Home समाचार गुजरात चुनाव में बड़े-बड़े दावे करने वाले केजरीवाल को फिर झटका, बीजेपी...

गुजरात चुनाव में बड़े-बड़े दावे करने वाले केजरीवाल को फिर झटका, बीजेपी में शामिल हो गया अबडासा सीट का AAP उम्‍मीदवार

275
SHARE

जैसे-जैसे गुजरात चुनाव के मतदान की तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल के दावे भी बड़े होते जा रहे हैं। लेकिन उनके दावे पर उनकी पार्टी के उम्मीदवारोंं को ही भरोसा नहीं है। झूठ पर हवाई किला बनाने वाले केजरीवाल का साथ उनके उम्मीदवार ही छोड़ रहे हैं। कच्छ जिले की अबडासा विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार ने बीजेपी के उम्मीदवार को समर्थन देने का ऐलान कर सबको हैरान कर दिया है। साथ ही केजरीवाल के बड़े-बड़े दावों की हवा निकाल दी है।

दरअसल गुजरात चुनाव में पूरा जोर लगा रही आम आदमी पार्टी ने अबडासा से वसंत वलजीभाई खेतानी को टिकट दिया था, लेकिन रविवार (27 नवंबर, 2022) को उन्‍होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद उन्‍होंने वीडियो संदेश जारी कर अबडासा के मतदाताओं से बीजेपी उम्मीदवार प्रद्युमन सिंह जडेजा को वोट देकर जीताने की अपील की। वसंत वलजीभाई ने कहा, ‘मैं आम आदमी पार्टी छोड़ रहा हूं और राष्ट्रहित में, अपने सब के हित में बीजेपी में जुड़ रहा हूं।’ कच्छ लोकसभा में आने वाली इस विधानसभा सीट का क्रमांक -1 है।

आम आदमी पार्टी की गुजरात इकाई में मतदान से पहले ही गुटबाजी सामने आने लगी है। इसुदान गढ़वी को आप का मुख्‍यमंत्री पद का चेहरा घोषित करना कुछ पार्टी नेताओं को ठीक नहीं लग रहा है। सूत्रों की मानें तो गढ़वी से कई नेता काफी नाराज हैं। इन्‍हीं में से एक हैं वसंत खेतानी, जिन्‍होंने अब पार्टी से इस्‍तीफा दे दिया है। पहले चरण के मतदान से ठीक दो दिन पहले आप उम्मीदवार ने पार्टी छोड़कर अरविंद केजरीवाल की गुजरात के लिए तैयार की गई रणनीति को जोरदार झटका दिया है। इससे मतदाताओं में आप उम्मीदवारों और केजरीवाल के दावों को लेकर गलत संदेश जाएगा।

आम आदमी पार्टी को अलविदा कहने वाले पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं की सूची लंबी होती जा रही है। इससे पहले भी सूरत ईस्ट विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी के प्रत्याशी कंचन जरीवाला ने अपना नामांकन वापस ले लिया था। इसको लेकर केजरीवाल और उनकी पार्टी के अन्य नेताओं ने काफी बवाल मचाया था, लेकिन जरीवाला ने अपने अपहरण सहित सभी आरोपों को खारिज कर दिया था। इसके बाद आप की सूरत ईस्ट सीट पर चुनाव लड़ने की दावेदारी समाप्त हो गई थी। अब वसंत खेतानी की वजह से अबडासा विधानसभा सीट से भी आप की दावेदारी खत्‍म हो गई है।गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा के चुनाव के लिए मतदान 2 चरणों में 1 और 5 दिसंबर को होंगे। कच्छ में पहले चरण में मतदान होगा। कच्छ में 6 विधानसभा क्षेत्र हैं, जिनमें पाकिस्तान की सीमा से लगे अबडासा, भुज और रापर के अलावा मांडवी, अंजार और गांधीधाम शामिल हैं। आप ने कच्छ की सभी 6 सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे, जिसमें अबडासा प्रत्याशी बीजेपी के पाले में चला गया। बीजेपी ने 2017 में 4 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस ने रापर और अबडासा में जीत हासिल की थी, लेकिन अबडासा से विधायक ने 2020 में पार्टी छोड़ दी और बाद में बीजेपी के टिकट से चुनाव जीता था। 

Leave a Reply