Home विपक्ष विशेष फंस गए गुरु ! करोड़ों रुपए के ड्रग्स केस में ट्वीट कर...

फंस गए गुरु ! करोड़ों रुपए के ड्रग्स केस में ट्वीट कर सवाल उठाने पर सिद्धू के खिलाफ क्रिमिनल कंटेप्ट दाखिल, हरियाणा के AG ने दिए 25 नवंबर तक दस्तावेज पेश करने के आदेश

708
SHARE

पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू अपने ट्वीट्स के कारण अक्सर चर्चा में रहते हैं। सोनिया गांधी की इच्छा के विरुध पार्टी के नेताओं पर निशाना साधने के लिए भी वे इस सोशल प्लेटफार्म का इस्तेमाल करते हैं। वे ट्वीट के माध्यम से ही लोगों तक अपनी बात पहुंचाते हैं। लेकिन इस बार सिद्धू के ट्वीट उनके लिए जी का जंजाल बन सकते हैं। गले की हड्डी बने गुरू के ट्वीट के खिलाफ क्रिमिनल कंटेंप्ट दायर किया गया है। इसकी सुनवाई 25 नवंबर को होगी।

कोर्ट की कार्रवाई में दबाव बनाने और इमेज खराब करने वाले हैं ट्वीट
पंजाब के करोड़ों रुपए के बहुचर्चित ड्रग्स केस में ताबड़तोड़ ट्वीट करने की वजह से प्रदेश कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू कानूनी पचड़े में फंसते नजर आ रहे हैं। सिद्धू के खिलाफ पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के वकील ने क्रिमिनल कंटेप्ट पिटीशन दायर की है। इसमें कहा गया है कि सिद्धू के सुनवाई से पहले किए गए ट्वीट कोर्ट की कार्रवाई में दबाव बनाने और अदालत की इमेज खराब करने वाले हैं। इस पिटीशन में सिद्धू के ट्वीट भी लगाए गए हैं।

सिद्धू सिस्टम के खिलाफ जाकर ये काम कर रहे हैं
सिद्धू के खिलाफ पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में क्रिमिनल कंटेंप्ट हाईकोर्ट के वकील परमप्रीत सिंह बाजवा ने दाखिल किया है. बाजवा ने कहा है कि ड्रग्स मामले में सिद्धू अपने ट्वीट के जरिए हाईकोर्ट को डायरेक्शन देते हुए प्रतीत होते हैं. उन्होंने कहा कि ड्रग्स मामले की सुनवाई से पहले सिद्धू ट्वीट करते हैं. सिद्धू सिस्टम के खिलाफ जाकर ये काम कर रहे हैं।पंजाब में एडवोकेट जनरल नहीं, इसलिए हरियाणा में शिकायत
पंजाब में इस समय एडवोकेट जनरल (AG) नहीं है, इसलिए यह पिटीशन हरियाणा के एडवोकेट जनरल के पास दाखिल की गई है। इस ड्रग्स केस में हरियाणा भी पार्टी है। पिटीशन दायर करने वाले एडवोकेट परमप्रीत सिंह बाजवा के मुताबिक आपराधिक अवमानना की याचिका पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में दाखिल करने से पहले इसके लिए एडवोकेट जनरल की स्वीकृति जरुरी होती है। इसीलिए पहले यह याचिका हरियाणा के एजी के सामने दाखिल की गई है।

सिद्धू एक तरह से हाईकोर्ट को डायरेक्शन देने की कोशिश करते हैं
एडवोकेट बाजवा ने कहा कि वह पंजाब और हरियाणा बार के कार्यकारी सदस्य हैं। पंजाब के बहुचर्चित ड्रग्स केस मामले की पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में होने वाली सुनवाई से पहले पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू ट्वीट करते हैं कि आज रिपोर्ट खुल जाएगी। ऐसा करके सिद्धू एक तरह से हाईकोर्ट को डायरेक्शन देने की कोशिश कर रहे हैं, जो उचित नहीं है। सिद्धू को कोर्ट के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

एजी ने याची को दिए 25 नवंबर तक दस्तावेज पेश करने के आदेश
पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत के खिलाफ आपराधिक अवमानना का मामला चलाए जाने की इजाजत की मांग को लेकर दाखिल याचिका पर हरियाणा के एडवोकेट जनरल ने मंगलवार को सुनवाई की। एजी ने याची को 25 नवंबर तक दस्तावेज पेश करने का आदेश दिया है। आपराधिक अवमानना का केस चलाने की मांग को लेकर याची बाजवा की अर्जी पर सुनवाई के दौरान उन पर अकाली दल से जुड़े होने के आरोप लगे।

याची बोला, मेरी कांग्रेस के कईं मंत्रियों के साथ भी फोटो
इस पर उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि मेरी तो कांग्रेस के कईं मंत्रियों के साथ भी फोटो हैं। ऐसे में इस तरह के आरोप लगाना सही नहीं है। सवाल यह है कि सिद्धू हाईकोर्ट में चल रहे इस मामले में बार-बार टिप्पणियां कर दखल देते हुए न्यायिक प्रक्रिया को बाधित कर रहे हैं। उस पर आपराधिक अवमानना का मामला चलाया जाना चाहिए, इसीलिए उन्होंने यह याचिका दायर की है।पंजाब में नशे के कारोबार को लेकर हाईकोर्ट चल रही सुनवाई
बाजवा ने अपनी याचिका में कहा है कि पंजाब के नशे के कारोबार को लेकर हाईकोर्ट स्वत: संज्ञान लेकर सुनवाई कर रहा है। नवजोत सिद्धू लगातार हाईकोर्ट में विचाराधीन इस मामले को लेकर टिप्पणियां कर रहे हैं। इससे न सिर्फ अदालती कार्यवाही में वह दखलंदाजी कर रहे हैं, बल्कि अदालत पर भी वह टिप्पणियां कर रहे हैं। यह सीधे तौर पर हाईकोर्ट की आपराधिक अवमानना का मामला बनता है। ऐसे में बाजवा ने हरियाणा के एडवोकेट जनरल से सिद्धू के खिलाफ हाईकोर्ट में आपराधिक अवमानना का केस चलाने की इजाजत मांगी है।

 

 

Leave a Reply