Home समाचार जहानाबाद से गिरफ्तार हुआ शरजील इमाम, अब केजरीवाल की बढ़ी मुश्किल

जहानाबाद से गिरफ्तार हुआ शरजील इमाम, अब केजरीवाल की बढ़ी मुश्किल

1909
SHARE

बिहार के जहानाबाद से शरजील इमाम को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच और बिहार पुलिस ने मंगलवार दोपहर गिरफ्तार किया। शरजील को दिल्ली, बिहार, असम, अरुणाचल, मणिपुर और उत्तर प्रदेश पुलिस तलाश रही थी। उसके खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज है। इस गिरफ्तारी से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ गई हैं। केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को शरजील इमाम को गिरफ्तार करने की चुनौती दी थी। उन्होंने ट्वीट करके कहा, ‘शरजील ने असम को देश से अलग करने की बात कही। यह बेहद गंभीर है। आप देश के गृह मंत्री हैं। आप शरजील पर बयानबाजी करके कोरी राजनीति कर रहे हैं। आपका धर्म है कि आप उसे तुरंत गिरफ्तार करें। शरजील को यह बयान दिए हुए 2 दिन हो गए। आप उसे गिरफ्तार क्यों नहीं कर रहे? क्या मजबूरी है आपकी? या अभी और गंदी राजनीति करनी है?

सिसोदिया ने दी थी गिरफ्तारी की चुनौती

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने 25 जनवरी, 2020 को भाजपा सरकार को 24 घंटे के भीतर शरजील इमाम को गिरफ़्तार करने की चुनौती दी थी। उन्होंने कहा कि यदि शरजील को गिरफ्तार नहीं किया गया तो इसका मतलब है कि उसे इस तरह का भड़काऊ भाषण देने के लिए भाजपा ने ही भेजा था।

जेपी नड्डा का मनीष सिसोदिया पर हमला 

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दिल्ली में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि मनीष सिसोदिया ने शरजील को गिरफ्तार करने की चुनौती दी थी। शरजील इमाम का वीडियो आप सभी ने देखा होगा, आज दिल्ली पुलिस ने उसको धर लिया है और जेल की हवा खाने के लिए उसको दिल्ली लाया जा रहा है। 


गिरिराज सिंह का केजरीवाल पर पलटवार

शरजील इमाम की गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर पलटवार किया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि अमित शाह ने तो कर दिखाया लेकिन केजरीवाल ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ को बचाने के लिए फाइल दबाकर बैठे हुए हैं। उनका इशारा जेएनयू के बहुचर्चित देशविरोधी नारेबाजी मामले में जेएनयू के स्टूडेंट लीडर कन्हैया कुमार, उमर खालिद जैसे आरोपियों के खिलाफ अभियोजन की कार्यवाही को दिल्ली सरकार की मंजूरी नहीं देने की तरफ है।

JNU में शरजील के पक्ष में नारेबाजी

इस बीच JNU में शरजील के पक्ष में नारेबाजी की घटना सामने आई है। सिर्फ जेएनयू ही नहीं, जामिया में भी छात्रों ने शरजील के समर्थन में मार्च निकाला गया। सड़कों पर उतरे छात्रों ने शरजील को पीड़ित बताकर सरकार को घेरा। दरअसल, 27 जनवरी, 2020 को 9 बजे के आसपास जेएनयू में एक मार्च शुरू हुआ। यह मार्च गंगा ढाबा से शुरू होकर साबरमती ढाबे और फिर चंद्रभागा तक गया। मार्च के दौरान प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी की और कहा, ‘शरजील इमाम जिंदाबाद। शरजील तुम संघर्ष करो हम तुम्हारे साथ हैं।’

जेएनयू की काउंसलर आफरीन फातिमा का विवादित बयान

इमाम के समर्थन में सैकड़ों छात्रों ने हाथों में पोस्टर-बैनर लेकर मार्च निकाला। इस मार्च में एनआरसी, सीएए और भारत सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। इमाम के समर्थन में निकाले गए मार्च में एक विवादित वीडियो भी वायरल है, जिसमें जेएनयू की काउंसलर आफरीन फातिमा दिख रही हैं। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने यह वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किया था। मार्च खत्म होने के बाद आफरीन फातिमा समेत कई छात्रों ने शरजील इमाम के समर्थन में अपनी-अपनी बातें रखीं। एक वीडियो में कहा जा रहा है, अफजल के साथ गलत हुआ। इसे कैसे मान लिया जाए?

क्या केजरीवाल देंगे केस चलाने की मंजूरी ?

जब शरजील इमाम के समर्थन और विरोध में आवाजें उठ रही हैं, तो सवाल उठता है कि क्या केजरीवाल शरजील के खिलाफ केस चलाने की अनुमति देंगे ? शरजील इमाम की गिरफ्तरी के बाद अब बीजेपी को केजरीवाल पर हमला करने का मौका मिल गया है। बीजेपी के नेता केजरीवाल से यह सवाल पूछने भी लगे हैं। दरअसल जेएनयू में कथित देशद्रोही नारे लगाने के मामले में दिल्ली सरकार ने अब तक कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अन्य आरोपियों पर देशद्रोह का केस चलाने की अनुमति नहीं दी है। आरोपी छात्रों के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने का अनुरोध अब भी दिल्ली सरकार के गृह विभाग के समक्ष लंबित है।

‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थक हैं केजरीवाल – नड्डा

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अरविंद केजरीवाल पर ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थक होने और वोट बैंक की राजनीति का आरोप लगाया है। जेपी नड्डा ने अपने ट्वीट में कहा, ‘कन्हैया कुमार, उमर खालिद और कुछ अन्य भारतविरोधी ताकतों ने देशविरोधी ‘भारत तेरे टुकड़े होंगे’ जैसे नारे लगाए। ये लोग देश की अखंडता को नुकसान पहुंचाने की धमकी दे रहे थे। कानूनी संस्थाओं ने इस मामले की जांच की और चार्जशीट फाइल करने के लिए तैयार थे।’

Leave a Reply