Home समाचार PM Modi ने सरिस्का में आग पर काबू पाने में मदद की...

PM Modi ने सरिस्का में आग पर काबू पाने में मदद की पेशकश की तो CM गहलोत बोले- अब आग बुझ चुकी है…हकीकत यह कि सरिस्का में अब भी फैल रही है आग

229
SHARE

राजस्थान के अलवर जिले में स्थित सरिस्का बाघ अभयारण्य के जंगलों में लगी आग के बारे में सीएम अशोक गहलोत ने पीएम से झूठ बोला था। सरिस्का के जंगलों में कई किलोमीटर के क्षेत्र में आग लगने की घटना के बाद पीएम नरेन्द्र मोदी ने गहलोत से फोन पर बात करके चिंता जताई थी। उन्होंने कहा कि आग बुझाने में राज्य सरकार को किसी भी तरह की जरूरत हो तो वो हर संभव मदद को तैयार हैं। इस पर सीएम गहलोत ने चार दिन पहले उन्हें बताया कि आग करीब 20 किलोमीटर के क्षेत्र में फैली थी, जिस पर लगभग काबू पा लिया गया है। लेकिन वास्तविकता इसके उलट है, सरिस्का में आग अभी भी लगी हुई है। पहले आग बालेटा रूंध के आसपास करीब 25 वर्ग किलोमीटर में लगी थी। अब आग उससे करीब 2 से 3 किलोमीटर दूर जहाज-भैंसोटा जंगल तक फैल गई है।

सीएम ने किया था ट्वीट- जंगल में आग पर मौटे तौर पर नियंत्रण कर लिया है
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को ट्वीट किया, प्रशासन ने सरिस्का की आग पर मोटे तौर पर नियंत्रण कर लिया है और अब एक सीमित जगह पर थोड़ी आग बाकी है जिसे भी जल्द बुझा लिया जाएगा। सीएम गहलोत ने कहा, ”सरिस्का जंगल में लगी आग को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से फोन पर बात हुई। मैंने उन्हें आश्वासन दिया था कि आग पर शाम तक या कल सुबह तक काबू पा लिया जाएगा। प्रशासन ने सरिस्का की आग पर मोटे तौर पर नियंत्रण कर लिया है। उन्होंने कहा कि सरिस्का के जिस क्षेत्र में आग लगी वह पहाड़ी इलाका है जहां दमकल की गाड़ियां पहुंचने में परेशानी आई थी पर हेलिकॉप्टर के इस्तेमाल से आग पर काबू पा लिया गया। 400 से ज्यादा वनकर्मी व ग्रामीण लगातार इस कार्य में सहयोग कर रहे हैं।आग लगने की सूचना के बावजूद अफसर अंजलि तेंदुलकर की आवभगत में लगे रहे
सरिस्का के जंगलों में पिछले रविवार को आग लग गई थी, जो बढ़ते-बढ़ते 25 वर्ग किलोमीटर इलाके में फैल गई। आग बुझाने के लिए वायुसेना के दो हेलीकॉप्टर की मदद ली गई. जिस दिन आग लगी थी, उसी शाम को सरिस्का के अधिकारी सचिन तेंदुलकर की पत्नी अंजलि के इंतजार में क्षेत्र निदेशक आरएन मीणा अपने साथ अन्य अधिकारियों को साथ लेकर स्वागत में खड़े रहे दूसरी ओर आग बढ़ती गई। वनकर्मियों के जरिए अफसरों को सवा 4 बजे जंगल में आग लगने का मैसेज वायरलैस पर मिल चुका था, लेकिन इसे गंभीरता से नहीं लिया। जैसे ही अंजलि तेंदुलकर पहुंची, कुछ अफसर आरएन मीणा व उनके साथ खड़े लोगों की अंजलि तेंदुलकर के साथ कैमरे से तस्वीरें खींचने में लगे रहे।

अंजलि तेंदुलकर को दो-दो टाइगर साइटिंग कराने वाले अफसर एपीओ
इसके बाद भी अधिकारियों ने आग पर कुछ करने से पहले अपना अगला टारगेट जंगल में अंजलि तेंदुलकर को टाइगर की साइटिंग कराना तय किया। उस काम को सरिस्का के अधिकारी आरएन मीणा ने ड्राइवर बनकर बखूबी पूरा किया। एक नहीं दो-दो टाइगर की साइटिंग कराई। उन्हें नहीं पता था कि आग को भूलना इतना भारी पड़ जाएगा कि हेलिकॉप्टर से भी काबू पानी मुश्किल होगा। जब यह मामला दिल्ली तक पहुंच गया, तब जाकर वन एवं पर्यावरण मंत्री हेमाराम चौधरी ने अलवर वन संरक्षक और सरिस्का फील्ड डायरेक्टर आर. एन. मीणा को एपीओ किया।

अब सरिस्का के जंगल में आग पर काबू पाने के लिए जयपुर-दौसा से टीमें बुलाईं
सीएम ने जिस आग पर काबू पाने का दावा किया था, सरिस्का के जंगल में वह आग अभी भी लगी हुई है और लगातार फैल रही है। गर्म मौसम और हवाओं की मदद के भी आग तेजी से फैल रही है। रात्रि में तो तीन किलोमीटर दूर से आग की लपटों को देखा जा सकता है। अब जयपुर-दौसा से टीमें बुलाई गई हैं। सरिस्का में टाइगर सहित दूसरे वन्य जीव दोबारा खतरे में हैं। डीएफओ सुदर्शन के अनुसार आग करीब 2 वर्ग किलोमीटर में लगी हुई है। वहीं, ग्रामीणों के अनुसार आग का एरिया ज्यादा है। आसपास में 5 टाइगर की टेरिटरी लगती है। टाइगर मूव करेंगे तो खतरा भी बढ़ने का अनुमान है।

पहले सरिस्का में आग बुझ नहीं पाई थी, पर ऑपरेशन को पूरा मान लिया गया था
डीएफओ ने बताया कि 4 दिन पहले सरिस्का के जंगल में फैली आग को दो हेलिकॉप्टर की मदद से बुझाया गया था, लेकिन उस समय आग पूरी तरह नहीं बुझ पाई थी। इससे पहले ही ऑपरेशन पूरा मान लिया गया। अभी भी आग जल रही है। सरिस्का के जंगल में आग बुझाने में करीब 150 कर्मचारी लगे हैं। अब जंगल में डीएफओ के साथ टहला रेंजर, अकबरपुर, अलवर बफर, सदर, तालवृक्ष व जयपुर की जमवारामगढ़ रेंज की टीम आग बुझाने में लगी हैं। पहले की तरह ग्रामीण व वनकर्मी पेड़ों की हरी टहनियों से आग को आगे बढ़ने से रोकने में लगे हैं।

 

Leave a Reply