Home समाचार सिद्धू के सलाहकार ने की इंदिरा और कश्मीर पर आपत्तिजनक पोस्ट, कांग्रेस...

सिद्धू के सलाहकार ने की इंदिरा और कश्मीर पर आपत्तिजनक पोस्ट, कांग्रेस में मचा घमासान, मनीष तिवारी ने सलाहकार को बताया देशद्रोही

460
SHARE

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के बीच खींचतान जारी है। दोनों के बीच लगी आग में घी डालने का काम सिद्धू के सलाहकार कर रहे हैं। सिद्धू के एक सलाहकार द्वारा कश्मीर को अलग देश बताने और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की विवादित तस्वीर शेयर करने से कांग्रेस में घमासान मच गया है। जहां मुख्यमंत्री अमरिंदर ने दोनों सलाहकारों को सिर्फ सिद्धू को सलाह देने तक सीमित रहने की नसीहत दी, वहीं मनीष तिवारी ने देशद्रोही तक करार दिया। इसी बीच सिद्धू ने विवाद बढ़ने पर अपने सलाहकार डॉक्टर प्यारे लाल गर्ग और मलविंदर सिंह माली को तलब किया।

दरअसल, सिद्धू के सलाहकार मालविंदर सिंह माली ने पहले फेसबुक पर कश्मीर को लेकर विवादित पोस्ट किया था, जिसमें केंद्र शासित प्रदेश को अलग देश बताया। माली ने फेसबुक पोस्ट लिखा कि कश्मीर अलग देश है और भारत ने इस पर कब्जा कर रखा है। उन्होंने कहा कि कश्मीर वहां के लोगों का है। कश्मीर को आजाद कर देना चाहिए। यहां तक कि माली ने अफगानिस्तान पर तालिबानियों द्वारा कब्जा किए जाने को सही बताया।

इसके बाद उन्होंने एक और पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किया, जो कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का था। इस कार्टून में इंदिरा गांधी के पीछे खोपडियों का ढेर लगा हुआ है और इस पेज पर पंजाबी में लिखा है, “हर जबर दी इही कहाणी, करना जबर ते मुँह दी खाणी’, अर्थात ‘हर जुल्म करने वाले की यही कहानी है। अंत में उसे मुंह की खानी पड़ती है।’ एक तरह से उन्होंने सिख दंगों के लिए कांग्रेस को और स्वर्ण मंदिर में हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार के लिए इंदिरा गांधी को जिम्मेदार ठहराते हुए ये स्केच शेयर किया।

माली के इस पोस्ट के बाद कांग्रेस में तूफान उठ खड़ा हुआ है। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने फटकार लगाते हुए कहा कि डॉक्टर प्यारे लाल गर्ग और मलविंदर सिंह माली सिर्फ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को सलाह देने तक ही खुद को सीमित रखें तो बेहतर है। उन्होंने कहा कि ये संवेदनशील मुद्दे हैं, इसीलिए इन पर वो अधूरा ज्ञान रख कर न बोलें। अमरिंदर सिंह ने नसीहत दी कि जिस चीज के बारे में जानकारी न हो, उस पर नहीं बोलना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे बयानों से देश और राज्य की शांति और स्थिरता खतरनाक रूप से प्रभावित होती है।

उधर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने नाराजगी जाहिर करते हुए प्यारे लाल गर्ग और माली को देशद्रोही करार दिया। इसके साथ ही तिवारी ने कहा कि सिद्धू के दोनों सलाहकार न केवल राज्य, बल्कि देश की स्थिरता के लिए भी बड़ा खतरा हैं।तिवारी ने कहा, “1994 में संसद में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव के अनुसार जम्मू औऱ कश्मीर देश का अटूट अंग है। अगर देश के बंटवारे के बाद कोई काम बचा है तो वो उन इलाकों को वापिस लेना है जिनपर पाकिस्तान का अवैध कब्जा है। ऐसे में इस तरह की बात करने वालों को पार्टी तो छोड़िए देश में रहने का अधिकार है?”

Leave a Reply