Home समाचार छत्तीसगढ़ में आपस में भिड़े कांग्रेसी, सिंह देव समर्थक नेता को धक्के...

छत्तीसगढ़ में आपस में भिड़े कांग्रेसी, सिंह देव समर्थक नेता को धक्के मारकर मंच से उतारा

288
SHARE

कांग्रेस सत्ता में आने के लिए जहां जनता से झूठे वादे करती है, वहीं अपने नेताओं को भी झूठे आश्वासन देकर उन्हें धोखा देने का काम करती है। यही वजह है कि राजस्थान और पंजाब के बाद छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस नेताओं ने एक-दूसरे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अब कांग्रेसी सार्वजनिक रूप से मंच पर लड़ते नजर आ रहे हैं। जशपुर में पार्टी के कार्यक्रम के दौरान पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सप्तगिरि शंकर उल्का की मौजूदगी में मुख्यमंत्री भूपेश बेघल और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव के समर्थक नेता मंच पर ही भिड़ गए। 

दरअसल ये मामला जशपुर में आयोजित कांग्रेस पार्टी के एक कार्यकर्ता सम्मलेन का है, जिसमें पार्टी के पूर्व जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल भाषण दे रहे थे। सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन जैसे ही उन्होंने अपने नेता टीएस सिंह देव के समर्थन में बात करनी शुरू की, मामला गड़बड़ हो गया। एक व्यक्ति उनके समीप पहुंचकर उन्हें भाषण बंद करने को कहता है, वह नहीं मानते हैं तो वह उन्हें बलपूवर्क माइक से दूर कर मंच के बीच में धकेल देता है। फिर चारों ओर से कार्यकर्ता दौड़कर मंच पर चढ़ जाते हैं और भारी हंगामे के बीच अग्रवाल के साथ बदसलूकी की जाती है। इस दौरान दोनों पक्षों में जम कर मारपीट भी हुई। इस मारपीट का वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस घटना के बाद पवन अग्रवाल ने कहा कि आज टीएस सिंह देव की वजह से ही राज्य में कांग्रेस सत्ता में है और उन्हें मुख्यमंत्री पद पर बिठाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सिंह देव उर्फ़ ‘बाबा’ ने ढाई साल इंतजार किया है, ऐसे में अब बघेल कुर्सी खाली करें। अग्रवाल ने आगे कहा कि जब कांग्रेस सत्ता में नहीं थी तब बघेल-सिंह देव साथ काम करते थे। यही कहने पर मुझे कुंकुरी के विधायक के लोगों ने मंच से हटा दिया।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ कांग्रेस में ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद को लेकर सिंहदेव और बघेल के बीच तनातनी जारी है। कई बार सिंहदेव समर्थक विधायक दिल्ली में हाईकमान से मुलाकात कर चुके हैं, लेकिन कोई हल नहीं निकला है। पार्टी में अंदरखाने विरोध तेज होता जा रहा है। टीएस सिंहदेव चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ की कमान अब उनके हाथ में हो, लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसको लेकर तैयार नहीं हैं। दिसंबर 2018 में राज्य में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने प्रचंड बहुमत से जीत हासिल की थी। फिर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाया गया था। चुनाव में मेनिफेस्टो कमेटी के मुखिया टीएस सिंह देव थे। जानकारी के अनुसार इस दौरान ढाई-ढाई साल सीएम के फार्मूले पर सहमति बनी थी।

 

Leave a Reply