टॉयलेट जैसी सुविधाएं मिलती हैं। नाविकों, बुनकरों-हस्तशिल्पियों, रेहड़ी-पटरी वालों से लेकर बेघरों तक सभी को लाभ मिलता है, तब विकास संवेदनशील होता है। आज इस कार्यक्रम के दौरान जो लोकार्पण और शिलान्यास हुए, उनमें गतिशीलता, प्रगतिशीलता, और संवेदनशीलता, तीनों की झलक है। पीएम मोदी ने कहा कि काशी के लोगों ने ही मुझे अपना सांसद बनाकर सेवा का मौका दिया है। इसलिए जब आप लोग कुछ अच्छा काम करते हैं तो मुझे दोगुनी खुशी होती है। आज मेरी काशी, सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास का बेहतरीन उदाहरण बन रही है।

काशीवासियों ने देश को संदेश दिया है कि शॉर्ट-कट से राष्ट्र का भला नहीं हो सकता
पीएम मोदी ने कहा कि काशी के जागरूक नागरिकों ने देश को दिशा देने वाला काम किया है। काशीवासियों ने पूरे देश को संदेश दे दिया है कि शॉर्ट-कट से देश का भला नहीं हो सकता । मुझे याद है 2014 में आने के बाद काशी में बाहर से आने वाले लोग सवाल करते थे कि यहां इतना कुछ अव्यवस्थित है, सब कुछ ठीक कैसे होगा? उनकी चिंता सही भी थी। साफ लगता था कि बनारस की स्थिति सुधारने के लिए दशकों से कोई काम हुआ ही नहीं है। अब ऐसे में किसी और के लिए शॉर्ट-कट चुनना बहुत आसान था। कौन इतनी मेहनत करे, अपना सिर खपाए, पसीना बहाए। लेकिन मैं बनारस के लोगों की दाद दूंगा कि उन्होंने सही रास्ता दिखाया, सही रास्ता चुना। उन्होंने दो टूक कह दिया कि काम ऐसे हों, जो वर्तमान तो ठीक करें हीं, भविष्य में भी कई-कई दशकों तक बनारस को लाभ पहुंचाएं। बनारस के लोग जिस दूरगामी सोच पर चले, आज पूरे क्षेत्र को मिल रहा उसका लाभ
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि बीते आठ वर्षों में काशी का इंफ्रास्ट्रक्चर, कहां से कहां पहुंच गया है। इससे किसान हो, मज़दूर हो, व्यापारी हो, सभी को लाभ हो रहा है। व्यापार बढ़ रहा है, कारोबार बढ़ रहा है, टूरिज्म में विस्तार हो रहा है। यानि ये वाराणसी और इस पूरे क्षेत्र में रोज़गार का भी एक बहुत बड़ा माध्यम बन रहा है। बनारस के लोग जिस दूरगामी सोच पर चले, आज उसका लाभ पूरे क्षेत्र को हो रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि रिंग रोड हो, चौड़े नेशनल हाईवे हों, बाबतपुर सिटी लिंक रोड हो, आशापुर ROB, चौकाघाट-लहरतारा फ्लाईओवर, महमूरगंज-मंडवाडीह फ्लाईओवर, ये सब बनारस के लोगों का जीवन कितना आसान बना रहे हैं। रेल ओवर ब्रिज, वरूणा पर ब्रिज, बनने से ये सुविधा और बढ़ने वाली है।

हर गरीब परिवार को पक्का घर देना और पाइप के पानी से जोड़ना हमारा संकल्प
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के अंत में कहा कि हमारे लिए विकास का अर्थ गरीब, दलित, वंचित, पिछड़े, आदिवासी, माताएं-बहनें, सबका सशक्तिकरण है। आज ही पीएम आवास योजना के तहत वाराणसी के 600 से अधिक गरीब परिवारों को अपना पक्का घर मिला है। हर गरीब परिवार को पक्का घर देना और हर ग्रामीण परिवार को पाइप के पानी से जोड़ना, इन संकल्पों पर हम तेज़ी से काम कर रहे हैं। इनसे हज़ारों परिवारों को, विशेष रूप से बहनों को इससे बहुत सुविधा होगी। निराश्रित माताओं, बहनों, बेटियों के लिए बने आश्रय गृह से भी सबका विकास की भावना सशक्त होगी। काशी के सिगरा में बन रहा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स न सिर्फ स्थानीय, बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश की खेल प्रतिभाओं के लिए वरदान सिद्ध होगा। यहां राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी तैयार होंगे, जो राज्य और देश का नाम रोशन करेंगे।

 

Leave a Reply