Home समाचार नौकरी देने के मामले में भारत का रक्षा मंत्रालय पूरे विश्व में...

नौकरी देने के मामले में भारत का रक्षा मंत्रालय पूरे विश्व में नंबर वन, अमेरिका और चीन भी पीछे

344
SHARE

चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी सेना है। लेकिन नौकरी देने के मामले में भारतीय सेना पूरी दुनिया में नंबर वन है। जर्मनी स्थित निजी संगठन स्टेटिस्टा की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत का रक्षा मंत्रालय 29.2 लाख लोगों को नौकरी देने के साथ दुनिया का सबसे बड़ा नियोक्ता है। इनमें तीनों सेना के सभी विभागों की नौकरी को शामिल किया गया है।

2022 में दुनिया भर में सबसे बड़े कार्यबल वाले एंप्लॉयर (नियोक्ताओं) को लेकर स्टेटिस्टा इन्फोग्राफिक ने एक रिपोर्ट जारी की जिसके अनुसार, नौकरी देने के मामले में भारतीय सेना अमेरिका और चीन से भी आगे है। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय नौकरी देने के मामले में दूसरे नंबर पर है जबकि चीन तीसरे नंबर पर है। एक ओर जहां अमेरिकी रक्षा मंत्रालय 29.1 लाख लोगों को नौकरी दे रहा है वहीं चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी में 25.5 लाख कर्मचारी हैं।

बाजार और उपभोक्ता डेटा में विशेषज्ञता रखने वाली हैम्बर्ग स्थित फर्म ने कहा, चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी जिसमें नागरिक पद शामिल नहीं है, लगभग 25 लाख लोगों को रोजगार देता है। केंद्रीय सैन्य आयोग में 68 लाख लोग कार्यरत हो सकते हैं। हालांकि, ये आंकड़ा इस सूची में शामिल होने के लिए पर्याप्त रूप से विश्वसनीय नहीं माना गया हैं।

सेना पर खर्च करने के मामले में भारतीय सेना तीसरे नंबर है जबकि चीन दूसरे और अमेरिका पहले नंबर पर है। स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (SIPRI) की रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, भारत, यूनाइटेड किंगडम और रूस ये पांच बड़े देश हैं जिन्होंने मिलकर 62 प्रतिशत राशि खर्च की। अमेरिका ने अपनी सेना पर साल 2021 में 801 अरब डॉलर खर्च किए। जबकि, चीन ने 293 अरब डॉलर खर्च किए थे। वहीं, भारत ने अपनी सेना पर 76.6 अरब डॉलर खर्च किया था।

Leave a Reply