Home समाचार सरकारी पैनल का दावा, मार्च में लॉकडाउन न लगता तो 25 लाख...

सरकारी पैनल का दावा, मार्च में लॉकडाउन न लगता तो 25 लाख से ज्‍यादा लोगों की होती मौत, फरवरी 2021 तक खत्‍म हो जाएगी कोरोना महामारी

293
SHARE

कोरोना महामारी से जूझ रहे देश के लोगों के लिए राहत की खबर है। सरकार द्वारा बनाए गए वैज्ञानिकों के एक पैनल ने दावा किया है कि भारत में कोरोना वायरस महामारी अपने चरम से गुजर चुकी है। पैनल के मुताबिक, कोरोना महामारी फरवरी 2021 तक खत्‍म होने की संभावना है। लेकिन यह तभी संभव होगा जब लोग कोरोना से बचाव के नियमों का पूरी तरह से पालन करना जारी रखें।

पैनल का दावा है कि अगर भारत ने मार्च में लॉकडाउन न लगाया होता तो देशभर में 25 लाख से ज्‍यादा लोगों की मौत हुई होती। अबतक इस महामारी से 1.14 लाख मरीजों की जान गई है। पैनल को उम्मीद है कि भारत में कोरोना के 10.6 मिलियन यानि एक करोड़ छह लाख से ज्‍यादा केस नहीं होंगे। अभी भारत में कोरोना के कुल 75 लाख से ज्‍यादा केस हैं।

सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के. विजयराघवन ने इस पैनल का गठन किया था। आईआईटी हैदराबाद के प्रोफेसर एम विद्यासागर इसके प्रमुख हैं। कोविड एक्‍सपर्ट पैनल के चीफ डॉ वीके पॉल ने कहा कि पिछले तीन हफ्तों में नए मामलों और मौतों की संख्‍या घटी है लेकिन हम सर्दियों के मौसम में भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की संभावना से इनकार नहीं कर सकते। कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों की सूची में शामिल भारत के लिए यह चिंता का विषय है।

देश पहले से ही वायरस का दंश झेल रहा है और अगर महामारी दूसरी लहर आती है तो स्थिति अधिक बिगड़ सकती है। वी के पॉल ने कहा कि एक बार वैक्सीन आ जाए, उसके बाद उसे नागरिकों को उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त संसाधन है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी अधिकतर राज्यों में स्थिर हो रही है। हालांकि, पांच राज्य (केरल, कर्नाटक, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल) और तीन-चार केंद्रशासित प्रदेश ऐसे हैं, जहां अभी भी संक्रमण में बढ़ोतरी हो रही है।

देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 61,871 नए मामले सामने आए हैं।कुल मामलों की संख्या 74,94,551 हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से 1,033 मौतें हुई हैं। जिसके बाद कुल मौतों की संख्या 1,14,031 हो गई है। देश में रिकवरी दर बढ़ कर 88.03 प्रतिशत हो गई है, जबकि मृत्यु दर 1.53 प्रतिशत है। भारत में रोजाना कोरोना मामलों की संख्या अब अमेरिका से कम हो गई है।

Leave a Reply