Home समाचार कोरोना काल के बाद की नई विश्व व्यवस्था में भारत वैश्विक नेता...

कोरोना काल के बाद की नई विश्व व्यवस्था में भारत वैश्विक नेता बनेगाः प्रधानमंत्री मोदी

222
SHARE

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 22 दिसंबर को नई दिल्ली में आजादी के अमृत महोत्सव की राष्ट्रीय समिति की दूसरी बैठक को सम्बोधित किया। इस अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब पूरी दुनिया कोरोना के प्रकोप से गुजर रही हो, ऐसे समय में हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं और ऐसा नहीं है कि हम इससे अछूते हैं। इस संकट ने हमें नए सबक सिखाये हैं और उसने मौजूदा ताने-बाने को हिला दिया है, जिससे कोरोना के बाद वाले युग में एक नई विश्व व्यवस्था उभरेगी। इसलिए, हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। हमें भारत के लिए मुख्य भूमिका की परिकल्पना करनी चाहिए, जो कोविड के बाद की नई विश्व व्यवस्था में विश्व का नेतृत्व करे। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि आमतौर पर यह कहा जाता है कि 21वीं शताब्दी एशिया की है। एक बार यह फिर महत्त्वपूर्ण हो गया है कि इस शताब्दी में एशिया में भारत की महत्ता पर ध्यान केंद्रित किया जाए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह सही समय है कि हम अपनी दृष्टि 2047 पर रखें, जब देश अपनी आजादी का 100वां वर्ष मना रहा होगा। आज की मौजूदा पीढ़ी उस समय नेतृत्वकारी भूमिका में होगी और उसके हाथों में देश की किस्मत की बागडोर होगी। इसलिए, यह तय करना जरूरी है कि हमें मौजूदा पीढ़ी को इस तरह तैयार करना है कि वह भविष्य में देश के लिये बड़े योगदान कर सके। प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि हमारी मौजूदा पीढ़ी राष्ट्र निर्माण में सार्थक योगदान कर सके, इसके लिए जरूरी है कि हम बेहतर भारत का निर्माण करने के लिए उसे कर्तव्यपरायणता के महत्त्व को हृदयंगम करा दें। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम हमेशा अपने अधिकारों पर अड़े रहते हैं और उनके लिए लड़ते हैं, लेकिन अपने कर्तव्यों का पालन करना उससे भी बड़ी चीज है। जब हम सच्चे मन से अपने कर्तव्यों का पालन करते हैं, तब हम स्वतः दूसरों के अधिकारों को सुनिश्चित बना देते हैं। उन्होंने कहा कि इसलिए हम जब आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, तब कर्तव्यपरायणता हमारी प्रमुख प्राथमिकता तथा देश के लिए सकारात्मक योगदान करने का संकल्प हमारी प्रमुख प्रतिबद्धता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव युवाओं में कर्तव्यपरायणता का बीजारोपण करेगा।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि मौजूदा पीढ़ी नया भविष्य बनाने के जोश से भरी है। लेकिन यह याद रखना होगा कि भविष्य हमेशा अतीत की गोद में पलता है। इसी संदर्भ में हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हमारे पुरखों ने देश के लिये अपनी तरुणाई, जीवन और परिवार त्याग दिया। प्रधानमंत्री ने सभी सदस्यों से आग्रह किया कि जब हम अमृत महोत्सव मनाने के लिए जनभागीदारी सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहे हैं, तो हमें अपने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों तथा गुमनाम महानायकों के प्रति सम्मान व्यक्त करने में भी कोई कसर नहीं छोड़नी है। प्रधानमंत्री ने अंत में कहा कि हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, इस मौके पर हमें 2047 के लिए अपने नये लक्ष्य तय करके आगे बढ़ने पर ध्यान देना चाहिए।

सदस्यों ने “आजादी का अमृत महोत्सव” का आयोजन करने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। सदस्यों ने इस अभियान को और मजबूत बनाने के लिए अपने सुझाव और सलाह भी दी। अपने स्वागत वक्तव्य में गृहमंत्री अमित शाह ने अभियान के लक्ष्यों और पांच स्तंभों का परिचय दिया। आखिर में, अपना अमूल्य समय और सुझाव देने के लिये उन्होंने प्रधानमंत्री और राष्ट्रीय समिति के सदस्यों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की।

राष्ट्रीय समिति के जिन सदस्यों ने बैठक में सुझाव और सलाह दी, उनमें पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा, गुजरात के राज्यपाल आचार्य देवव्रत, केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत, आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, शरद पवार, भारत रत्न लता मंगेशकर, रजनीकान्त, रामोजी राव, व्यापार जगत के एएम नाइक, परमात्मानंद सरस्वतीजी सहित अन्य लोग शामिल थे।

दूसरी बैठक में राष्ट्रीय समिति के विभिन्न सदस्यों ने हिस्सा लिया। बैठक में लोकसभा अध्यक्ष, राज्यपाल, केंद्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, राजनेता, पदाधिकारी, मीडियाकर्मी, आध्यात्मिक गुरु, कलाकार, फिल्मी हस्तियां और जीवन के हर क्षेत्र के गणमान्य लोग शामिल थे। संस्कृति सचिव श्री गोविन्द मोहन ने आजादी के अमृत महोत्सव की गतिविधियों पर प्रजेंटेशन दिया। राष्ट्रीय समिति की पहली बैठक आठ मार्च, 2021 को हुई थी।

Leave a Reply