Home समाचार पीएम मोदी से मिले शरद पवार, सियासी अटकलों का बाजार फिर गर्म,लोगों...

पीएम मोदी से मिले शरद पवार, सियासी अटकलों का बाजार फिर गर्म,लोगों ने कहा- यह देखकर उद्धव ठाकरे को पसीना छूट गया होगा

391
SHARE

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की। दिल्ली में शनिवार 17 जुलाई, 2021 को अचनाक दोनों के बीच हुई इस मुलाकात से सियासी गलियारों में अटकलों का बाजार फिर से गर्म हो गया है। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री मोदी और शरद पवार के बीच यह बैठक करीब एक घंटे तक चली। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से इस मुलाकात की जानकारी दी गई। इस मुलाकात के कई सियासी मायने में भी निकाले जा रहे हैं, क्योंकि इससे पहले शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह और पीयूष गोयल ने भी शरद पवार से मुलाकात की थी।

शरद पवार के दफ्तर की तरफ से बताया गया कि प्रधानमंत्री मोदी के आवास पर हुई यह बैठक 57 मिनट तक चली। फिलहाल, यह जानकारी सामने नहीं आई है कि इस बैठक में किन मुद्दों पर चर्चा की गई। गौरतलब है कि यह मुलाकात ऐसे वक्त में हुई है, जब कुछ दिन पहले ही ऐसी अटकलें सामने आईं कि शरद पवार राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। हालांकि, एऩसीपी चीफ ने इन अटकलों को खारिज किया था। वहीं, इस मुलाकात से महाराष्ट्र में नया सियासी समीकरण को लेकर भी अटकलों का बाजार गर्म हो गया है।

बीते गुरुवार को ही पवार ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से लिखा था कि यह बैठक करीब 30 मिनट तक चली। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच महाअघाड़ी सरकार के बीच समन्वय समेत कई अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई थी। खास बात यह है कि बीते डेढ़ महीनों में पवार और ठाकरे के बीच यह दूसरी मुलाकात थी। इस बीच महाराष्ट्र के सत्ताधारी गठबंधन में परेशानियों की खबरें आ रही हैं। क्योंकि उद्धव ठाकरे के प्रति शरद पवार का विश्वास डगमगाने लगा है। हाल ही में शरद पवार का चौंकाने वाला बयान‌ सामने आया था, जिसमें कहा गया था कि वो‌ उद्धव ठाकरे को‌ सीएम नहीं बनाना चाहते थे और अब उन्हें ऐसा करने का पछ्तावा हो रहा है।

उधर सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री मोदी और शरद पवार की इस मुलाकात के कई मायने निकाले जाने लगे हैं। एक ट्वविटर यूजर ने लिखा, “उधर महाराष्ट्र के सीएम को यह देखकर पसीना छूट गया होगा।” एक यूजर ने लिखा कि 100 करोड़ रुपये की वसूली के मामले में शरद पवार घिरते नजर आ रहे हैं। इसलिए अब शिवसेना की सरकार गिराकर बीजेपी को सपोर्ट करना चाहते हैं, ताकि वे बच सके। एक अन्य यूजर ने लिखा कि हो सकता है कि अब एनसीपी का बीजेपी के साथ गठजोड़ हो जाए। कांग्रेस को राहुल दोबारा डूबा देंगे और शिवसेना को आदित्य डूबा देंगे।

Leave a Reply