Home समाचार राष्ट्रभक्ति से बड़ी कोई भक्ति नहीं और राष्ट्रहित से बड़ा कोई हित...

राष्ट्रभक्ति से बड़ी कोई भक्ति नहीं और राष्ट्रहित से बड़ा कोई हित नहीं : पीएम मोदी

381
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 जनवरी को दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में राष्ट्रीय कैडेट कोर की रैली को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि इस समय देश अपनी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। जब युवा देश इस तरह के अवसर का साक्षी बनता है तो उसके उत्सव में एक अलग ही उत्साह दिखता है, यही उत्साह मैं करियप्पा ग्राउंड में भी मैंने देखा। मोदी ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव में जो कार्य हुए वे आगे भी होते रहें, इसका ​दारोमदार युवाओं पर है। उन्होंने कहा कि आपको ही 2047 तक देश को आन बान शान के साथ आगे ले जाना है। अपने संबोधन के दौरान पीएम ने कहा कि आपके संकल्प, उन संकल्पों की सिद्धि, भारत की सिद्धि होगी, भारत की सफलता होगी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रभक्ति से बड़ी कोई भक्ति नहीं होती, राष्ट्रहित से बड़ा कोई हित नहीं होता।देश को सर्वोपरि रखते हुए, आप जो भी करेंगे, वो देश के विकास में मदद करेगा। आज हमारे युवाओं ने भारत को स्टार्ट-अप की दुनिया में टॉप तीन में पहुंचा दिया है। कोरोना के इस संकट काल में जितने यूनिकॉर्न बने हैं, वो भारत के युवाओं का शक्तिप्रदर्शन है। आप कल्पना कर सकते हैं- 50 से ज्यादा यूनिकॉर्न कोरोना काल के दौरान अस्तित्व में आए हैं। एक-एक यूनिकॉर्न, एक एक स्टार्ट अप की पूंजी साढ़े सात हजार करोड़ रुपए से ज्यादा है।

नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ रहा देश

अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा आज जब देश नए संकल्पों के साथ आगे बढ़ रहा है, तब देश में एनसीसी को मजबूत करने के लिए भी हमारे प्रयास जारी हैं। इसके लिए देश में एक हाई लेवेल रिव्यू कमेटी की स्थापना की गई है। पिछले दो सालों में हमने देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में 1 लाख नए कैडेट्स बनाए हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें खुशी है कि एनसीसी कैडेट्स की ट्रेनिंग में सिमुलेशन जैसी आधुनिक टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल भी बढ़ रहा है। एजुकेशन सिस्टम को एनसीसी से जोड़ने के लिए भी देश कई अहम कदम उठा रहा है। पूरी तरह से self-financing scheme के तहत 1 लाख कैडेट्स का विस्तार देश के कॉलेजों में किया गया है। 1 लाख कैडेट्स को लेकर यही प्रयास अब स्कूलों में भी शुरू किया गया है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत देश की 90 universities ने NCC को elective subject के रूप में भी शुरू किया है। पीएम ने कहा कि आज यहाँ बड़ी संख्या में girl cadets को देख रहा हूँ। ये देश के बदलते मिजाज का प्रतीक है।

भारत को बड़ी उम्मीद से देख रही दुनिया 

पीएम मोदी ने कहा कि ताकत ऐसी हो कि कठिन से कठिन परिस्थिति का भी हंसकर, डटकर मुकाबला कर सकें। आज मां भारती, भारत के युवाओं से यही आह्वान कर रही है।  उन्होंने कहा कि आने वाले 25 साल का अमृतकाल, देशभक्ति के ज्वार का है। और आज चुनौती इस बात की नहीं है कि दुनिया में कोई इसे स्वीकार करेगा या नहीं। आज महत्व इस बात का है कि जब दुनिया भारत को इतनी उम्मीदों के साथ देख रही है, इतने भरोसे के साथ देख रही है, तो भारत अपने प्रयासों में कहीं से भी कमजोर तो नहीं पड़ जाएगा। आज आजादी के अमृत महोत्सव में भारत ने जो संकल्प लिए हैं, जो अभियान शुरू किए हैं, वो निरंतर नई ऊर्जा पाते रहें, इसका बहुत बड़ा दायित्व कोटि-कोटि नव जवानों पर है।

देश ने दुनिया को दिखाई अपनी समाज शक्ति  

कोरोना के इस काल ने पूरी दुनिया को हम भारतीयों के अनुशासन, हम भारतीयों की समाज शक्ति का परिचय दिया है। जब जनता कर्फ्यू के दौरान पूरा देश कोरोना से लड़ने के लिए एकजुट हो गया, तो पूरा विश्व हैरान रह गया था। कुछ लोग हमारे समाज को कोसते हैं लेकिन इसी समाज ने दिखा दिया कि जब बात देश की हो, तो उससे बढ़कर कुछ नहीं।

Leave a Reply