Home समाचार प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना पर लिया वाराणसी की स्थिति का जायजा, फिर...

प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना पर लिया वाराणसी की स्थिति का जायजा, फिर दिया ट्रैकिंग, ट्रेसिंग और टेस्टिंग पर जोर

531
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज, 18 अप्रैल को वाराणसी में कोरोना की स्थिति पर वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा की। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना से बचाव और कोरोना मरीजों के उपचार हेतु टेस्टिंग, बेड, दवाइयां, वैक्सिीन और मैन पावर की जानकारी ली। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सभी लोग ‘दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी‘ का पालन करें। उन्होंने कहा कि अधिकारी 45 साल से ज्यादा की उम्र के सभी लोगों को वैक्सीनेशन अभियान के लिए जागरूक करें। उन्होंने प्रशासन को पूरी संवेदनशीलता से वाराणसी के लोगों की हर संभव सहायता करने के लिए कहा।

प्रधानमंत्री मोदी ने देश के सभी डॉक्टरों, सभी मेडिकल स्टाफ का आभार व्यक्त करते हुए कहा की इस संकट की घड़ी में भी वह अपने कर्त्तव्य का निष्ठापूर्ण पालन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमें पिछले साल के अनुभवों से सीखते हुए सतर्क रहकर आगे बढ़ना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वाराणसी के प्रतिनिधि के रूप में वह आम जनता से भी निरंतर फीडबैक ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि वाराणसी में पिछले 5-6 वर्षों में मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर के विस्तार और आधुनिकीकरण से कोरोना से लड़ने में सहायता मिली है। इसके साथ वाराणसी में बेड्स, आईसीयू और ऑक्सीजन की उपलब्धता को बढ़ाया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने ‘टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट’ पर जोर देते हुए कहा कि फर्स्ट वेव की तरह ही वायरस से जीतने के लिए यही रणनीति अपनानी होगी। उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों और उनके परिवार के प्रति भी सभी जिम्मेदारियों के संवेदनशील तरीके से निर्वहन का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री ने वाराणसी स्वयंसेवी संगठनों की प्रशंसा की करते हुए कहा उन्होंने जिस प्रकार सरकार के साथ कदम मिलकर कार्य किया है उसे और प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

वाराणसी क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों और अधिकारियों ने भी प्रधानमंत्री मोदी को कोरोना से बचाव और इलाज के लिए की गयी तैयारियों की जानकारी दी। इस सम्बन्ध में प्रधानमंत्री को कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के लिए स्थापित कंट्रोल रूम, होम आइसोलेशन के लिए बनाये गए कमांड एंड कंट्रोल सेंटर, डेडीकेटेड फोन लाईन एम्बुलेंस, कंट्रोल रूम से टेलीमेडिसीन की व्यवस्था, शहरी क्षेत्र में अतिरिक्त रैपिड रिस्पान्स टीम की तैनाती सहित कई विषयों पर जानकारी दी गयी।

Leave a Reply