Home नरेंद्र मोदी विशेष UKRAINE से सकुशल स्वदेश आ रहे मेडिकल स्टुडेंट, युद्ध के हालात के...

UKRAINE से सकुशल स्वदेश आ रहे मेडिकल स्टुडेंट, युद्ध के हालात के बीच से बेटी वापस आई तो भावुक पिता ने PM-CM राहत कोष में दिया दान, पीएम मोदी का जताया आभार

453
SHARE

रूस-यूक्रेन के युद्ध के बीच पीएम मोदी सरकार के प्रयास रंग ला रहे हैं। सैकड़ों अन्य मेडिकल छात्रों से साथ हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले की अंकिता ठाकुर यूक्रेन से लौटी हैं। अंकिता की सकुशल स्वदेश वापसी और घर पहुंचने पर उसके माता-पिता भाव-विह्वल हो गए। इस दौरान भावुक पिता ने डॉ. जेबी ठाकुर ने प्रधानमंत्री राहत कोष और मुख्यमंत्री राहत कोष में रुपये दान किए हैं। हिमाचल की ही साक्षी शर्मा रोमानिया बॉर्डर से होते हुए अपने घर सोलन पहुंची। साक्षी और उसके परिवारीजनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और यूक्रेन में भारत की ऐंबैसी का आभार जताया है।

ऑपरेशन गंगा अभियान में अब भारतीय वायु सेना भी करेगी मदद
यूक्रेन में फंसे भारतीयों को वापस स्वदेश लाने के लिए मोदी सरकार युद्ध स्तर पर काम कर रही है। ऑपरेशन गंगा के तहत कई फ्लाइटों से सैंकड़ों भारतीयों की घर वापसी हो भी चुकी है। अब मोदी सरकार ने यूक्रेन से भारतीयों को लाने के लिए भारतीय वायु सेना को भी ऑपरेशन गंगा अभियान में शामिल करने का निर्णय लिया है। ताकि जल्द से जल्द यूक्रेन में फंसे भारतीयों की घर वापसी हो सके। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वायु सेना के अफसरों से कम समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों को निकालने के लिए मदद करने को कहा है। इस ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए वायु सेना ऑपरेशन गंगा में कई C-17 विमान तैनात करेगी। इसके साथ ही इसकी मदद से यूक्रेन को मानवीय मदद भी पहुंचाई जाएगी।

हिमाचल की बेटी वापस आई तो माता-पिता हुए भावुक
मोदी सरकार के प्रयासों से अपने घर हिमाचल लौटी अंकिता ठाकुर के पिता डॉ. जेबी सिंह आयुर्वेदिक स्वास्थ्य केंद्र झलेड़ी में बतौर चिकित्सक सेवाएं दे रहे हैं। जबकि माता अनीता देवी ग्रहणी हैं। अंकिता एचआरटीसी की वॉल्वो बस से हमीरपुर बस स्टैंड पहुंची तो अंकिता के पिता भावुक हो गए। हमीरपुर जिले के अमरोह के साथ लगते गांव चुनहाल की अंकिता ठाकुर यूक्रेन से घर लौट आई हैं। परिजनों ने अंकिता ठाकुर की आरती उतारी और पूजा-अर्चना के बाद केक काटकर भव्य स्वागत किया।

मेडिकल छात्रा अंकिता के पिता ने पीएम-सीएम कोष में दिए 32 हजार
यूक्रेन से लौटी अंकिता ठाकुर यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है, लेकिन युद्ध के कारण बीच में उसे पढ़ाई छोड़कर वापस घर आना पड़ा। बेहद तनावपूर्ण माहौल से वापस घर लौटे अंकिता का परिजनों ने गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। बेटी के लौटने पर सरकार के प्रति कृतज्ञता जाहिर करते हुए अंकिता के पिता डॉ. जेबी ठाकुर ने प्रधानमंत्री राहत कोष में 21000 रुपए और मुख्यमंत्री राहत कोष में 11000 रुपए का चेक भेजा है। अंकिता और उसके परिजनों के इस कदम की क्षेत्र में चर्चा हो रही है।

मुश्किल वक्त में मोदी सरकार की मदद से बेटे की सकुशल वापसी हो पाई
वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल का यह कहना है कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में प्रत्येक भारतवासी देश और विदेश सब जगह सुरक्षित हैं। यूक्रेन से अपने बेटे रजत सिंह की सकुशल वापसी पर राकेश ठाकुर व उनकी धर्मपत्नी ने खुशी व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री मोदी, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, पूर्व मुख्यमंत्री प्रोफेसर प्रेम कुमार धूमल एवं भारत सरकार का धन्यवाद व्यक्त किया। ठाकुर दंपति ने अपने बच्चों सहित पूर्व मुख्यमंत्री से आशीर्वाद लिया और उनका मुंह मीठा करवाया। आंखों में खुशी के आंसू और बेटे से वापस मिलने की खुशी में रुंधे हुए गले से राकेश ठाकुर की पत्नी ने कहा कि इस मुश्किल वक्त में मोदी सरकार की मदद के कारण ही उनके बेटे की सकुशल घर वापसी संभव हो पाई है यदि समय पर उनकी मदद ना करते तो उनके बेटे की इतनी जल्दी सकुशल वापसी हो पाना असंभव दिख रही थी।सोलन की बेटी ने भी प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का जताया आभार
यूक्रेन से हिमाचल के सोलन की साक्षी शर्मा भी अपने घर पहुंच गई है। उसने बताया कि रूस के हमले के बाद वहां के हालात बेहद नाजुक हो गए हैं। सैकड़ों भारतीय बच्चे अभी भी बंकरों में रह रहे हैं। बार-बार हो रहे धमाकों से छात्र डरे व सहमे हुए हैं। इससे यहां बच्चों के माता-पिता व रिश्तेदार भी डरे हुए हैं। साक्षी शर्मा यूक्रेन में MBBS चौथे साल की पढ़ाई कर रही हैं। छात्रा ने बताया कि उनकी यूनिवर्सिटी पश्चिमी यूक्रेन में है। इसलिए वहां युद्ध जैसे हालात नहीं होने से वह समय पर घर पहुंच पाए हैं, लेकिन पूर्वी यूक्रेन में खासकर कीव व आसपास के शहरों में रोजाना हालात बिगड़ रहे हैं। साक्षी और उसके परिवारीजनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और यूक्रेन में भारत की ऐंबैसी का आभार जताया है।

 

Leave a Reply