Home समाचार दिसंबर तक मिलेगी और 66 करोड़ वैक्सीन की डोज, मोदी सरकार ने...

दिसंबर तक मिलेगी और 66 करोड़ वैक्सीन की डोज, मोदी सरकार ने दिया ताजा ऑर्डर, वैक्सीन की कमी की अफवाह फैलाने वालों को मिला करारा जवाब

501
SHARE

कांग्रेस सहित कई विपक्षी दल देश में कोरोना वैक्सीन की कमी को लेकर अफवाहें फैलाते रहते हैं। लेकिन केंद्र की मोदी सरकार ने इन अफवाहों की हवा निकाल दी है। सरकार ने समय से पहले ही टीकाकरण के लिए 14 हजार 505 करोड़ रुपये में कोविशील्ड और कोवैक्सिन की 66 करोड़ वैक्सीन डोज का ऑर्डर दे दिया है। कहा जा रहा है कि यह सरकार की तरफ से दिया जाने वाला अब तक का सबसे बड़ा ऑर्डर है। सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) और भारत बायोटेक ताजा ऑर्डर की सप्लाई अगस्त से दिसंबर महीने के बीच कर देंगी।

ताजा ऑर्डर के तहत सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया दिसंबर तक 50 करोड़ जबकि भारत बायोटेक करीब 38 करोड़ डोज तैयार करेगी। इनमें भारत सरकार को क्रमशः 37.5 करोड़ और 28.5 करोड़ डोज मिलेगी। इसके अलावा, वैक्सीन की 22 करोड़ डोज प्राइवेट अस्पतालों को दी जाएगी। इसके अलावा सरकार ने हैदराबाद स्थित बायोलॉजिकल ई की कोर्बिवैक्स वैक्सीन के 30 करोड़ डोज के लिए अग्रिम भुगतान भी किया है। इस लिहाज से अगस्त-दिसंबर के बीच सरकार के खाते में 96 करोड़ डोज होने का अनुमान है। इनमें से 75 प्रतिशत खुराक केंद्र सरकार को मिलने हैं। 

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 25 जून को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर कहा था कि देश में दिसंबर महीने तक 1.35 अरब डोज वैक्सीन उपलब्ध होगी जो व्यस्क आबादी के लिहाज से पर्याप्त है। इसमें 50 करोड़ डोज कोविशील्ड, 40 करोड़ डोज कोवैक्सिन और 30 करोड़ डोज बायलॉजिकल ई की सबयूनिट वैक्सीन, 5 करोड़ डोज जायडस कैडिला की डीएनए वैक्सीन जबकि 10 करोड़ डोज रूसी स्पूतनिक वी वैक्सीन शामिल हैं।

सरकार ने ताजा ऑर्डर में कोविशील्ड के लिए प्रति डोज 215.25 रुपये जबकि कोवैक्सिन के लिए प्रति डोज 225.75 रुपये की दर स्वीकार की है। इसमें माल एवं सेवा कर (GST) भी शामिल है। पहले सरकार दोनों वैक्सीन 157.50 रुपये प्रति डोज की दर से खरीद रही थी, लेकिन कोवैक्सिन निर्माता भारत बायोटेक ने पिछले महीने कहा था कि इतनी कम कीमत पर वैक्सीन सप्लाई कर पाना मुश्किल होगा। उसने कहा था, ‘भारत सरकार को कोवैक्सिन की सप्लाई प्राइस 150 रुपये प्रति डोज है। इस कीमत पर लंबे वक्त तक सप्लाई नहीं हो सकती है।’ प्राइवेट सेक्टर को दोनों वैक्सीन शुरू से ही ज्यादा कीमत पर दी जा रही है।

मोदी सरकार ने साल के अंत तक 18 साल से ज्यादा उम्र के सभी नागरिकों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा है। ऐसे में वैक्सीन के इस ऑर्डर को काफी अहम माना जा रहा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार गुरुवार सुबह 7 बजे तक देश में 39 करोड़ 13 लाख 40 हजार 491 डोज लगाए जा चुके हैं। मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में 34 लाख 97 हजार टीके लगाए गए। इनमें 18 से 44 वर्ष की आयु वर्ग में 13 लाख 82 हजार से अधिक लोगों को वैक्सीन की पहली डोज और एक लाख 57 हजार लोगों को दूसरी डोज दी गई। सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों में इसी आयु वर्ग के 11 करोड़ 78 लाख लोगों को पहली डोज दी गई और 41 लाख 92 हजार लोगों को दूसरी डोज मिली।

Leave a Reply