Home समाचार राज्यों में सरकार के मामले में इंदिरा गांधी से फिर आगे निकले...

राज्यों में सरकार के मामले में इंदिरा गांधी से फिर आगे निकले पीएम मोदी, पुडुचेरी में जीत के साथ 18 राज्यों में होंगी एनडीए की सरकारें

592
SHARE

पुडुचेरी सहित पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं। इस चुनाव में बीजेपी जहां असम में अपनी सत्ता बरकरार रखने में सफल रही है, वहीं पुडुचेरी के रूप में एक नया केंद्र शासित प्रदेश उसके पाले में शामिल हो गया है। यहां ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस यानि एआईएनआरसी की अगुवाई में बीजेपी और एआईडीएमके की सरकार बनने जा रही है। इस तरह देश में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों की सरकारों की संख्या बढ़कर 18 हो जाएगी। 

इससे पहले नवंबर 2020 में हुए बिहार चुनाव के बाद देश के 49 प्रतिशत आबादी और 52 प्रतिशत क्षेत्र घेरने वाले 17 राज्यों में बीजेपी और उसकी सहयोगी पार्टियों की सरकारें थीं। बिहार में जीत के साथ प्रधानमंत्री मोदी ने इंदिरा गांधी की बराबरी की थी। दरअसल इंदिरा गांधी के शासनकाल में कांग्रेस 17 राज्यों में सरकार बनाने में कामयाब रही थी। 

मई 2014 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केंद्र की सत्ता में आने के बाद देश में 30 विधानसभा के चुनाव हुए, जिनमें से 17 में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने जीत हासिल कीं और सरकारें बनाईं। लेकिन बीजेपी का उफान मार्च 2018 में था, जब त्रिपुरा, मेघालय और नागालैंड में सरकार बनाने के बाद देश के 21 राज्यों में एनडीए की सरकारें थीं। तब देश की 71 प्रतिशत आबादी और 80 प्रतिशत क्षेत्र पर बीजेपी या एनडीए की सत्ता थी। प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों में शासन के मामले में इंदिरा गांधी को काफी पीछे छोड़ दिया था। साथ ही आजादी के बाद प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की नेतृत्व वाली कांग्रेस की बराबरी की थी। 

गौरतलब है कि आजाद भारत में जब राज्यों के चुनाव हुए तो कांग्रेस देश की इकलाैती अहम पार्टी थी। तब केंद्र के साथ-साथ देश के 21 राज्यों में इसी पार्टी का शासन था। तब देश कई बदलावों से गुजर रहा था। कई रियासतें देश में शामिल हो रही थीं। 1967 के चुनाव में कांग्रेस को कड़ी चुनौती मिली और पार्टी 11 राज्यों में सिमट गई।

 

Leave a Reply