Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी ने रोम में की पेड्रो सांचेज, एंजेला मर्केल और जोको...

प्रधानमंत्री मोदी ने रोम में की पेड्रो सांचेज, एंजेला मर्केल और जोको विडोडो से मुलाकात

209
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 31 अक्टूबर को रोम में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर में स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज से मुलाकात की। इस मुलाकात में दोनों नेताओं ने ऊर्जा, व्यापार सहित कई मुद्दों पर बात की। प्रधानमंत्री मोदी और सांचेज ने बढ़ते द्विपक्षीय व्यापार और निवेश का स्वागत किया, जिनमें एयरबस-स्पेन से 56 सी295 हवाई जहाज खरीदने का समझौता भी शामिल है। इनमें 40 विमान टाटा एडवांस्ड सिस्टम के सहयोग से भारत में निर्मित किए जाएंगे।

दोनों नेताओं ने ई-मोबिलिटी, स्वच्छ तकनीक, उन्नत साजो-सामान और गहरे सागर में खोज जैसे नये क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर सहमति व्यक्त की। प्रधानमंत्री मोदी ने स्पेन को आमंत्रित किया कि वह ग्रीन हाइड्रोजन, अवसंरचना और रक्षा निर्माण जैसे विभिन्न सेक्टरों में निवेश करे तथा भारत की विश्वस्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर विकास (एनआईपी), गैर-इस्तेमालशुदा या कम इस्तेमालशुदा सार्वजनिक परिसम्पत्तियों की आर्थिक क्षमता के आधार पर निवेश के नये स्रोतों और गति शक्ति योजना का लाभ उठाएं।

प्रधानमंत्री मोदी और सांचेज ने भारत-यूरोपीय संघ सम्बंधों तथा जलवायु परिवर्तन और कॉप-26 की प्राथमिकताओं पर भी चर्चा की। उन्होंने अफगानिस्तान और हिन्द-प्रशांत सहित आपसी हितों के वैश्विक मुद्दों पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया। प्रधानमंत्री मोदी ने आशा व्यक्त की कि अगले वर्ष उन्हें भारत में प्रधानमंत्री सांचेज का स्वागत करने का मौका मिलेगा।

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से बातचीत
इटली के रोम में जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री मोदी ने जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच भारत-जर्मनी संबंधों पर व्यापक विचार-विमर्श हुआ। उम्मीद की जा रही है कि दोनों देशों के बीच मजबूत दोस्ती पूरे विश्व के लिए लाभदायक सिद्ध होगी।

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो से मुलाकात
प्रधानमंत्री मोदी ने रोम में इंडोनशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो से मुलाकात भी की। इंडोनेशिया के साथ मजबूत संबंध भारत की ‘एक्ट ईस्ट’ पॉलिसी और ‘सागर’ विजन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। बातचीत के दौरान दोनों नेताओं ने आर्थिक संबंधों और सांस्कृतिक सहयोग में सुधार के तरीकों पर प्रमुखता से विचार किया।

Leave a Reply