Home समाचार पश्चिम बंगाल के सभी किसानों को पहली कैबिनेट बैठक में ही पीएम...

पश्चिम बंगाल के सभी किसानों को पहली कैबिनेट बैठक में ही पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ दिया जाएगा: पीएम मोदी

179
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल के कूच बिहार और हावड़ा में जनसभाओं को संबोधित किया। संबोधन के दौरान एक ओर उन्होंने केंद्र सरकार की उपलब्धियों और पश्चिम बंगाल के विकास के लिए बीजेपी के रोडमैप की चर्चा की, तो दूसरी ओर पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर भी निशाना साधा। कूच बिहार की अपनी पहली रैली में उन्होंने जनसमुदाय से कहा कि आपने मुझे जो आशीर्वाद दिया है,उसे मैं दो मई को सूद सहित लौटाऊंगा। उन्होंने आगे कहा कि मैं भी गुजरात का मुख्यमंत्री था। 80 फीसदी मतदान होने से मुझे खुशी होती थी। यहां दीदी चुनाव आयोग से शिकायत कर रही हैं कि अशांति हो रही है। इससे पता चल रहा है कि दीदी हार रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने सभा में एक स्लोगन भी दिया-‘पद्म छाप, टीएमसीपी साफ’।

पीएम मोदी ने कहा, “दो मई को जब भाजपा की सरकार बनेगी, उस दिन कैबिनेट बैठक करके पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ प्रत्येक किसान तक पहुंचाया जाएगा। सभी किसानों के बैंक एकाउंट में 18 हजार रुपये दिए जाएंगे। दीदी, आपकी पार्टी ने कहा कि मुझे 2024 के लोकसभा चुनाव में वाराणसी से कड़ी टक्कर देंगी। जिसके पास थोड़ी से बुद्धि होगी वो समझ जाएगा, जो बंगाल में हार रहा है, वो बाहर हारेगा या जितेगा?” सीएम ममता बनर्जी को इंगित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल की मां-बहन और युवा एक-एक रुपया कष्ट से जमा करते हैं, और भतीजे को टोल टैक्स से एक माह में 40 करोड़ रुपया आ रहा है। बंगाल इसके कारण कंगाल हो रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चाय बागान में काम करने वाले श्रमिकों के लिए इस बजट में एक हजार करोड़ रुपए की विशेष योजना का भी ऐलान किया गया है। इसका लाभ इस क्षेत्र के भाइयों और बहनों को भी होगा। कूच बिहार की ऐतिहासिक विरासत का उल्लेख करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “यह पूरा क्षेत्र प्राकृतिक रूप से, ऐतिहासिक रूप से बहुत समृद्ध है। यहां हमारी समृद्ध धरोहर है। भवइया गान जैसे अनेक पारंपरिक संगीत, नृत्य और साहित्य से यह क्षेत्र समृद्ध है। कूच बिहार पैलेस सहित, यहां अनेक मंदिरों की आस्था है, आकर्षण है। जो टूरिज्म, जो धरोहर यहां की असली ताकत है, उसी की दीदी की सरकार ने उपेक्षा की है। ठाकुर पंचानन जी के घर को सहेजने के बजाय टीएमसी सरकार ने जर्जर होने को छोड़ दिया। जब दीदी की सरकार द्वारा हाईवे, रेलवे, एयरपोर्ट जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर के प्रोजेक्ट्स को रोका जाएगा, जब उनमें अड़ंगे लगाए जाएंगे, तो टूरिज्म कैसे बढ़ पाएगा? दीदी की सरकार की बेरुखी का सीधा नुकसान यहां के युवाओं को हुआ है। जिनको यहां टूरिज्म के सेक्टर में बिजनेस मिल सकता था, चाकरी मिल सकती थी, वो पलायन के लिए मजबूर हैं। 2 मई के बाद, डबल इंजन सरकार यहां हर प्रकार के इंफ्रास्ट्रक्चर के सामने की रुकावटों को दूर करेगी।“

Leave a Reply