Home समाचार पश्चिम बंगाल में टीएमसी के समर्थकों ने फिर किया मौत का तांडव,...

पश्चिम बंगाल में टीएमसी के समर्थकों ने फिर किया मौत का तांडव, 10 को जिंदा जलाकर मार डाला

710
SHARE

पश्चिम बंगाल में सत्ता पर बैठने वालों के चेहरे तो बदले, पर सियासी रक्त चरित्र नहीं बदला। सियासत का यह ‘रक्त चरित्र’ हर दो-चार दिनों पर किसी न किसी रूप में सामने आता ही रहता है। सोमवार (21 मार्च, 2022) को बंगाल के बीरभूम जिले के रामपुरहाट में 10 लोगों को जिंदा जलाकर मार डाला गया। बारशल ग्राम पंचायत के उप-प्रधान और टीएमसी नेता भादू शेख की हत्या के बाद टीएमसी के समर्थकों की हिंसक भीड़ ने 10 से 12 घरों में आग लगा कर बाहर से ताला लगा दिया, जिससे लोग जिंदा जलकर मर गए। इसके अलावा बड़ी संख्या में लोगों के घायल होने की भी खबर है।

टीएमसी के गुंडे इतने जालिम हो गए हैं कि उन्होंने जलते हुए लोगों को बचाने की कोशिश को भी नाकाम कर दिया। फायर ब्रिगेड के एक कर्मचारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया कि उन्होंने कम से कम 10 घरों को आग से बर्बाद पाया। उन्होंने कहा, ‘हमें कुछ स्थानीय लोगों ने आग बुझाने से भी रोका। अब तक हमें एक घर से 7 शव मिल चुके हैं। वह इतनी बुरी तरह से जले हैं कि यह भी नहीं पहचान हो पाई कि मरने वाले पुरुष थे, महिला थे या फिर नाबालिग हैं।’

राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने हिंसक वारदात की कड़े शब्दों में निंदा की है। उन्‍होंने कहा कि यह घटना दर्शाती है कि बंगाल में आतंक और अराजकता की संस्कृति है। उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव हरिकृष्ण द्विवेदी से घटना पर ताजी जानकारी मांगी है। राज्यपाल ने ट्वीट कर कहा-‘रामपुरहाट में हुई बर्बरता देखकर काफी दुखी और चिंतित हूं। मैंने कई बार कहा है कि हिंसा की संस्कृति और अराजकता का समर्थन नहीं किया जा सकता। मुझे राज्य के पुलिस महानिदेशक से जो जानकारी मिली है, उसके मुताबिक अभी तक आठ जानें जा चुकी हैं। मैंने राज्य के मुख्य सचिव से घटना की ताजा जानकारी मांगी है। मृतकों के परिजनों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।

इस मामले को लेकर बीजेपी के पश्चिम बंगाल के सांसदों ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुकान्त मजूमदार की अगुवाई में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। मजूमदार ने मीडिया को बताया कि अमित शाह ने 72 घंटे में इस पूरे मामले में राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है। विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर कहा कि पश्चिम बंगाल में कानून-व्यवस्था तेजी से चरमरा गई है। पंचायत उपप्रधान (उप प्रमुख) की हत्या के बाद बीरभूम जिले के रामपुरहाट इलाके में तनाव और दहशत फैल गई है। भादू शेख कथित तौर पर कल शाम एक बम हमले में मारा गया था। गुस्साई भीड़ ने बाद में तोड़फोड़ की और कई घरों में आग लगा दी।

पुलिस के मुताबिक भादू शेख सोमवार रात को स्‍टेट हाईवे- 50 से गुजर रहे थे, तभी उन पर बम फेंका गया था। उन्‍हें घायल अवस्था में रामपुरहाट मेडिकल कॉलेज ले जाया गया, लेकिन तब तक उनकी जान जा चुकी थी। पुलिस ने हत्या के मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। माना जा रहा है कि वो एक कॉन्ट्रैक्ट किलर है। इस मामले की जांच के लिए SIT का गठन किया गया है। 

आइए देखते हैं ममता बनर्जी के राज में किस तरह पश्चिम बंगाल हिंसा की आग में जल रहा है…

निकाय चुनाव में टीएमसी के गुंडों द्वारा हिंसा व धांधली

पूरे देश के लोगों ने फरवरी 2022 में पश्चिम बंगाल के निकाय चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की गु़ंडागर्दी व आतंक को देखा। निकाय चुनावों में हिंसा और बूथ लूट को कवर करने के दौरान विभिन्न मीडिया हाउस के कम से कम नौ पत्रकारों को पीटा गया। कोन्नगर के वार्ड 10 के बीजेपी प्रत्याशी और पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष कृष्णा भट्टाचार्य पर हमला किया गया। बीजेपी का आरोप है कि उम्मीदवार को सड़क पर पीटा गया, जिससे उनके पैर में गंभीर चोट आई है। उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। 

जाधवपुर में 40 से अधिक घर जला दिए गए

बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद जिस तरह आगजनी, पत्थरबाजी, बलात्कार और हत्या की घटनाएं हुई, उनकी हकीकत जानकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। जाधवपुर में 40 से अधिक बीजेपी कार्यकर्ताओं और दलितों के घर जला दिए गए। जब कोलकाता हाईकोर्ट के आदेश के बाद ‘राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC)’ द्वारा गठित एक टीम इन घटनाओं की जांच करने गई तो इस टीम को भी नहीं बख्शा गया। टीएमसी के गुंडों ने जांच टीम को चारों तरफ से घेर लिया, धमकाया और पत्थरबाजी का भी प्रयास किया। यहां तक कि सीआईएसएफ के जवानों पर भी हमला किया। 

बीजेपी महिला मोर्चा उपाध्यक्ष रेखा मैती पर फिर जानलेवा हमला

जून 2021 में बेखौफ टीएमसी के गुंडों ने पूर्वी मिदनापुर के पताशपुर में बीजेपी महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष रेखा मैती पर निर्मम तरीके से हमला किया था। मैती गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। बीजेपी कार्यकर्ता देवदत्त माजी ने रेखा मैती की हमले के बाद की तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा, “ईस्ट मिदनापुर के पताशपुर में ये रेखा मैती हैं। टीएमसी की हिंसा की पीड़िता। 2018 से इन्हें नरक भोगना पड़ रहा है। उस समय ये 6 माह गर्भवती थीं, तब इन्हें इतनी बेरहमी से पीटा गया था कि इनका मिसकैरिज हो गया था। अब ये और इनका परिवार फिर से बीजेपी का साथ देने का खामियाजा भुगत रहा है। मैं इनके परिवार की मदद करने की कोशिश में लगा हूं।” 

भाजपा सांसद डॉ. जयन्त कुमार रॉय पर हमला

जून 2021 में पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी में भाजपा सांसद डॉ. जयन्त कुमार रॉय पर हमला हुआ। उन्हें घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया। घटना के समय वे भाजपा कार्यकर्ताओं से मिलकर लौट रह थे। जयन्त रॉय के मुताबिक, “करीब 5 बजे TMC के गुंडों ने मुझ पर हमला किया। उन्होंने मुझ पर बांस और डंडे से हमला किया। मेरे हाथ में और सर में चोट लगी है। मेरे साथ अन्य कार्यकर्ताओं पर भी हमला हुआ है। पश्चिम बंगाल में कोई कानून-व्यवस्था नहीं बची है।” भाजपा सांसद के सिर और पेट में चोट लगी थी। 

केंद्रीय मंत्री के काफिले पर टीएमसी के गुंडों का हमला

6 मई, 2021 को केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन के काफिले पर टीएमसी के गुंडों ने हमला कर दिया। पश्चिम मेदिनीपुर जिले के पंचखुंडी गांव में हुए हमले में हालांकि केंद्रीय मंत्री को चोट नहीं आई, लेकिन उनकी कार को नुकसान पहुंचने के साथ ड्राइवर सहित काफिले में शामिल अन्य लोगों को चोटें आईं। केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया। 

विधानसभा चुनाव में टीएमसी की जीत का खूनी जश्न

बंगाल विधानसभा चुनाव में टीएमसी की जीत के बाद हिंसा का दौर जारी रहा। टीएमसी के गुंडों ने जीत का खूनी जश्न मनाया। बीजेपी के महासिचव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट कर एक वीडियो शेयर किया , जिसमें लाठियों और हथियारों से लैश टीएमसी के गुंडों को बीजेपी कार्यकर्ताओं के घरों में तोड़फोड़ और आगजनी करते देखा जा सकता हैं। विजयवर्गीय ने ट्वीट में लिखा, ‘देखिए कैसे बंगाल के बहुसंख्यक समाज के गांव में इस तरह से ये गुंडे आतंक मचा रहे है। पूरे बंगाल में ऐसा ही मौहोल है।’

Leave a Reply