Home पोल खोल राम मंदिर के विरोधी आज़म बता रहे राम-कृष्ण को पैगम्बर

राम मंदिर के विरोधी आज़म बता रहे राम-कृष्ण को पैगम्बर

1995
SHARE

…उप्र में चुनाव सर पर है और सपा में अंतर्कलह आसमान पर। लेकिन आज़म खान मुसलमानों को साधने पूरी तरह से चुनावी चुनावी मोड में आ गए हैं। दरअसल, आजम ही अखिलेश की नज़र में मुसलमान वोटों को उनके पक्ष में साधने वाले बड़े नेता रह गए हैं और आज़म इस भूमिका को पूरी शिद्दत से निभाने में लग गए हैं…

 news-2-polkhol

बरेली। उप्र में चुनाव आते ही सपा नेता आज़म खान बयानबीर की भूमिका में आ जाते हैं। आज़म के सांप्रदायिक बोल एक नंबर पर होता है। पर वे बीजेपी पर सांप्रदायिक होने को लेकर हमला करते हैं। दरअसल, मंत्री आज़म जब कभी भी बोलते हैं, कोई भी कार्यक्रम करते हैं वह हमेशा अपनी जुबान से सिर्फ मुसलमानों को संबोधित कर रहे होते हैं। इस संबंध में मंत्री आज़म पर सवाल उठते रहे हैं। लोकसभा में कारगिल युद्ध में सिर्फ मुसलमानों की भूमिका बताकर वे सेना में सांप्रदायिक हवा बहाने को प्रयास कर चुके हैं।

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के मुख्य पैरोकार हासिम अंसारी जीवन भर कहते रहे कि आज़म खान जैसे लोगों के चलते राम मंदिर का मुद्दा नहीं सुलझ रहा। हासिम अंसारी ने हमेशा से आज़म खान को इस मुद्दे को लटकाने, समझौता नहीं होने देने  आरोप मढ़ा और अंसारी मरते-मर गए पर उन्होंने कभी आज़म खान को इस मुद्दे पर माफ नहीं किया। अपने जीवन के अंत समय तक उनका ख्वाहिश थी कि राम मंदिर मुद्दे का समाधान हो जाए और वे अपनी आंखों से राम मंदिर बनना देखना चाहते थे। पर इसके विरोध में उप्र सरकार में मंत्री बन बैठे आज़म की राजनीति सबसे हावी रही। अखिलेश हमेशा आज़म की बात मानकर राम मंदिर मुद्दे पर दखल देते रहे।

अब उप्र में चुनाव सर पर है और सपा में अंतर्कलह आसमान पर। लेकिन आज़म खान मुसलमानों को साधने पूरी तरह से चुनावी चुनावी मोड में आ गए हैं। दरअसल, आजम ही अखिलेश की नज़र में मुसलमान वोटों को उनके पक्ष में साधने वाले बड़े नेता रह गए हैं।

बरेली की एक सभा में आजम खान ने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण से हमें कोई एतराज नहीं है। कुरान में एक लाख 40 हजार पैगम्बरों का जिक्र है पर नाम सिर्फ 20 पैगम्बरों के हैं, इस लिहाज से राम और कृष्ण पैगम्बर हो भी सकते हैं और नहीं भी।

अरविंद केजरीवाल की तरह आजकल हर मुद्दे पर पीएम मोदी पर टिप्पणी कर रहे आज़म ने तीन तलाक के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा हैं। आजम खान ने कहा कि हमारी महिलाओं की इतनी फिक्र क्यों है, कभी अपनी महिला से भी इतनी मोहब्बत कर लें, वह थ्री व्हीलर से पूछती फिर रही है घर कहां है।

आजम ने कहा कि गुजरात में जब दंगा हुआ था तब पीएम मोदी का मुस्लिम महिलाओं के लिए यह दर्द कहां था। तलाक के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि तलाक मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का मसला है और धर्म में किसी के साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव के लिए तीन तलाक को मुद्दा बनाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY