Home समाचार मोदी राज में भारत-भूमि से बढ़ा अमेरिकी पर्यटकों का लगाव

मोदी राज में भारत-भूमि से बढ़ा अमेरिकी पर्यटकों का लगाव

2083
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती का सकारात्मक असर भारत के पयर्टन उद्योग पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। चालू वर्ष के पहले 8 महीने में भारत आने वाले अमेरिकी पयर्टकों की संख्या में 8.18 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।
जिस साल (2014) नरेन्द्र मोदी ने देश की सत्ता की बागडोर संभाली, उसके एक साल पहले यानी 2013 के मुकाबले 3.10 प्रतिशत ज्यादा अमेरिकी पयर्टक हिन्दुस्तान की धरती पर आए, लेकिन उसके अगले ही साल यानी 2015 में भारत आने वाले अमेरिकी पयर्टकों की संख्या में जबरदस्त उछाल आया। 2014 के 11,18,983 के मुकाबले 2015 में 12,13,624 अमेरिकी पर्यटक भारत आए। यानी इसमें 8.46 प्रतिशत की वृद्धि हुई। अच्छी बात ये है कि बढ़ोतरी का ये सिलसिला तब से लगातार जारी है। वर्ष 2016 में ये संख्या 6.86 प्रतिशत की बढ़ोतरी के साथ 12,96,939 हो गई और पिछले साल यानी 2017 में 6.17 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 13,76,919 पहुंच गई। 

वैज्ञानिक आधार पर तैयार किया गया डाटा
अमेरिकी पर्यटकों की साल-दर-साल बढ़ोतरी की ये रिपोर्ट काफी वैज्ञानिक आधार पर तैयार की गई है। भारत का आप्रवासन ब्यूरो (बीओआई) देश में स्थित सारे अंतर्राष्‍ट्रीय चेक पोस्‍ट पर पहुंचने वाले हर व्‍यक्ति के स्‍कैन किये हुए पासपोर्ट के रिकॉर्ड से एफटीए यानी विदेशी पर्यटकों का आगमन डाटा का तैयार करता है। इसमें हवाई अड्डे, बंदरगाह और लैंड चेक पोस्‍ट तीनों को शामिल किया जाता है। कहने की जरूरत नहीं कि इस रिपोर्ट में गड़बड़ी की कोई गुंजाइश नहीं रहती।

आखिर क्यों बढ़ रही है अमेरिकी पर्यटकों की संख्या?
नरेन्द्र मोदी के तकरीबन साढ़े चार साल के शासनकाल में हिन्दुस्तान की शक्ल और सूरत काफी हद तक बदल गई है। पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान ने खुले में शौच की आदत को आश्चर्यजनक रूप से कम कर दिया है। सरकार के अभूतपूर्व प्रयास और जनभागीदारी की वजह से इस दौरान लगभग 9 करोड़ शौचालय बनवाए गए हैं। कानून-व्यवस्था की बेहतर होती स्थिति ने भी पर्यटकों को भारत की ओर आकर्षित किया है। हिन्दुस्तान के गौरवशाली इतिहास का अंतरराष्ट्रीय मंच पर प्रचार-प्रसार भी पर्यटकों के आकर्षण की वजह बना है।

आइए एक नजर डालते हैं पर्यटन क्षेत्र की उपलब्धियों पर-

ई-वीजा से विदेशी सैलानियों की संख्या में हुई बढ़ोतरी
इसी क्रम में वीजा ऑन अराइवल (विदेशियों के स्‍वदेश आगमन के बाद उन्‍हें वीजा उपलब्ध कराने) सुविधा और ई-टूरिज्‍म वीजा के प्रारंभ होने से भी भारत आने वाले पर्यटकों को बढ़ावा मिला है। केंद्र सरकार 165 देशों से आने वाले नागरिकों को ई-पर्यटक वीजा उपलब्ध करा रही है। ई-वीजा की सुविधा मिलने के बाद से भारत के प्रति विदेशी सैलानियों की रुचि और बढ़ी है और वे बड़ी संख्या में भारत आ रहे हैं। 2017 के पूरे वर्ष के दौरान ई-पर्यटक वीजा पर कुल मिलाकर 16.97 लाख विदेशी पर्यटक आए, जबकि वर्ष 2016 में यह संख्‍या 10.80 लाख थी। यह 57.2 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्शाता है।

मोदी सरकार भारत आने वाले पर्यटकों को किसी भी तरह की असुविधा से बचाने के लिए 25 एयरपोर्ट्स और 5 बंदरगाहों पर ई-वीजा की सुविधा दे रही है। इस ई-वीजा की वैधता की सीमा को भी 30 दिन से बढ़ाकर 60 दिन कर दिया गया है। साथ ही भारत आने वाले पर्यटकों को वेलकम कार्ड देने की भी शुरुआत की जा चुकी है, जिससे सैलानियों को सभी महत्वपूर्ण जानकारियां एक ही स्थान पर मिल जाएं और उन्हें किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े।

 

Leave a Reply