Home समाचार किसानों के मुद्दे पर पंजाब से हरियाणा की तुलना कर सीएम खट्टर...

किसानों के मुद्दे पर पंजाब से हरियाणा की तुलना कर सीएम खट्टर ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को घेरा, पूछा – किसान विरोधी कौन है?

493
SHARE

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह नवजोत सिंह सिद्धू के चक्रव्यूह में फंसे नजर आ रहे हैं। इससे निकलने के लिए वो किसान आंदोलन को हथियार बना रहे हैं। लेकिन अब वहीं हथियार उनके खिलाफ इस्तेमाल होने लगा है। जहां सिद्धू ने अपनी ही सरकार को घेरते हुए कहा कि पंजाब में गन्ने की कीमत हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से कम है, वहीं हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी किसानों के हित में बीजेपी सरकार द्वारा उठाए गए कदमों का जिक्र कर कैप्टन को घेर लिया। मुख्यमंत्री खट्टर ने हरियाणा और पंजाब की तुलना करते हुए एक के बाद एक आठ ट्वीट कर सवालों की झड़ी लगा दी।

हाल ही में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसान संगठनों के आंदोलन के बीच मनोहर लाल से इस्तीफा मांगा था, जिसके बाद मनोहर लाल ने सोमवार (30 अगस्त, 2021) को किसान संगठनों के आंदोलन के लिए पंजाब सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इस आंदोलन के पीछे कैप्टन अमरिंदर का हाथ है। मुख्यमंत्री खट्टर ने ट्वीट करते हुए पंजाब सरकार को कठघरे में खड़ा किया। उन्होंने पहले ट्वीट में कहा कि हरियाणा गेहूं, धान, सरसों, बाजरा, चना, मूंग, मक्का, मूंगफली, कपास और सूरजमुखी समेत 10 फसलें एमएसपी पर खरीदता है। फसलों की कीमत सीधे किसानों के खाते में जाती है। पंजाब सरकार बताए कि वह अपने राज्य में कितनी फसलें एमएसपी पर खरीदती है?

मुख्यमंत्री खट्टर ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि हरियाणा में किसानों को धान की खेती छोड़ने वाले हर किसान को 7000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से इन्‍टेंसिव दिया जाता है। पंजाब में ऐसा करने वाले किसानों को क्‍या इन्‍टेंसिव मिलता है ? मनोहरलाल ने अपने तीसरे ट्वीट में कहा है कि यदि किसानों की पेमेंट 72 घंटे से लेट हो जाए तो राज्‍य सरकार किसान को 12 प्रतिशत की दर से ब्याज देती है। क्या पंजाब अपने किसानों को यह ब्याज देता है? चौथे ट्वीट में पंजाब सरकार पर सवाल उठाते हुए मनोहरलाल ने कहा है कि हरियाणा में धान की सीधी बिजाई करने वाले किसानों को पांच हजार रुपये प्रति एकड़ दिए जाते हैं, क्या पंजाब सरकार ऐसा करती है?

मुख्यमंत्री खट्टर ने हमला जारी रखते हुए अपने पांचवें ट्वीट में कहा कि धान की पराली के निस्तारण के लिए एक हजार रुपये प्रति एकड़ देता है। क्या पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह अपने किसानों को ऐसा कोई लाभ देते हैं? अगले ट्वीट में मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा पिछले सात सालों से अपने राज्य के किसानों को देश में सबसे अधिक गन्ने का भाव दे रहा है। पंजाब ने आंदोलन के चलते अब हरियाणा की तर्ज पर यह राशि बढ़ाई है, क्यों। आखिरी ट्वीट में मनोहर लाल ने कैप्टन अमरिंदर से पूछा कि अब आप बताएं कि किसान विरोधी कौन हुआ? हरियाणा या पंजाब।

Leave a Reply