Home समाचार ईडी ने अनिल देशमुख की 4.20 करोड़ रुपये की संपत्ति की जब्त,...

ईडी ने अनिल देशमुख की 4.20 करोड़ रुपये की संपत्ति की जब्त, संपत्ति का मौजूदा बाजार मूल्य 300 करोड़ रुपये से अधिक

715
SHARE

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार 16 जुलाई 2021 को महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी 4.20 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति जब्त कर ली है। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक अनिल देशमुख की जब्त संपत्ति का मौजूदा बाजार मूल्य 300 करोड़ रुपये से अधिक है। यह संपत्ति अनिल देशमुख और उनके परिवार के नाम पर है। देशमुख व उनका परिवार ईडी के कई सम्मनों के बावजूद उसके सामने पेश होने से बचते आ रहा है।

ईडी सूत्रों के अनुसार, पीएमएलए एक्ट के तहत अनिल देशमुख की कुछ ऐसी संपत्तियों की कुर्की के प्रारंभिक आदेश जारी किए गए हैं, जो सीधे उनके नाम पर तो नहीं हैं, लेकिन इन संपत्तियों पर उनका कब्जा है। इनमें मुंबई के वर्ली स्थित एक फ्लैट भी शामिल है। यह फ्लैट उनकी पत्नी के नाम पर है। इसकी कीमत 1.54 करोड़ रुपये आंकी गई है। 2004 में खरीदे गए इस फ्लैट की पूरी कीमत नकद चुकाई गई थी, लेकिन इसकी रजिस्ट्री 2020 में हुई। जब अनिल देशमुख राज्य के गृहमंत्री थे।

ईडी ने देशमुख परिवार की रायगढ़ जिले के उरण के धूतुम गांव में स्थित 267 करोड़ रुपये के 25 भूखंड को भी कब्जे में ले लिया है। यह संपत्ति उनके परिवार की हिस्सेदारी वाली एक कंपनी प्रीमियर पोर्ट लिंक्स प्रालि के नाम पर है। ईडी का कहना है कि इस कंपनी के पास भूखंड व कुछ दुकानें मिलाकर 5.34 करोड़ की संपत्ति है। कंपनी में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी देशमुख परिवार ने सिर्फ 17.95 लाख रुपये देकर खरीदी थी। यह रकम भी काफी बाद में अदा की गई थी। अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार व पद के दुरुपयोग का आरोप लगने के बाद ईडी व सीबीआई जैसी केंद्रीय जांच एजेंसियां जांच कर रही हैं।

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने इसी वर्ष मार्च में आरोप लगाया था कि गृहमंत्री अनिल देशमुख ने अपने सरकारी आवास पर पुलिस अधिकारियों को बुलाकर मुंबई के आर्क्रेस्ट्रा बार व रेस्टोरेंट्स से हर महीने 100 करोड़ रुपये वसूल करने का टार्गेट दिया था। ईडी के अनुसार, मुंबई पुलिस के बर्खास्त एपीआइ सचिन वाझे ने देशमुख के आदेशानुसार कुछ बारों से सिर्फ तीन महीने में 4.70 करोड़ रुपये वसूलकर देशमुख के एक सहायक को दिए। ये पैसे दिल्ली की 11 फर्जी कंपनियों को हवाला के जरिए भेजे गए। जहां से 4.18 करोड़ रुपये दान स्वरूप अनिल देशमुख के एक पारिवारिक ट्रस्ट को भेजे गए। 

Leave a Reply