Home समाचार नेशनल डिजिटल यूनिवर्सिटी भारत की शिक्षा व्यवस्था में अभूतपूर्व कदम : प्रधानमंत्री...

नेशनल डिजिटल यूनिवर्सिटी भारत की शिक्षा व्यवस्था में अभूतपूर्व कदम : प्रधानमंत्री मोदी

480
SHARE

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को शिक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित वेबिनार को संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन के दौरान शिक्षा क्षेत्र पर केंद्रीय बजट के सकारात्मक प्रभाव पर प्रकाश डालते हुए कहा हमारी आज की युवा पीढ़ी, देश के भविष्य का कर्णधार है, वही भविष्य के Nation Builders हैं। इसलिए आज की युवा पीढ़ी को empower करने का मतलब देश के भविष्य को empower करना है। उन्होंने नेशनल डिजिटल यूनिवर्सिटी को भारत की शिक्षा व्यवस्था में अपनी तरह का एक अभूतपूर्व कदम बताते हुए कहा कि ये यूनिवर्सिटी हमारे देश में सीटों की जो समस्या है, उसे पूरी तरह समाप्त कर सकती है।

नई शिक्षा नीति को जमीन पर उतारेगा यह बजट

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि देश की युवा पीढ़ी के भविष्य और देश के भविष्य को देखते हुए 2022 के बजट में शिक्षा क्षेत्र से जुड़ी जिन पांच बातों पर बहुत जोर दिया गया है, उनमें पहला है Universalization of Quality Education। इसके तहत शिक्षा व्यवस्था के विस्तार, उसकी गुणवत्ता सुधारने और एजुकेशन सेक्टर की क्षमता बढ़ाने के लिए अहम निर्णय लिए गए हैं। दूसरा देश में डिजिटल कुशलता का वातावरण बने, तीसरा है शहरीकरण की योजना और उसका डिजाइन, इसके तहत देश के पुरातन अनुभव को आज की शिक्षा में समाहित किया जाना जरूरी है। चैथा है देश में वर्ल्ड क्लास विदेशी यूनिवर्सिटियां आएं। और पांचवां है AVGC- यानि Animation Visual Effects Gaming Comic, जिसे पूरा करने के लिए ध्यान दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह बजट नई नेशनल एजुकेशन पॉलिसी को ज़मीन पर उतारने में भी बहुत मदद करने वाला है।

भविष्य की जरूरतों के लिए तैयार होंगे युवा

पीएम मोदी ने आगे बताया कि नेशनल डिजिटल यूनिवर्सिटी, भारत की शिक्षा व्यवस्था में अपनी तरह का अभूतपूर्व कदम है। डिजिटल यूनिवर्सिटी में देश में सीटों की समस्या को पूरी तरह खत्म करने की ताकत है। उन्होंने कहा कि जब हर विषय के लिए अनलिमिटेड सीट्स होंगी तो आप कल्पना कर सकते हैं कि कितना बड़ा परिवर्तन शिक्षा जगत में आ जाएगा। ये डिजिटल यूनिवर्सिटी लर्निंग और री-लर्निंग की मौजूदा और भविष्य की ज़रूरतों के लिए युवाओं को तैयार करेगी।

Leave a Reply